जयपुर

--Advertisement--

भास्कर स्टिंग: पथरी नहीं थी फिर भी तांत्रिक ने ‌300 रुपए लेकर पथरी निकाली

किडनी की पथरी हाथ में थमाने का सच

Danik Bhaskar

Mar 14, 2018, 02:37 AM IST

अलवर. सावधान, ढोल मजीरों की आवाज के साथ बंदर की तरह कूदने वाले एक बाबा को यहां देवता आते हैं और आपकी किडनी में मौजूद पथरी को वह मुंह से निगल देता है। यह कथित चमत्कार शहर से करीब 32 किमी दूर इंदोक गांव में बाबा नारायण मीणा पिछले 8 साल से कर रहा है। पथरी के नाम पर बाबा मुंह में पहले से ही भर रखे कंकर के पीस पुड़िया में बांधकर देता है। इससे पहले बाबा भूत प्रेम उतारता था। इस पथरी के कथित इलाज का भंडा फोड़ किया दैनिक भास्कर के दो रिपोर्टरों ने। ये रिपोर्टर एक मरीज की सोनोग्राफी करवाकर ले गए और एक स्वयं भी मरीज बना। बाबा ने दोनों की पथरी निकालकर कंकर थमा दिया। दुबारा जांच करवाई तो सच सामने आया। यह बाबा मरीज से 300 रुपए फीस और 120 रुपए प्रसाद के रूप में वसूल रहा है। प्रसाद भी उसके परिवार के सदस्य ही बेचते हैं। इस खेल में आठ से दस लोग शामिल हैं। विजय

1. पथरी पुड़िया में दी, जांच में पता लगा किडनी में ही है : राजगढ़ के थाना राजाजी गांव निवासी बबली सैनी ने 10 मार्च को सोनोग्राफी कराई तो दोनों किडनियों में पथरी बताई। रिपोर्ट तांत्रिक को दिखाई तो उसने 3 पथरि निकालकर थमा दी। 13 मार्च को फिर से सोनोग्राफी कराई तो दोनों किडनियों में पथरी मिली ।

2. पथरी निकलवाने के खेल में भास्कर का रिपोर्टर शामिल : जब भास्कर रिपोर्टर का नंबर आया तो सोनोग्राफी की रिपोर्ट मांगी गई। रिपोर्टर ने कहा कि वह सोनोग्राफी रिपोर्ट घर पर भूल अाया है। इस पर बाबा के चेले ने पूछने पर रिपोर्टर ने 6.5 एमएम की पथरी बताई। चंद सेकंड में उसे भी तांत्रिक ने मुंह से एक बड़ा कंकड़ उगल दिया।

एक साल तक की जेल का है प्रावधान
औषधि और जादुई उपचार अधिनियम 1954 (आपत्तिजनक विज्ञापन) व औषधि प्रसाधन अधिनियम 1940 के अंतर्गत जादू-टोना, चमत्कार से इलाज करना प्रतिबंधित है। ऐसा करने पर स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग इन पर सीधे कार्रवाई कर सकते हैं। पहली बार पकड़े जाने पर छह महीने और दूसरी बार पकड़े जाने पर एक साल तक की सजा का प्रावधान है।

Click to listen..