Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Congress Turned Towards Soft Hindutva

साॅफ्ट हिंदुत्व की ओर बढ़ी कांग्रेस, राजस्थान के धार्मिक स्थलों की सूची मांगी

चुनावी साल में कांग्रेस नेता पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को करा सकते हैं राज्य के मंदिरों का दर्शन, पार्टी को भा रही मंदि

Bhaskar News | Last Modified - Jan 02, 2018, 04:10 AM IST

  • साॅफ्ट हिंदुत्व की ओर बढ़ी कांग्रेस, राजस्थान के धार्मिक स्थलों की सूची मांगी
    +1और स्लाइड देखें
    गुजरात के एक मंदिर में राहुल गांधी। साथ में है अशोक गहलोत।

    जयपुर. गुजरात चुनाव के दौरान राहुल गांधी के मंदिर दर्शन की पॉलिटिक्स को जनता ने पसंद किया। कांग्रेस अब राजस्थान में इसे और आगे बढ़ाने जा रही है। यहां इसी साल असेंबली इलेक्शन होने वाले हैं। ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (AICC) ने राजस्थान और कर्नाटक समेत कई राज्यों की टूरिस्ट और रिलीजियस महत्व वाली जगहों की लिस्ट स्टेट यूनिट से मांगी है। माना जा रहा है कि इसके जरिए कांग्रेस अब हिंदुओं में अपना खोया जनाधार वापस पाने की कोशिश करेगी। बता दें कि राहुल गुजरात चुनाव के दौरान 27 मंदिरों में गए थे। इन इलाकों में रैलियां भी कीं। गुजरात की करीब 87 सीटें मंदिरों से प्रभावित मानी जाती हैं। कांग्रेस को इनमें से 47 पर जीत मिली।

    उपचुनाव में प्रचार कर सकते हैं राहुल

    - विधानसभा चुनाव के दौरान राहुल गांधी सहित राज्य के बड़े कांग्रेसी नेताओं को राजस्थान में मंदिर और दूसरी धार्मिक जगहों के दर्शन कराए जाएंगे।

    - राहुल गांधी इस महीने हो रहे दो लोकसभा और एक विधानसभा उपचुनावों मेें प्रचार के लिए आ सकते हैं। इस दौरान भी इस तरीके को लागू किया जा सकता है।

    - राहुल गांधी के सलाहकारों का फोकस ऐसे मंदिरों पर है, जिनकी बड़ी धार्मिक मान्यता है।

    राजस्थान के बड़े मंदिर

    - बड़े मंदिरों में चित्तौडगढ के सांवलियाजी, राजसमंद के चारभुजाजी, नाथद्वारा में श्रीनाथजी, पुष्कर के ब्रह्मा मंदिर, बांसवाड़ा के त्रिपुरा सुंदरी, करौली में मदनमोहनजी, कैलादेवी, सालासार बालाजी, बीकानेर जिले के जंभेश्वर मंदिर, देशनोक करणी माता, अलवर जिले के भृर्हतरी मंदिर और जयपुर के गोविंददेवजी मंदिर शामिल हैं। इन मंदिरों पर कांग्रेस नेता फोकस कर सकते है।

    क्या कहते हैं राजस्थान कांग्रेस के नेता?

    - कांग्रेस नेताओं का कहना है कि AICC ने पहली बार मंदिरों के बारे में जानकारी मांगी है। राजस्थान के बड़े मंदिरों की राज्य ही नहीं देश भर में मान्यता है, गुजरात की तरह मंदिर दर्शन की राजनीति इस बार के चुनावों में जरूर देखने को मिलेगी। राजस्थान के बड़े मंदिरों का ब्यौरा मांगने के पीछे यही स्ट्रैटेजी मानी जा रही है।

    - राजस्थान कांग्रेस के वाइस प्रेसिडेंट मुमताज मसीह ने कहा- हाईकमान की ओर से धार्मिक स्थलों, पर्यटन स्थलों, ऐतिहासिक महत्व वाले स्थलों की सूचना मंगाई गई है। इसकी सूचना तैयार करके केंद्रीय नेतृत्व को भेज दी जाएगी।

    राजस्थान में सीटों का गणित

    - राजस्थान विधानसभा में कुल 200 सीटें हैं। फिलहाल, 163 बीजेपी और सिर्फ 21 कांग्रेस के पास हैं।

    गुजरात चुनाव के दौरान 27 मंदिरों में गए थे राहुल

    - गुजरात में पिछले महीने ही असेंबली इलेक्शन हुए। 2012 के मुकाबले कांग्रेस ने 2017 में 16 सीटें ज्यादा जीतीं। उसे कुल 77 सीटें मिलीं।
    - राहुल ने गुजरात में 85 दिन कैम्पेन किया। कांग्रेस की नई स्ट्रैटेजी के तहत वो कुल 27 मंदिरों में गए। इन इलाकों में रैलियां भी कीं। गुजरात की करीब 87 सीटें मंदिरों से प्रभावित मानी जाती हैं। कांग्रेस को इनमें से 47 पर जीत मिली।

  • साॅफ्ट हिंदुत्व की ओर बढ़ी कांग्रेस, राजस्थान के धार्मिक स्थलों की सूची मांगी
    +1और स्लाइड देखें
    गुजरात चुनाव के दौरान कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी राज्य के 27 मंदिरों में गए थे।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×