Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Axis Bank Loot Attempt Accused Arrested By Jaipur Police

Axis Bank: हवाला कारोबारी समझ लूटने आए थे, फायरिंग हुई तो पता चला बैंक है

बैंक डकैती के प्रयास के दो आरोपी और गिरफ्तार

Bhaskar News | Last Modified - Feb 13, 2018, 05:51 AM IST

Axis Bank: हवाला कारोबारी समझ लूटने आए थे, फायरिंग हुई तो पता चला बैंक है

जयपुर. सी-स्कीम रमेश मार्ग स्थित एक्सिस बैंक में 926 करोड़ रु. की डकैती का प्रयास करने वाले दो और आरोपियों को जयपुर कमिश्नरेट की क्राइम ब्रांच ने रविवार देर रात जैसलमेर से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी विकास चौधरी झुंझुनूं व हरीश विश्नोई जोधपुर का है। आरोपी विकास को यह जानकारी नहीं थी कि उसकी टैक्सी कार में जो बैठे है, वे डकैती करने वाले बदमाश हैं। विकास वारदात के बाद जैसलमेर में स्थित सम में जाकर छुप गया था। पुलिस अब तक इस मामले में 8 जनों को गिरफ्तार कर चुकी है, जबकि 8 बदमाश अभी भी फरार है। उनमें से 2 जयपुर के हैं।


क्राइम ब्रांच की प्रारंभिक जांच में सामने आया कि सरगना हनुमान लादेन व पवन जाटिया ने एक माह से जयपुर के रहने वाले दो बदमाशों के साथ मिलकर एक्सिस बैंक में डकैती की योजना बना रहे थे। इसके लिए आरोपियों ने लूट करने वाले बदमाशों को गिरोह में शामिल किया। बदमाशों को हनुमान व पवन ने जयपुर में हवाला की करोड़ों की राशि लूटने की बात कही। सभी आरोपी एक इनोवा व स्विफ्ट डिजायर से जयपुर से आए थे। आरोपी बैंक में घुसे और गार्ड प्रमोद कुमार को बंधक बना लिया। इसके बाद पूछा कि अंदर कौनहै तो उसने जवाब दिया पुलिस है। तब पता चला कि यह हवाला कारोबारी का ऑफिस नहीं एक बैंक है। इस दौरान ही फायरिंग होने से बदमाश भाग गए।

कार के नंबर के आधार पर बदमाशों तक पहुंची पुलिस, पांच दिन रिमांड पर
डीसीपी क्राइम विकास पाठक ने बताया कि वारदात के बाद अशोकनगर थाने में कांस्टेबल सीताराम ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। आरोपियों को पकड़ने के लिए इंस्पेक्टर मुकेश चौधरी, एसआई धर्म सिंह व कांस्टेबल भूराराम समेत अन्य पुलिसकर्मियों की टीम बनाई। टीमों ने टोल नाकों पर लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला तो बदमाश इनोवा व स्विफ्ट डिजायर कार से आते दिखे। इनोवा कार पर लगी नंबर प्लेट भी फर्जी थी, जो नंबर लगाए गए थे, वह कार औरंगाबाद में थी। ऐसे में पुलिस ने स्विफ्ट डिजायर कार के नंबर के आधार पर उसके मालिक विकास का पता लगाया। उसके मोबाइल की कॉल डिटेल व लोकेशन उस पर घटनास्थल की थी। इस आधार पर गिरोह में शामिल सभी बदमाशों की पुलिस को भनक लग गई और जोधपुर पुलिस के साथ मिलकर 8 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया, जहां से सभी को 5 दिन के पुलिस रिमांड पर सौंप दिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×