Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Karni Sena Will Protest Against Padmavati Film On 27 January At Chittorgarh Fort

पद्मावती बैन नहीं की तो वोट की चोट करेंगे, 27 को चित्तौड़गढ़ में जुटेंगे देशभर के लोग: करणी सेना

पिछले दिनों सेंसर बोर्ड ने एक कमेटी से फिल्म का रिव्यू कराने के बाद 5 बदलावों के साथ इसकी रिलीज पर सहमति जताई थी।

Bhaskar News | Last Modified - Jan 06, 2018, 03:06 PM IST

  • पद्मावती बैन नहीं की तो वोट की चोट करेंगे, 27 को चित्तौड़गढ़ में जुटेंगे देशभर के लोग: करणी सेना
    +1और स्लाइड देखें
    फिल्म में दीपिका पादुकोण ने रानी पद्मावती का रोल किया है। -फाइल

    जयपुर.फिल्म 'पद्मावती' काे लेकर चल रहा विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब करणी सेना के अध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना ने कहा कि सरकार को फिल्म पर बैन लगाना ही पड़ेगा। अगर हमारी मांगें नहीं मानी गईं तो वोट की चोट करेंगे। उन्होंने कहा कि पद्मावती के विरोध में 27 जनवरी को चित्तौड़गढ़ किले पर देशभर से लोग जमा होंगे और विरोध प्रदर्शन करेंगे। पिछले दिनों सेंसर बोर्ड ने एक कमेटी से फिल्म का रिव्यू कराने के बाद 5 बदलावों के साथ इसकी रिलीज पर सहमति जताई थी, लेकिन पूर्व राजघरानों और राजपूत समाज के लोगों ने बोर्ड के फैसले का विरोध किया। बता दें कि फिल्म को 1 दिसंबर को रिलीज किया जाना था। लेकिन विवादों में आने के चलते इसे टाल दिया गया था।

    पद्मावती की जगह कोई और नाम रखें: कालवी

    - करणी सेना के संरक्षक लोकेन्द्र सिंह कालवी ने कहा, ''फिल्म को बंद किया जाए या फिर पद्मावती की जगह दूसरा कोई नाम रखें। इतिहास पर बनने वाले फिल्मों के लिए एक कमेटी बनानी चाहिए। करणी सेना ने देशभर के लोगों से चित्तौड़गढ़ में 27 जनवरी को आने का आह्वान किया है। फिल्म को रिलीज नहीं होने देंगे, क्योंकि पद्मावती के इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गई है।''
    - ''मैंने करणी सेना के पदाधिकारियों के साथ पद्मावती फिल्म को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और इस पर बैन लगाने की मांग की है।''

    करणी सेना का सर्टिफिकेशन पर क्या स्टैंड?

    - श्री राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह ने कहा था, "अंडरवर्ल्ड के दबाव में फिल्म को मंजूरी दी गई। फिल्म दिखाने वाले सिनेमाघरों में तोड़फोड़ करेंगे।"
    - करणी सेना के संरक्षक लोकेन्द्र सिंह कालवी ने दावा किया था, "कमेटी ने सेंसर बोर्ड से कहा था कि खामियों की वजह से फिल्म रिलीज नहीं हो सकती। घूमर गाना बैन हो।"
    - करणी सेना और जौहर स्मृति संस्थान ने समीक्षा समिति को भंग कर नया पैनल बनाने की मांग की है।

    सेंसर बोर्ड ने नाम बदलने का सुझाव दिया था

    - पिछले दिनों सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (CBFC- सेंसर बोर्ड) ने पद्मावती का नाम पद्मावत करने और 5 बदलावों के साथ फिल्म को U/A सर्टिफिकेट दिया। लेकिन राजस्थान के राजघराने और राजपूत संगठन अभी भी सर्टिफिकेट दिए जाने को लेकर खुश नहीं हैं।

    - मेवाड़ के पूर्व राजपरिवार के सदस्य विश्वराज सिंह ने कहा, "सेंसर बोर्ड ने हमें पैनल का हिस्सा बनने के लिए इनवाइट किया था। हमने कुछ सवाल किए तो पता चला कि कुछ और पैनल्स ने फिल्म देखी है और बिना हमारी मंजूरी के फिल्म को सर्टिफिकेट दे दिया गया। सेंसर बोर्ड का ये रवैया बेहद अनप्रोफेशनल और गैरजिम्मेदाराना था।"

    किन 5 बदलावों के साथ फिल्म को रिलीज की मंजूरी मिली?

    1. फिल्म का नाम पद्मावती से पद्मावत करना होगा। भंसाली ने कमेटी से कहा था कि फिल्म मुहम्मद जायसी के पद्मावत पर आधारित है।
    2. किरदारों की गरिमा के मुताबिक घूमर डांस में सुधार करना होगा। विरोध करने वालों का कहना है कि राजपूत राजघरानों में रानियां घूमर नहीं करती थीं।
    3. डिस्क्लेमर देना होगा कि यह सती प्रथा काे महिमामंडित नहीं करती है। विरोध कर रहे संगठन फैक्ट्स से छेड़छाड़ का आरोप लगा रहे हैं।
    4. फिल्म काल्पनिक होने का डिस्क्लेमर देना होगा। 28 नवंबर को अाखिरी बार अप्लाई करने के दौरान फिल्म की कॉपी में डिस्क्लेमर नहीं दिया गया था।
    5. ऐतिहासिक जगहों के गलत या भ्रामक संदर्भों को बदलना होगा।

    (इन पांच बदलावों के बाद U/A सर्टिफिकेट के लिए फिल्म दोबारा सेंसर बोर्ड को जमा करवानी हाेगी।)

    फिल्म पद्मावती को लेकर क्या आपत्ति है?

    - राजस्थान में करणी सेना, बीजेपी लीडर्स और हिंदूवादी संगठनों ने इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाया। राजपूत करणी सेना का मानना है कि ​इस फिल्म में पद्मिनी और खिलजी के बीच सीन फिल्माए जाने से उनकी भावनाओं को ठेस पहुंची। फिल्म में रानी पद्मावती को भी घूमर नृत्य करते दिखाया गया है। जबकि राजपूत राजघरानों में रानियां घूमर नहीं करती थीं।
    - हालांकि, भंसाली साफ कर चुके हैं कि ड्रीम सीक्वेंस फिल्म में है ही नहीं।

    कौन थीं रानी पद्मावती?

    - पद्मावती चित्तौड़ की महारानी थीं। उन्हें पद्मिनी भी कहा जाता है। वे राजा रतन सिंह की पत्नी थीं। उन्होंने जौहर किया था। उनकी कहानी पर ही संजय लीला भंसाली ने फिल्म बनाई है।

  • पद्मावती बैन नहीं की तो वोट की चोट करेंगे, 27 को चित्तौड़गढ़ में जुटेंगे देशभर के लोग: करणी सेना
    +1और स्लाइड देखें
    पद्मावती फिल्म के विरोध में राजपूत करणी सेना ने मोर्चा खोला हुआ है। -फाइल
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jaipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Karni Sena Will Protest Against Padmavati Film On 27 January At Chittorgarh Fort
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×