--Advertisement--

पिरामिड के आकार का होगा नया एयरपोर्ट, झालावाड़ में अगस्त तक होगा ऑपरेटिव

सरकार झालावाड़ के कोलाना में इंटरनेशनल एयरपोर्ट का निर्माण कराने जा रही है।

Dainik Bhaskar

Dec 29, 2017, 03:38 PM IST
Jhalawar to get International Airport, to be functional from August

जयपुर। राजस्थान के लिए यह अच्छी खबर है। राज्य सरकार झालावाड़ के कोलाना में इंटरनेशनल एयरपोर्ट का निर्माण कराने जा रही है। इसका निर्माण तीन चरणों में पूरा होगा। पहले चरण में घरेलू यात्रियों के आवागमन को तैयार किया जाएगा। इसे अगस्त 2018 से शुरू करने का लक्ष्य रखा है। जानिए और इस बारे में ...

- झालावाड़ में वर्तमान में कोलाना में हवाई पट्टी बनी हुई है। अभी हवाई पट्टी और भवन 85 एकड़ क्षेत्र में बना हुआ है। 5976 फीट लम्बी इस हवाई पट्टी से वर्तमान में चार्टर्ड छोटे विमानों का संचालन हो रहा है। पीडब्ल्यूडी ने निजी कंपनी संगीता एविएशन से इसकी कंसल्टेंसी रिपोर्ट मांगी थी, जो सब्मिट हो चुकी है। रिपोर्ट में कंपनी ने पहले चरण का कार्य 169 करोड़ रुपए लागत में पूरा करने की बात कही है। इसमें कहा गया है कि एयरपोर्ट बिल्डिंग पिरामिड आकृति की बनाई जाएगी।

तीसरे चरण में उतरेगी एयरबस
- बिल्डिंग चार मंजिला और 12 मीटर ऊंचाई की बनेगी। एयरपोर्ट के रनवे की बात करें तो वर्तमान में चौड़ाई 100 फीट है, जिसे बढ़ाकर 150 फीट किया जाएगा। रनवे की लंबाई अगले चरणों में बढ़ाई जाएगी।

- पहले चरण में यहां एटीआर-72 और एयरबस 320 आकार के विमानों को उतारने की तैयारी है। एयरबस 320 आकृति के विमान में 180 यात्री एक साथ सफर कर सकते हैं।

- तीसरे चरण में यहां पर दुनिया के सबसे बड़े हवाई जहाज एयरबस 380 को भी उतारने की योजना है। एयरबस 380 विमान वर्तमान में केवल दिल्ली और मुम्बई एयरपोर्ट से ही संचालित होता है।

कुछ ऐसा होगा झालावाड़ एयरपोर्ट
- डिपार्चर बिल्डिंग में 8 टिकट काउंटर लगेंगे
- 4 चैक इन काउंटर, 2 सिक्योरिटी काउंटर होंगे
- पैसेंजर होल्डिंग एरिया, वीआईपी लाउंज, बैक ऑफिस
- आर्ट गैलरी, टॉयलेट्स, चिल्ड्रन केयर रूम भी बनेंगे
- लिफ्ट, एसकेलेटर की सुविधा भी होगी डिपार्चर में
- फूड कोर्ट और कुछ दुकानें भी शुरू की जाएंगी
- पहली मंजिला पर बार, लिफ्ट, ऑफिस खुलेंगे
- अराइवल बिल्डिंग में 2 कन्वेयर बैल्ट, 8 इमिग्रेशन काउंटर
- डिटेंशन रूम, 8 टिकट काउंटर भी खोले जाएंगे

- कंसल्टेंसी फर्म संगीता एविएशन के सीईओ अमित अग्रवाल ने बताया कि पिरामिड आकृति में बना यह पहला एयरपोर्ट होगा। गौरतलब है कि पिरामिड आकृति का एयरपोर्ट ऊर्जा संरक्षण के लिहाज से सबसे बेहतर माना जाता है।

- डिपार्चर और अराइवल टर्मिनल के साथ-साथ यहां कार्गो टर्मिनल भी विकसित किया जाएगा। वहीं फायर स्टेशन, एटीसी ब्लॉक, डीवीओआर सहित तमाम सुविधाएं यहां पर विकसित की जाएंगी। यदि इस रिपोर्ट पर जनवरी से कार्य शुरू हो जाता है, तो अगस्त माह तक यहां से विमानों का संचालन शुरू होने की उम्मीद है।

कंटेंट : शिवांग चतुर्वेदी

X
Jhalawar to get International Airport, to be functional from August
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..