Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Ex Cm Congress Leader Ashok Gehlot Interview After Gujarat Election Results

भास्कर इंटरव्यू: क्या गुजरात के परिणाम का असर राजस्थान चुनाव पर होगा

गुजरात चुनाव का राजस्थान पर असर पर बोले गहलोत-यहां स्थितियां अलग हैं...कांग्रेस की जरूर जीत होगी

श्रवण सिंह राठौड़ | Last Modified - Dec 19, 2017, 08:45 AM IST

  • भास्कर इंटरव्यू: क्या गुजरात के परिणाम का असर राजस्थान चुनाव पर होगा
    +1और स्लाइड देखें
    गुजरात चुनाव का राजस्थान पर असर पर बोले गहलोत-यहां स्थितियां अलग हैं...कांग्रेस की जरूर जीत होगी।

    नई दिल्ली. राजस्थान के पूर्व सीएम अशोक गहलोत का दावा है गुजरात चुनावों में कांग्रेस ने मोदी और अमित शाह को घुटने टेकने को मजबूर करते हुए 99 सीटों पर समेट दिया। अमित शाह तो 150 सीटों का दंभ भर रहे थे, लेकिन 100 के अंदर रह गए। गहलोत ने कहा कि गुजरात चुनाव परिणामों का राजस्थान में कोई असर नहीं होगा। क्योंकि राजस्थान में तो भाजपा के हारने की लहर चल रही है। गहलोत ने 3 हजार से कम अंतर से कांग्रेस के हारने वाली 30 सीटों पर चुनाव आयोग से ईवीएम के वीपीपै की गणना करवाने की मांग रखी। गुजरात चुनाव परिणाम के बाद दैनिक भास्कर ने गहलोत से बातचीत की...।

    अगले साल राजस्थान विधानसभा चुनावों पर गुजरात फैक्टर
    - कांग्रेस ने गुजरात में अच्छे ढंग से कैंपेन किया। राहुल गांधी की यात्रा के दौरान गुजरात में इंदिरा गांधी के जमाने के जैसा माहौल महसूस किया। लोगों का भारी समर्थन मिला। राहुल गांधी की पूरे देश में हवा बन गई। मोदी की लोकप्रियता एकदम से गिर गई। हमें विश्वास था कि कांग्रेस की सरकार बन जाएगी। कांग्रेस ने मुद्दों के आधारित चुनाव लड़ा, जबकि मोदी ने भावनात्मक तरीके से भरमाने का काम किया। अमित शाह मिशन 150 का दम भरते थे, लेकिन 100 के अंदर सिमट गए। गुजरात में ये 1995 के बाद पहली बार हुआ है। हालात बता रहे हैं दूसरे राज्यों में होने वाले कांग्रेस की स्थिति मजबूत रहेगी।


    उपचुनाव की जगह गुजरात की बात करें

    - राजस्थान में जल्द होने वाले उपचुनाव में अजमेर से कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट और अलवर से जितेंद्र सिंह को चुनाव लड़ने पर गहलोत का कहना था कि राजस्थान में अभी उपचुनाव घोषित तक नहीं हुए हैं, तो फिर अभी ये विषय कहां से गया। आज तो सिर्फ गुजरात विधानसभा चुनावों के बारे में ही बात की जाएगी।

    - राजस्थान सरकार हर मोर्चे पर विफल है। इस तरह की घटनाएं बेहद दुखद हैं। प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज ही नहीं है। प्रदेश में कोई भी वर्ग खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा है। रोजागर के मुद्दे पर सरकार की विफलता के चलते भी युवावर्ग गलत रास्ते पर जा रहा है। यहां के लोग समझदार है। जो सामाजिक सदभाव में विश्वास करते है।


    भास्कर : गुजरात के परिणाम के राजस्थान के लिए क्या मायने हैं?
    गहलोत :राजस्थानमें भाजपा के हारने की लहर है। गुजरात के परिणामों का राजस्थान में असर नहीं होगा। राजस्थान की जनता त्रस्त है। वसुंधरा सरकार के खिलाफ नाराजगी है। कांग्रेस सरकार ने जो विकास योजनाएं शुरू की थीं, वो ठप हैं। रिफाइनरी नहीं लगने से प्रदेश को नुकसान हुआ है।


    भास्कर: राहुल गांधी कहते थे कि गब्बर सिंह टैक्स से व्यापारी नाराज हैं? सूरत में तो भाजपा की एक तरफा जीत हुई है?
    गहलोत :
    कांग्रेसने जीएसटी को मुद्दा बनाया। जनता की लड़ाई लड़ी। मोदी सरकार को जीएसटी स्लैब में बदलाव करना पड़ा। मोदी सरकार शुरू से ही सीबीआई, ईडी, आयकर विभाग, पुलिस समेत विभिन्न

    एजेंसियों का दुरुपयोग करके व्यापारियों और विरोधियों को दबा रही है। व्यापारियों में यह भय का माहौल था कि भाजपा को वोट नहीं दिया तो कार्रवाई हो सकती है।

    भास्कर: गुजरात में कांग्रेस ने किसी को चेहरा घोषित नहीं किया? शक्ति सिंह गोहिल, अर्जुन मोढ़वाडिया, सिद्धार्थ पटेल समेत कई दिग्गज हार गए?
    गहलोत : कांग्रेसके बड़े नेताओं के हारने का दुख है। पर सच्चाई है भाजपा के बड़े नेताओं ने व्यक्तिगत द्वेष रखते हुए कांग्रेस के बड़े नेताओं को टारगेट कर रखा था। हमारे वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी हित को प्राथमिकता दी।


    भास्कर: गुजरात में आप और राहुल गांधी मंदिर गए, जनेऊ धारी हिंदू तो कभी हार्दिक, अल्पेश और जिग्नेश के जरिए जातिय प्रबंधन पर जोर दिया ? क्या इसका फायदा मिला ?
    गहलोत :
    मोदीबार- बार बयान देकर चुनावों में धर्म के आधार पर ध्रुवीकरण करने का पूरा जोर लगाया, लेकिन गुजरात की जनता ने उनको नकार दिया। कांग्रेस के लिए धर्म आस्था का विषय है, राजनीति का नहीं।


    भास्कर: भाजपा ने कहा गुजरात में 22 साल के विकास की जीत हुई?
    गहलोत : गुजरातमें कांग्रेस ने चुनाव हारा नहीं है। हमने 80 सीटों पर जीत दर्ज की, 3 सीटों पर हमारे समर्थक जीते। वहां 30 ऐसी सीटें है, जहां से 3 हजार से भी कम अंतर पर चुनाव हारी है।

  • भास्कर इंटरव्यू: क्या गुजरात के परिणाम का असर राजस्थान चुनाव पर होगा
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×