--Advertisement--

लोड करते वक्त बंदूक का ट्रिगर दबा, गोली लगने से दूल्हे के भतीजे की माैत

सौडोली निवासी शिवा था इकलौता बेटा, लुहासा में वधु पक्ष की ओर से आए फौजी ने किया फायर।

Dainik Bhaskar

Feb 07, 2018, 05:54 AM IST
गोली लगने से मृत शिवा। गोली लगने से मृत शिवा।

नदबई/भरतपुर. थाने के गांव लुहासा में एक घर में लग्न टीका के समारोह के दौरान वधु पक्ष से आए फौजी की बंदूक से कारतूस लोड करते समय ट्रिगर दब गया। इससे सामने खड़े दूल्हे के भतीजे शिवा को ही गोली लग गई। 15 साल के शिवा ने उपचार के लिए भरतपुर के आरबीएम अस्पताल ले जाते समय दम तोड़ दिया। पुलिस ने शव को मोर्चरी में रखवा दिया है। बुधवार सुबह शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा। साथ ही जिस फौजी के बंदूक से गोली लगी है। उसकी तलाश के लिए काफी कोशिश की। लेकिन वर व वधू पक्ष से कोई भी कुछ बताने को तैयार नहीं था। जबकि ज्यादातर परिजन घर छोड़कर भाग गए। शिवा परिवार में इकलौता था। शिवा के छाती के ऊपर ठीक कंधे के पास गोली लगी है।

- जानकारी के अनुसार, उत्तरप्रदेश के गांव सौंख से लुहासा गांव निवासी किशन सिंह के बेटे नरेश का विवाह तय हुआ था। शाम को शादी की दावत के बाद सौंख से वधू पक्ष लग्न टीका लेकर आया था। जहां चौकी पर दूल्हा बैठा ही था कि अचानक वधू पक्ष से आए फौजी ने खुशी में फायर किया।

- दूसरी बार वह बंदूक में कारतूस लोड कर ही रहा था कि अचानक उसका हाथ से ट्रिगर दब गया। इतने में ही गोली दूल्हे की बुआ के पोते शिवा (15) को लग गई।

- परिजन घायल बच्चे को लेकर स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे। जहां हालत चिंताजनक होने पर उसे जिला अस्पताल रैफर कर दिया। जहां उसकी रास्ते में मौत हो गई। आरबीएम अस्पताल में डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

- घटना की जानकारी पाकर एडिशनल एसपी धर्मेंद्र सिंह पहुंचे, लेकिन मौके पर कोई भी परिजन नहीं मिला। ऐसे में पुलिस अधिकारियों ने आरबीएम अस्पताल में जाकर मौजूद परिजनों से जानकारी की, लेकिन गोली किसकी बंदूक से लगी है, इस बारे में कोई नहीं बता सका।



पुलिस को एक घंटे बाद अस्पताल से पता चला हत्या का
- लुहासा में बच्चे को गोली लगने के बाद पुलिस को घटना का ही पता नहीं लग सका। जब परिजन बच्चे को उपचार कराने के लिए आरबीएम अस्पताल लेकर पहुंचे तो मृत घोषित करने के बाद उसके नाम आदि की जानकारी आरबीएम अस्पताल की पुलिस चौकी के विजेंद्र सिंह मीणा ने ली। एसएचओ अरुण चौधरी ने बताया कि ट्रेनिंग में गए हुए थे। आरबीएम अस्पताल में जब परिजन बच्चे को इलाज कराने लेकर पहुंचे, हमारे पास तब सूचना आई है।

चाचा की शादी में जरूर जाऊंगा
- मृतक शिवा मां और बाप का ही नहीं बल्कि दादी सोमोती का भी बहुत लाड़ला था। दादी जहां भी जाती थी तो पोते शिवा को साथ लेकर जाती थी। पोता भी कुछ ऐसा ही था कि दादी जब एक दिन पहले भतीजे नरेश की शादी में जाने के लिए बैग तैयार कर रही थी तो पोते ने देख लिया। इ

- स पर शिवा ने भी जिद पकड़ ली कि चाचा की शादी में जाऊंगा। इसलिए शिवा की मां रेखा ने उसके लिए नए कपड़े खरीदे और दादी के साथ भेज दिया।

- मृतक का पिता योगेंद्र जाट बार-बार रोते हुए सिर्फ यही कह रहा था कि काश बेटे को नहीं भेजता तो इकलौते बेटे को नहीं खोना पड़ता पर किस्मत को शायद यही मंजूर था।

6वीं क्लास में पढ़ता था

- शिवा गांव के ही निजी स्कूल में छठी कक्षा में पढ़ रहा था। बेटे की मौत की खबर सुनकर शिवा की मां रेखा तो बेहोश तक हो गई। जबकि दादी भी बदहवास होकर बार-बार पोते को पुकारती रही।

रुतबा दिखाने के लिए होती है खुशी में फायरिंग
- भरतपुर के ग्रामीण इलाकों में आज भी परंपराओं के नाम पर रुतबा दिखाने के लिए खुशी में फायरिंग की जाती है।

- ग्रामीण बारातों में अक्सर लाइसेंसी बंदूकों को लेकर जाते हैं। इससे पहले भी वर्ष 2015 में भी एक युवक की मौत वैर क्षेत्र में फायरिंग में हो गई थी।

लुहासा में वह घर जहां लग्न-टीका का कार्यक्रम हो रहा था। लुहासा में वह घर जहां लग्न-टीका का कार्यक्रम हो रहा था।
groom nephew shot dead during wedding function in bharatpur
X
गोली लगने से मृत शिवा।गोली लगने से मृत शिवा।
लुहासा में वह घर जहां लग्न-टीका का कार्यक्रम हो रहा था।लुहासा में वह घर जहां लग्न-टीका का कार्यक्रम हो रहा था।
groom nephew shot dead during wedding function in bharatpur
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..