Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Forced To Come Into The City From The Jungle

प्रोजेक्ट लेपर्ड : असुरक्षित बघेरे भोजन की तलाश में जंगल से शहर में आने को मजबूर

सामान्य नजर आने वाली घटना के पीछे वही कारण छुपे हैं, जिन्हें वन विभाग दूर नहीं कर पा रहा।

bhaskar news | Last Modified - Dec 30, 2017, 08:18 AM IST

  • प्रोजेक्ट लेपर्ड : असुरक्षित बघेरे भोजन की तलाश में जंगल से शहर में आने को मजबूर
    +1और स्लाइड देखें

    जयपुर.मुख्यमंत्री की ओर से ‘प्रोजेक्ट लेपर्ड’ की घोषणा करके इस वन्यजीव की सुरक्षा के लिए जो गंभीरता दिखाई थी, वह अफसरों की लापरवाही और फैलियर के चलते सवालों में है। महीनेभर में जंगलों से पैंथर के शहर में आने और हताहत होने की तीन बड़ी घटनाएं हो चुकी हैं। शुक्रवार को भी झालाना से निकलकर एक बघेरा जगतपुरा क्षेत्र के राजीव नगर स्थित एक निर्माणाधीन मकान में आ घुसा। जिसे ट्रंकुलाइज करके वापस झालाना छोड़ा गया। देखने में एकबारगी सामान्य नजर आने वाली घटना के पीछे वही कारण छुपे हैं, जिन्हें वन विभाग दूर नहीं कर पा रहा।


    लेपर्ड प्रोजेक्ट की शुरुआत में ही झालाना में पैंथरों की बढ़ती आबादी के लिए ‘प्रेबेस’ (उसका भोजन, जिसमें सांभर, चीतल, वाइल्ड बोर आदि) बढ़ाने की बात शामिल थी, जिसके लिए कई बैठकों में निर्णय भी लिए गए। प्रेबेस लाने के साथ ही उसके लिए ग्रास लैंड आदि बढ़ाए जाने चाहिए थे, लेकिन वन विभाग ‘बगैर पैसे’ वाले इस काम को नहीं कर पाया। वहीं उनका ध्यान टूरिज्म और उस दीवार को बनाने पर है, जिसके बनने के बाद भी पैंथर को बाहर आने और लोगों को भीतर जाने से रोकना मुश्किल होगा। विवादित दीवार केवल 6 फीट बनाई जा रही है। इसके लिए 15 करोड़ रुपए का बजट है। राजधानी में ही प्रोजेक्ट लेपर्ड की धज्जियां उड़ रही है और लापरवाही बरतने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही।


    जिस दीवार का कोई मतलब ही नहीं, उसी के नाम टालमटोल
    डीएफओ सुदर्शन शर्मा ने बातचीत में माना कि यहां के जंगलों में भोजन की कमी है, जिसके लिए प्रेबेस लाना है। वाइल्ड बोर जल्द ही लाएंगे। इसके लिए प्लानिंग चल रही है। पहले दीवार का काम हो जाए।

    इस साल की चर्चित घटनाएं
    - 6 मार्च को पेंथर फैमिली जेएलएन पर आ गई। कई दिनों तक एमएनआईटी और स्मृति वन में दिखने से से कौतूहल। आखिरकार स्मृति वन में पर्यटकों की एंट्री बंद करनी पड़ी।
    - 26 अगस्त को स्मृति वन के पास एक बकरी को मारा।
    - अक्टूबर-नवंबर में आमेर के आसपास आबादी एरिया में।
    - 31 अक्टूबर को यूनिवर्सिटी के आसपास खाली क्वार्टर में दिखा।

  • प्रोजेक्ट लेपर्ड : असुरक्षित बघेरे भोजन की तलाश में जंगल से शहर में आने को मजबूर
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×