Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» High Court Says Child S Wish May Also Be Asked In Divorce Case

हाईकोर्ट ने कहा- तलाक के केस में बच्चे की इच्छा भी पूछी जाए

सवाई माधोपुर की फैमिली कोर्ट का आदेश रद्द कर कस्टडी पर सुनवाई के लिए हाईकोर्ट का आदेश

Bhaskar News | Last Modified - Jan 21, 2018, 05:33 AM IST

  • हाईकोर्ट ने कहा- तलाक के केस में बच्चे की इच्छा भी पूछी जाए
    +1और स्लाइड देखें

    जयपुर. परिवारों के टूटने का सबसे ज्यादा असर बच्चों पर ही होता है और विडंबना ये है कि विवाद में उनका पक्ष ही कोई नहीं पूछता। माता-पिता के अलग होने के फैसले में उनका न कोई मत होता है और अक्सर तो उनसे ये भी नहीं पूछा जाता कि वे किसके साथ रहना चाहते हैं। ऐसे ही एक मामले में पारिवारिक अदालत के फैसले को रद्द करते हुए हाईकोर्ट ने कहा है कि अभिरक्षा तय करते समय बच्चों की इच्छा भी जाननी चाहिए।


    फैमिली कोर्ट, सवाई माधोपुर के 28 अप्रैल, 2017 को एक पारिवारिक विवाद के मामले में सात साल के बच्चे की अभिरक्षा अलग हो चुके माता-पिता में से पिता को दे दी थी। हाईकोर्ट ने इस आदेश को रद्द कर मामला वापस फैमिली कोर्ट को लौटा दिया। मां ने की थी फैमिली कोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील मुख्य न्यायाधीश प्रदीप नांद्रजोग व न्यायाधीश जीआर मूलचंदानी की खंडपीठ ने यह आदेश बच्चे की मां लक्ष्मा की अपील का निपटारा करते हुए दिया।

    मामले के अनुसार, प्रार्थिया लक्ष्मा की शादी भागचंद मीणा के साथ हुई थी। उनके एक बेटा सोनू हुआ। भागचंद ने बेटे की अभिरक्षा के लिए 2016 में फैमिली कोर्ट सवाई माधोपुर में प्रार्थना पत्र दायर किया। फैमिली कोर्ट ने बच्चे की आयु 5 साल से अधिक होने के आधार पर पिता को उसका संरक्षक मानते हुए उसकी अभिरक्षा पिता को दे दी।

    इस आदेश को प्रार्थिया ने हाईकोर्ट में चुनौती देते हुए कहा कि फैमिली कोर्ट ने बच्चे की अभिरक्षा बिना किसी साक्ष्य के उसके पिता को दी है। इसलिए फैमिली कोर्ट का आदेश रद्द किया जाए। अदालत ने प्रार्थिया की अपील का निपटारा कर फैमिली कोर्ट का आदेश रद्द कर दिया।

    यह कहा हाईकोर्ट ने

    अदालत ने फैमिली कोर्ट को कहा वह बच्चे के कानूनी संरक्षक के संबंध में केस में नए सिरे से साक्ष्यों के आधार पर सुनवाई करे। अदालत ने कहा बच्चे के अभिरक्षा के अधिकार तय नहीं हो जाते तब तक मां को उससे मिलने दिया जाए ताकि मां और बेटे के बीच का बंधन भी बना रहे। अदालत ने साथ ही कहा कि अभिरक्षा के मामलों में बच्चे से भी उसकी इच्छा पूछा जाना जरूरी है।

  • हाईकोर्ट ने कहा- तलाक के केस में बच्चे की इच्छा भी पूछी जाए
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jaipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: High Court Says Child S Wish May Also Be Asked In Divorce Case
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×