--Advertisement--

टायर फटा तो स्कूल में घुसा ट्रोला, 23 दिन पहले ही बताया था बच्चों को है खतरा

लापरवाही से हादसा: हाईवे पर हजारीखेड़ा के पास सुबह 4 बजे ट्रोला अनियंत्रित हुआ

Danik Bhaskar | Jan 07, 2018, 10:35 PM IST

भीलवाड़ा. हाईवे बाइपास पर मांडल-मंडपिया के बीच हजारी खेड़ा के राजकीय प्राथमिक स्कूल की दीवार से शनिवार सुबह 4 बजे ट्रोला टकरा गया। चारदीवारी तोड़ते हुए ट्रोला मुख्य बिल्डिंग तक चला गया। टक्कर से एक कमरे की दीवार व छत क्षतिग्रस्त हो गई। गनीमत रही कि स्कूल बंद था। प्रधानाध्यापक राजेश शर्मा ने बताया कि उन्हें सुबह 7 बजे के करीब सूचना मिली। पुर थाने में ड्राइवर के खिलाफ रिपोर्ट दी गई है।

संस्था प्रधान 13 नंवबर को दी थी सूचना

- 50 बच्चों के नामांकन वाले हजारी खेड़ा स्कूल के संस्था प्रधान ने 13 नवंबर को ही पीईईओ के माध्यम से विभाग को सूचित किया था।

- इसके बाद भी न तो शिक्षा विभाग के अधिकारी हरकत में आए न राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के। यह हाईवे सिक्सलेन है। सिक्सलेन विद्यालय की दीवार से सेट कर निकलेगा।

- इस संबंध में एनएचएआई के प्रोजेक्ट ऑफिसर एचके भट्ट ने पिता के अस्प्ताल में भर्ती होने की कहते हुए फिलहाल कोई बात करने से इनकार किया है।

भास्कर ने 16 दिसंबर को ही कर दिया था आगाह

- दैनिक भास्कर में 16 दिसंबर को यहां के बच्चों की सुरक्षा को लेकर खबर प्रकाशित की थी।
- बताया था कि स्कूल सिक्सलेन की जद में है और इससे बच्चों की जान काे जोखिम है।
- शिक्षा विभाग ने एनएचएआई में वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत नहीं की। न ही इस स्कूल को शिफ्ट करने का इंतजाम किया।

हजारी खेड़ा प्राथमिक स्कूल की दीवार से सटकर निर्माण होने व इससे हादसे की आशंका पर विभाग को पत्र लिखा था। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।
- नारायणलाल जागेटिया, पीईईओ आटूण