अवसान / देश की उम्रदराज 103 साल की वीरांगना सायरा बानो का निधन



तस्वीर 21 दिन पहले की है। जब मंडावा विधानसभा चुनाव में 21 अक्टूबर के दिन सायरा बानो वोट डालने पहुंची। दैनिक भास्कर में यह तस्वीर प्रथम पेज पर प्रकाशित हुई थी। तस्वीर 21 दिन पहले की है। जब मंडावा विधानसभा चुनाव में 21 अक्टूबर के दिन सायरा बानो वोट डालने पहुंची। दैनिक भास्कर में यह तस्वीर प्रथम पेज पर प्रकाशित हुई थी।
X
तस्वीर 21 दिन पहले की है। जब मंडावा विधानसभा चुनाव में 21 अक्टूबर के दिन सायरा बानो वोट डालने पहुंची। दैनिक भास्कर में यह तस्वीर प्रथम पेज पर प्रकाशित हुई थी।तस्वीर 21 दिन पहले की है। जब मंडावा विधानसभा चुनाव में 21 अक्टूबर के दिन सायरा बानो वोट डालने पहुंची। दैनिक भास्कर में यह तस्वीर प्रथम पेज पर प्रकाशित हुई थी।

  • निकाह के दिन ही दूसरे विश्व युद्ध में शहीद हुए थे पति, 6 साल बाद पता चला, आधी पेंशन जनहित में देती थीं
  • सायरा बानो ने भारतीय लोकतंत्र में आज तक हुए सभी चुनावों में मतदान किया, 21 अक्टूबर को भी डाला था वोट

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2019, 06:47 AM IST

झुंझनूं. देश की सबसे उम्रदराज 103 साल की वीरांगना धनूरी की सायरा बानो का गुरुवार रात निधन हो गया। शुक्रवार को उन्हें सम्मान सहित सुपुर्दे खाक किया गया। इतनी अधिक उम्र में भी वे एकदम स्वस्थ थी।

 

15 दिन पहले ही उन्होंने परिजनों को एक लाख रुपए देकर कहा था कि यह जरुरतमंदों की मदद के लिए खर्च करना। सुपुर्दे खाक करने से पूर्व धनूरी गांव ने उन्हें खिराजे अकीदत पेश की। जिला सैनिक कल्याण अधिकारी परवेज अहमद, अलसीसर एसडीएम डाॅ. अमित यादव प्रशासन की ओर से उन्हें खिराजे अकीदत पेश करने पहुंचे।

 

निकाह के दिन ही युद्ध में गए पति, कभी शक्ल तक नहीं देखी
सायरा के पति ताज मोहम्मद खान दूसरे विश्व युद्ध में लड़ते हुए शहीद हो गए थे। वे एक ऐसी वीरांगना थी जिन्होंने निकाह के बाद अपने खाविंद का कभी चेहरा तक नहीं देखा, क्योंकि वे निकाह के तत्काल बाद सेना के बुलावे पर ड्यूटी पर चले गए और कभी लौट कर नहीं आए। करीब छह साल बाद पता चला कि वे शहीद हो गए थे। इसके बाद भी सायरा ने पीहर जाना कबूल नहीं किया। जिस खाविंद को देखा तक नहीं था, उसी के नाम से बिता दिया। उनके भांजे के दोहिते फौजी परवेज ने बताया कि इंतकाल से एक दिन पहले तक वे पूरी तरह स्वस्थ थीं।
 

हर चुनाव में मतदान किया, 21 दिन पहले डाला वोट
मंडावा विधानसभा चुनाव में 21 अक्टूबर के दिन सायरा बानो वोट डालने पहुंची। दैनिक भास्कर में उनकी तस्वीर प्रथम पेज पर प्रकाशित हुई थी। दरअसल, सायरा बानो ने भारतीय लोकतंत्र में आज तक हुए सभी चुनावों में मतदान किया। मंडावा में हाल ही में उपचुनाव हुए। उसमें भी वे मतदान करने पहुंची। वे कहा करती थी कि वोट डालना हमारा अधिकार नहीं बल्कि कर्तव्य है और मुझे खुशी है कि मैंने आज तक हर चुनाव में वोट डाला है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना