--Advertisement--

स्वाइन फ्लू: पांच नए मरीज, अब तक 148, एक महिला की मौत से इस साल का आंकड़ा हुआ 25

स्वाइन फ्लू के कारण मरे व्यक्ति की डेड बॉडी को बिना कवर किए देने से स्वाइन फ्लू के संक्रमण की आशंका ज्यादा रहती है।

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 06:08 AM IST

जोधपुर. शहर में स्वाइन फ्लू का प्रकोप बढ़ने के साथ बुधवार को पांच और नए मरीज सामने आए हैं, इनमें चार महिलाएं हैं। इससे इस साल मरीजों का आंकड़ा 148 पहुंच गया है। इधर, बुधवार को 30 वर्षीय बाड़मेर निवासी एक महिला की मौत हो गई। इसके साथ ही इस साल शहर में स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या 25 हो गई है। मृतका उम्मेद अस्पताल में भर्ती थी, उसे स्वाइन फ्लू की पुष्टि के बाद मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

- नई भर्ती हुई महिला रोगियों में एक नागौर और दूसरी चौहाबो जोधपुर निवासी है, दोनों की उम्र 40 साल है। तीसरी महिला 55 साल की और नादड़ा कलां निवासी है, जिसे 26 दिसंबर को एमडीएमएच में भर्ती कराया गया।

- इसके अलावा अरिहंत नगर जोधपुर निवासी 25 वर्षीय महिला को बुधवार को एमडीएमएच में भर्ती कराया गया है। इसके साथ ही एमडीएम अस्पताल में स्वाइन फ्लू के मरीजों के लिए बनाए गए दोनों वार्ड 15 मरीजों के साथ भरे हुए हैं।

मृतक की बॉडी को कवर नहीं करने से संक्रमण की आशंका

- स्वाइन फ्लू वार्ड में मरने वाले व्यक्ति की बॉडी को कवर कर परिजनों को देने के बाद उसका सीधे ही दाह संस्कार किया जाता है। इधर, मथुरादास माथुर अस्पताल में बॉडी को कवर करने वाला स्पेशल कवर नहीं होने से परिजनों को बिना कवर के ही बॉडी दी जा रही है।

- विशेषज्ञ डॉक्टरों का कहना है, कि स्वाइन फ्लू के कारण मरे व्यक्ति की डेड बॉडी को बिना कवर किए देने से स्वाइन फ्लू के संक्रमण की आशंका ज्यादा रहती है। इस वार्ड में नियुक्त नर्सिंग स्टाफ और डॉक्टर के लिए भी अलग से ड्रेस होती है।