--Advertisement--

एनकाउंट में मार गिराया गो-तस्कर, भाई का कॉल आया तो पुलिस ने कहा- हेलो...

CID सीबी को जांच, गोतस्करों के वाहन में देसी पिस्टल, कारतूस, मृतकभाई ने तालीम के मोबाइल पर कॉल किया, तब हुई शिनाख्त।

Danik Bhaskar | Dec 08, 2017, 01:21 AM IST
गाड़ी के केबिन में पड़ा गोतस्कर का शव, रस्सी व अन्य सामान। गाड़ी के केबिन में पड़ा गोतस्कर का शव, रस्सी व अन्य सामान।

अलवर. शहर की आवारा घूमने वाली गायों को जबरन उठाकर ले जा रहे गो-तस्करों और पुलिस के बीच मुठभेड़ में 22 साल के तालीम खान की मौत हो गई। जबकि उसके 4-5 साथी फरार हो गए। मृतक गो-तस्कर हरियाणा के नूंह मेवात के गांव सालाहेड़ी का निवासी था। घटना के बाद मृतक तालीम के बड़े भाई आबिद ने सुबह करीब 6 बजे तालीम के मोबाइल पर कई बार फोन किए। तब तक तालीम के मोबाइल को पुलिस कब्जे में ले चुकी थी। बार-बार मृतक के मोबाइल पर आबिद का कॉल आने के बाद कोतवाली थानाधिकारी संदीप कुमार ने कॉल रिसीव किया और उन्होंने आबिद को बताया कि मोबाइल टाटा 407 गाड़ी में पड़ा मिला है। इसके बाद आबिद ने फोन काट दिया।

मृतक के घर नूंह मेवात के सालाहेड़ी गांव में मातम

- तालीम की मौत की खबर उसके नूंह (हरियाणा) के सालाहेड़ी स्थित घर खबर पहुंची तो मातम छा गया। पांच भाइयों में मृतक तालीम चौथे नंबर का था। तालीम के दो बच्चे हैं।

- गांव के लोगों को बस यह पता था कि तालीम को पुलिस ने गोली मारी है। ग्रामीणों में घटना को लेकर गुस्सा और अफसोस था।

- उनका कहना था कि गोतस्करी की बात मान भी लें तो कौनसे कानून ने गोली मारने की इजाजत पुलिस को दे दी। दिनभर घर के अहाते में परिवार की महिलाएं बैठी रही।

मृतक का पिता बोला-हमें नहीं पता तालीम कहां गया
- मृतक तालीम बुधवार रात 8.30 बजे तक अपने गांव सालाहेड़ी में था।

- तालीम के पिता शरीफ ने बताया कि हमें यह नहीं पता था कि वह रात को कहां जा रहा है। तालीम अपने जीजा इस्माइल का ट्रक चलाता था।

- परिजनों ने बताया कि सोशल मीडिया पर गांव के युवकों को सबसे पहले घटना का पता चला।

- एसपी राहुल प्रकाश ने बताया कि गोतस्करों ने 3 जगहों पर नाकाबंदी तोड़ते हुए फायरिंग की। पुलिस ने जवाबी फायरिंग में 7 राउंड गोली चलाई।

- उन्होंने बताया कि टाटा 407 में 5 से 6 गोतस्कर सवार थे। इनमें एक की मौत हो गई, शेष फरार हो गए। इनकी तलाश में पुलिस ने सर्च अभियान चलाया। कॉलोनी के लोगों ने भी सहयोग किया, मगर मृतक गोतस्कर के साथियों का सुराग नहीं लग सका।

- एसपी ने बताया कि गोतस्कर घटना स्थल पर अपना वाहन छोड़कर 200 फुट रोड की तरफ कॉलोनी के रास्तों से होकर भागने में सफल हो गए।

मेव पंचायत के संरक्षक ने कहा-पुलिस साबित करे कि मृतक गोतस्कर था, तभी लेंगे शव

- जिला मेव पंचायत के संरक्षक शेर मोहम्मद खान ने पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं।

- उन्होंने कहा कि पुलिस व प्रशासन ने सोची समझी रणनीति के तहत मृतक के शव का पोस्टमार्टम नहीं करवाया है। मृतक के परिजन पोस्टमार्टम के लिए तैयार थे।

- संरक्षक शेर मोहम्मद का कहना था कि मृतक का शव तब तक नहीं उठाया जाएगा, जब तक पुलिस यह साबित नहीं कर देती कि मृतक गोतस्कर था और वे इन गायों को कहां से लाए। उन्होंने मुठभेड़ की न्यायिक जांच कराए जाने की मांग भी की।


ऑल इंडिया मेवाती समाज सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने भी पुलिस कार्रवाई पर उठाए सवाल

- ऑल इंडिया मेवाती समाज सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रमजान चौधरी ने कहा कि मुठभेड़ के नाम पर पुलिस किसी की गोली मार कर हत्या नहीं कर सकती है।

- उन्होंने कहा कि बड़ा सवाल है कि मुठभेड़ के दौरान फायरिंग में सिर्फ गोतस्कर को गोली लगी, किसी पुलिसकर्मी को चोट नहीं आई, यह कैसे हो सकता है।

इनका कहना...
गो-तस्कर इंदिरा गांधी स्टेडियम के पास से आवारा घूमने वाले गोवंश को टाटा 407 गाड़ी में लाद कर ले जा रहे थे। पुलिस ने नाकाबंदी की तो गोतस्करों ने नाकाबंदी तोड़ते हुए पुलिस पर फायरिंग की। मुठभेड़ के दौरान जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी गोतस्करों पर फायरिंग की। इसमें एक गोतस्कर की मौत हो गई। मृतक के अन्य साथियों की पहचान करने के साथ उनकी तलाश की जा रही है।
- राहुल प्रकाश, एसपी, अलवर

लोडिंग गाड़ी में भरा गोवंश। लोडिंग गाड़ी में भरा गोवंश।
अलवर. मुठभेड की घटना के बाद मौके पर जमा हुए लोग। अलवर. मुठभेड की घटना के बाद मौके पर जमा हुए लोग।
अलवर. मुठभेड़ की घटना के बाद सुबह 5.30 बजे जिला कलेक्टर राजन विशाल एसपी राहुल प्रकाश से जानकारी लेते हुए। अलवर. मुठभेड़ की घटना के बाद सुबह 5.30 बजे जिला कलेक्टर राजन विशाल एसपी राहुल प्रकाश से जानकारी लेते हुए।
अलवर. शहर की जनता कॉलोनी में पुलिस से मुठभेड़ के बाद खड़ा गोस्तकरों का वाहन और मौके पर मौजूद कॉलोनी के लोग। अलवर. शहर की जनता कॉलोनी में पुलिस से मुठभेड़ के बाद खड़ा गोस्तकरों का वाहन और मौके पर मौजूद कॉलोनी के लोग।
गोतस्करों की गाड़ी में पड़े पत्थर और रस्सी। गोतस्करों की गाड़ी में पड़े पत्थर और रस्सी।
मृतक तालीम। मृतक तालीम।
मृतक का पिता शरीफ मृतक का पिता शरीफ
मृतक तालीम के नूंह मेवात के सालाहेड़ी गांव स्थित घर के बाहर जमा लोग। मृतक तालीम के नूंह मेवात के सालाहेड़ी गांव स्थित घर के बाहर जमा लोग।