--Advertisement--

कैट-3 बी है फिर भी कोहरे में लाचार जयपुर एयरपोर्ट, 40% पायलट ही इसके लिए ट्रेंड

शुक्रवार को रद्द हुई 4 फ्लाइट्स, दिसंबर-जनवरी में कुल 17 रद्द करनी पड़ीं, 14 डायवर्ट

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 07:08 AM IST

जयपुर. नए साल के साथ ही ठंड और कोहरे का असर भी बढ़ गया है। हालात ये हैं कि जयपुर में लगातार तीन दिनों से न्यूनतम तापमान सामान्य से कम है और सुबह-शाम घने कोहरे से पूरा शहर ढका रह रहा है। कोहरे की वजह से दिसंबर-जनवरी में अब तक 17 फ्लाइट्स रद्द हो चुकी हैं, जबकि 14 को डायवर्ट करना पड़ा। ये स्थिति तब है जब जयपुर देश के उन चुनिंदा चार एयरपोर्ट्स में से एक है जो कैट-3बी तकनीक से लैस हैं। यही नहीं, आने वाले दिनों में कोहरा बढ़ने के साथ-साथ हवाई यातायात और भी अस्त-व्यस्त हो सकता है।

- मगर इसकी मुख्य वजह ये है कि देश में कामर्शियल पायलट्स में सिर्फ 40 फीसदी ही घने कोहरे में फ्लाइट लैंड या टेक-ऑफ कराने के लिए प्रशिक्षित हैं। इस प्रशिक्षण के अभाव में एयरपोर्ट की कैट-3बी व्यवस्था भी किसी काम नहीं आ रही। सीधा असर यात्रियों पर प्रशिक्षित पायलट्स न होने की वजह से पिछले दिनों ही आईजीआई एयरपोर्ट पर 75 से 100 मीटर की विजिबिलिटी होने के बावजूद 50 फ्लाइट्स को दिल्ली से जयपुर सहित अन्य शहरों के लिए डाइवर्ट करना पड़ा। दिसंबर-जनवरी में जयपुर में 17 फ्लाइट्स रद्द हो चुकी हैं, इनमें से चार तो शुक्रवार को रद्द करनी पड़ीं।

‘आरवीआर’ से विजिबिलिटी का किया जाता है आकलन
एयरपोर्ट पर विजिबिलिटी का आकलन रन-वे विजिबिलिटी रेंज से किया जाता है। विजिबिलिटी के लिए एयर साइट पर ट्रांसमीटर लगाया जाता है। इसके जरिए सामान्य तौर पर आंखों से अधिक दूरी तक देखा जा सकता है। उदाहरण के लिए सोमवार सुबह करीब 9.30 बजे एयरपोर्ट पर आंखों से महज दस मीटर तक देखा जा सकता था। लेकिन आरवीआर की मदद से पायलट करीब 75 मीटर तक देख सकते थे।

अभी और बढ़ेगा कोहरा
जयपुर में तीसरे दिन न्यूनतम तापमान सामान्य से कम रहा। हालांकि तापमान में उछाल आया है, लेकिन रात के साथ दिन में ठिठुरन बरकरार है। शुक्रवार को न्यूनतम तापमान 7.4 डिग्री रहा। दिन में तापमान 1.1 डिग्री का उछालकर 23.5 डिग्री दर्ज किया गया, जिससे दोपहर में सर्दी से राहत मिली, लेकिन शाम होते ही झुरझुरी छूटने लगी। अगले 48 घंटों में तापमान में बढ़ोतरी जारी रहेगी, लेकिन दिन का तापमान ज्यादा नहीं उछलेगा। उधर अगले कुछ दिनों सुबह के समय कोहरा बरकरार रहेगा।

क्या है कैट-3बी ट्रेनिंग

- तकनीकी भाषा में पायलट्स के इस प्रशिक्षण को कैट-3बी ट्रेनिंग कहते हैं।

- 7517 कॉमर्शियल पायलट्स हैं देश में।

- 4541 ही कैट-3बी ट्रेनिंग प्राप्त हैं जिनमें।

- प्रशिक्षण के बाद पायलट 50 मीटर की विजिबिलिटी पर भी प्लेन लैंड कराने व 125 मीटर की विजिबिलिटी पर भी टेक-ऑफ में सक्षम हो जाते हैं।

कैट-थ्री-बी
प्रशिक्षित पायलट
इंडिगो 1590
जेट एयरवेज 1015
एयरइंडिया 751
गो एयर 258
एयरइंडिया एक्सप्रेस 230
स्पाइसजेट 226
विस्तार 160
एयर एशिया 148
जेटलाइट 110
ब्लूडार्ट एविएशन 53