--Advertisement--

उपचुनाव: अखिलेश के मायाजाल में फंसी भाजपा, दो सीटें हारी

यूपी, बिहार में 3 लोकसभा सीटों पर उपचुनाव, भाजपा तीनों हार गई

Danik Bhaskar | Mar 15, 2018, 01:26 AM IST
सपा नेता राम गोविंद जीत के बाद मायावती से यूं मिले। सपा नेता राम गोविंद जीत के बाद मायावती से यूं मिले।

लखनऊ. राजस्थान व मप्र में हार के बाद भाजपा को यूपी उपचुनाव में भी हार मिली। यूपी में भाजपा सीएम योगी आदित्यनाथ की गोरखपुर व डिप्टी सीएम केशव मौर्या की फूलपुर सीट हार गई। गोरखपुर से सपा के 29 वर्षीय प्रवीण निषाद ने भाजपा के उपेंद्र शुक्ल को 21 हजार तथा फूलपुर में सपा के नगेंद्र पटेल ने भाजपा के कौशलेंद्र पटेल को 59 हजार वोटों से हराया। सपा को बसपा ने समर्थन दिया था। बिहार में राजद के सरफराज आलम ने अररिया लोकसभा सीट पर भाजपा के प्रदीप सिंह को 61 हजार वोटों से हराया। भभुआ विस. सीट पर भाजपा की रिंकी पांडेय व जहानाबाद सीट पर राजद के सुदय यादव जीते।

#बड़ी हार: गोरखपुर 27 साल से भाजपा का गढ़, 29 साल के प्रवीण की सेंध

- गोरखपुर सीट पर पिछले आठ चुनाव से गोरखनाथ मठ का कब्जा था। योगी आदित्यनाथ यहां से लगातार 5 बार जीते।

- भाजपा को 27 साल में पहली बार यहां हार का सामना करना पड़ा है।

- महंत अवैद्यनाथ 1989, 1991 व 1996 में सांसद रहे। 1989 में हिंदू महासभा के टिकट पर जीते थे।

#आगे क्या: 2019 के चुनाव में सपा व बसपा साथ आ सकती हैं

- 2019 में सपा, कांग्रेस और बसपा मिलकर भाजपा के खिलाफ चुनाव लड़ सकती हैं।

- यदि अभी यूपी में सपा और बसपा के वोटों को मिला दें तो भाजपा की सीटें 73 से घटकर 37 हो जाती हैं।

भास्कर इंटरव्यू: अखिलेश बोले- दबे-कुचलों की ये एकता देश में फैलेगी

Q. इस जीत का सबसे बड़ा कारण क्या मानते हैं?
A. लोग योगी सरकार के कुशासन से त्रस्त हैं। यह मोदी सरकार की अहंकारी नीतियों की हार है। जैसे बसपा, कांग्रेस ने हमें सहयोग किया उससे बड़ी जीत मिली।

Q. तो 2019 में सपा-बसपा-कांग्रेस साथ लड़ेंगे?
A. हम तो मिलकर लड़ ही रहे हैं। इस चुनाव में सबने देखा। हमने नारा दिया कि हमें अपने हिंदू होने पर गर्व है, पर उससे पहले हमें भारतीय होने पर गर्व है। दबे-कुचलों की यह एकता यूपी से पूरे देश में फैलेगी।

Q. आप अपने घर को ही एक नहीं रख पा रहे हैं?
A. सपा पूरी तरह एकजुट है। गोरखपुर में सपा की जीत सिर्फ इसलिए महत्वपूर्ण नहीं है, क्योंकि यह सीएम की सीट थी। इसके अलावा यह भाजपा का गढ़ था।

Q. आपकी अगली रणनीति क्या है?
A. राज्यसभा चुनाव में बेहतर परिणाम देखने को मिलेंगे। 2019 को लेकर सपा की तैयारी शुरू हो चुकी है।

- पीयूष बबेले की अखिलेश यादव से बातचीत