--Advertisement--

BJP विधायक बोले- मंत्री जसवंत ऐसे मेंटल, जिनका इलाज जयपुर में संभव नहीं

उपचुनाव में भाजपा की हार पर अंदरूनी कलह अब तल्ख-बयानी में बदली

Danik Bhaskar | Feb 14, 2018, 07:13 AM IST
जसवंत ने भाजपा की जगह बनवा दिया था कांग्रेस का जिला प्रमुख : आहूजा जसवंत ने भाजपा की जगह बनवा दिया था कांग्रेस का जिला प्रमुख : आहूजा

जयपुर. तीन सीटों पर उपचुनाव में हार का दर्द भाजपा में अब अलग-अलग रूपों में सामने आने लगा है। तल्खबयानी का आलम यह है कि शब्द मर्यादाओं की सीमाएं लांघ रहे हैं। दो दिन पहले विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने हार के लिए नेतृत्व व श्रम मंत्री डॉ. जसवंत यादव को जिम्मेदार बताया था। अब मंत्री ने पलटवार किया है। डॉ. जसवंत का कहना है कि आहूजा की दिमागी हालत ठीक नहीं है, उन्हें मनोचिकित्सक को दिखाना चाहिए। उधर, आहूजा ने कहा कि यादव ऐसे मेंटल हैं, जिनका इलाज जयपुर में संभव नहीं। काबिलेगौर है कि अजमेर-अलवर लोकसभा की हार के पीछे भाजपा में चल रहे संघर्ष को ही जिम्मेदार माना जा रहा है। आहूजा कह चुके हैं कि अलवर में पहले उन्हें टिकट देने के लिए कहा गया था, लेकिन ऐनवक्त पर जसवंत को टिकट दे दिया। हार पर भाजपा की यह अंदरूनी रार आने वाले दिनों में और तल्ख रूप ले सकती है।

Q. जसवंत यादव ने कहा है कि आपकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है?
A.
जसवंत यादव चुनाव हारने के बाद मेंटल हो गए हैं। उनका इलाज जयपुर के मेंटल हॉस्पिटल में संभव नहीं है। उन्हें आगरा ले जाना पड़ेगा। मैं ही आगरा लेकर जाऊंगा।

Q. यादव कह रहे हैं कि आपके क्षेत्र में 35 हजार वोटों से हारे?
A. बहरोड़ की जनता ने ही 25 हजार वोटों से हराकर उन्हें पागल घोषित कर दिया। जो मंत्री रहते हुए दो लाख वोटों से हार जाए, जिनके क्षेत्र में मुख्यमंत्री की सभा में 4 हजार लोग भी नहीं आएं, वो अब अपनी हार का ठीकरा दूसरों पर फोड़ रहे हैं।


Q. यादव के हारने की क्या वजह थी?
A.
वो अपनी कमियों से हारे। जनता उनके काम से नाराज थी। जो 4 बार रंग बदल चुके, 4 बार दल बदल चुके, उन्हें जनता क्यों वोट देगी। जिला प्रमुख के चुनाव में भाजपा के 29 पार्षद थे, उन्होंने भाजपा पार्षदों को तोड़कर 19 पार्षदों वाली कांग्रेस का जिला प्रमुख बना दिया।

मैं डॉक्टर हूं, जानता हूं आहूजा को साइकेट्रिक की जरूरत : जसवंत

Q. आहूजा कह रहे हैं कि आपको टिकट देना ही गलत था?
जवाब: गलत था तो पहले क्यों नहीं बोले। रामगढ़ की मीटिंग में तो खुद कहा था कि हम आपकी जीत के लिए जान लगा देंगे। जिनके क्षेत्र में

पार्टी 35 हजार वोटों से हारी, वो अब किस मुंह से टिकट पर सवाल उठा रहे हैं।

Q. पार्टी की आंतरिक कलह से हारे?
पार्टी एक थी। हम जनता का मानस नहीं समझ पाए। हार की जिम्मेदारी मेरी स्वयं की ही है।

Q. आहूजा कह रहे हैं कि उनका टिकट काटकर आपको दिया गया?
ये बात आहूजा चुनाव से पहले कहते। यह तो आलाकमान का फैसला था कि किसे टिकट देना है, किसे नहीं।

Q. आप आहूजा के निशाने पर क्यों हैं?
मैं फिजिशियन हूं। समझता हूं कि ऐसी बातें करने वाले की मानसिकता कैसी होती है। आहूजा को अच्छे साइकेट्रिक की जरूरत है। मैं उन्हें दिखाने में मदद कर सकता हूं।

Q. आपका विरोध हार का कारण बना?
मैंने तो टिकट मांगा नहीं था, पार्टी ने ही चुनाव लड़ने को कहा। विरोध होता तो पार्टी मुझे यह जिम्मा क्यों देती?

Q. हार के बाद आपके मंत्री पद से इस्तीफे की मांग उठ रही है?
मैं इस्तीफा क्यों दूं। राहुल गांधी दो राज्यों का चुनाव हार चुके और दो राज्यों में और हारने वाले हैं। पहले वो इस्तीफा देकर परंपरा निभाएं। इसके बाद मैं भी दे दूंगा इस्तीफा।

मैं डॉक्टर हूं, जानता हूं आहूजा को साइकेट्रिक की जरूरत : जसवंत मैं डॉक्टर हूं, जानता हूं आहूजा को साइकेट्रिक की जरूरत : जसवंत

Q. आहूजा कह रहे हैं कि आपको टिकट देना ही गलत था?  
जवाब: गलत था तो पहले क्यों नहीं बोले। रामगढ़ की मीटिंग में तो खुद कहा था कि हम आपकी जीत के लिए जान लगा देंगे। जिनके क्षेत्र में

पार्टी 35 हजार वोटों से हारी, वो अब किस मुंह से टिकट पर सवाल उठा रहे हैं।  

 

Q. पार्टी की आंतरिक कलह से हारे?
पार्टी एक थी। हम जनता का मानस नहीं समझ पाए। हार की जिम्मेदारी मेरी स्वयं की ही है। 

 

Q. आहूजा कह रहे हैं कि उनका टिकट काटकर आपको दिया गया? 
ये बात आहूजा चुनाव से पहले कहते। यह तो आलाकमान का फैसला था कि किसे टिकट देना है, किसे नहीं।  

 

Q. आप आहूजा के निशाने पर क्यों हैं? 
मैं फिजिशियन हूं। समझता हूं कि ऐसी बातें करने वाले की मानसिकता कैसी होती है। आहूजा को अच्छे साइकेट्रिक की जरूरत है। मैं उन्हें दिखाने में मदद कर सकता हूं।  

 

Q. आपका विरोध हार का कारण बना? 
मैंने तो टिकट मांगा नहीं था, पार्टी ने ही चुनाव लड़ने को कहा। विरोध होता तो पार्टी मुझे यह जिम्मा क्यों देती?

 

Q. हार के बाद आपके मंत्री पद से इस्तीफे की मांग उठ रही है?   
मैं इस्तीफा क्यों दूं। राहुल गांधी दो राज्यों का चुनाव हार चुके और दो राज्यों में और हारने वाले हैं। पहले वो इस्तीफा देकर परंपरा निभाएं। इसके बाद मैं भी दे दूंगा इस्तीफा।