--Advertisement--

विमान से सामान उतारते वक्त कर्मचारी घायल, क्लिनिक पर ताला मिला; एंबुलेंस भी लॉक

हमारे अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्‌डे का सच

Danik Bhaskar | Jan 26, 2018, 05:40 AM IST

जयपुर. जयपुर एयरपोर्ट भले ही इंटरनेशनल एयरपोर्ट का दर्जा हासिल कर चुका हो, लेकिन वास्तविकता में हमारा एयरपोर्ट सुविधाओं के मामले में कितना अंतरराष्ट्रीय है इसकी पोल गुरुवार को खुल गई। विमान से सामान उतारते समय एयर इंडिया का एक कर्मचारी गंभीर रूप से घायल हो गया। विमानन कंपनी की ओर से कोई डॉक्टर उपलब्ध नहीं था, कर्मचारी को एयरपोर्ट परिसर में बने मेडिकल रूम में ले जाया गया तो यहां भी ताला लगा मिला। जब उसे एयरपोर्ट की एंबुलेंस से अस्पताल ले जाने की तैयारी की गई तो पता चला कि एंबुलेंस को लॉक कर चालक कहीं गायब था। अंतत: कर्मचारी को निजी कार में जयपुरिया अस्पताल ले जाया गया। एयरपोर्ट डायरेक्टर ने इस मामले में टर्मिनल मैनेजर से रिपोर्ट मांगी है।


घटना गुरुवार दोपहर की है। एयर इंडिया की फ्लाइट से सामान उतारते समय लोडिंग से जुड़े कंपनी के एक कर्मचारी शिवराज का सीढ़ियों पर पैर फिसल गया। गिरने से उसकी आंख के पास गंभीर चोट लग गई। शिवराज को एयरपोर्ट परिसर में बने मेडिकल रूम में लाया गया, मगर वहां ताला लगा मिला। काफी देर इंतजार करने के बाद भी कोई डॉक्टर या मेडिकल स्टाफ उपलब्ध नहीं हो पाया। इसके बाद लोगों ने उसे एयरपोर्ट की एंबुलेंस से अस्पताल ले जाना चाहा तो पोर्च में खड़ी एंबुलेंस को लॉक कर उसका चालक कहीं गायब था।

विमानन कंपनी को रखना चाहिए डॉक्टर
नियमत: जिन विमानन कंपनियों की इंटरनेशल फ्लाइट्स संचालित होती हैं उन्हें एयरपोर्ट पर एक डॉक्टर तैनात रखना होता है। मगर सूत्रों के मुताबिक एयर इंडिया ने कोई डॉक्टर नियुक्त नहीं किया है। इस विषय में एयरलाइन प्रबंधन का कहना है कि डॉक्टर रखने की जिम्मेदारी विमानन कंपनी की नहीं होती। सिर्फ अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट्स के दौरान केबिन क्रू की जांच के लिए डॉक्टर बुलाए जाते हैं। इसके अलावा यदि कोई मेडिकल इमरजेंसी हो तो इसकी जिम्मेदारी एयरपोर्ट प्रबंधन की ही होती है।


एयरपोर्ट डायरेक्टर ने जताया खेद
एयरपोर्ट डायरेक्टर जेएस बलहारा ने इस पूरे प्रकरण पर खेद जताते हुए कहा कि उन्होंने मामले की जांच के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि घटना के समय मौजूद टर्मिनल मैनेजर से रिपोर्ट तलब की गई है।