Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Life Sentence In Relative S Son Daughter Murder Case

शराब पीकर आने पर भगा दिया था, परिचित के बेटे-बेटी की हत्या की; उम्रकैद

कोर्ट ने दो लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 16, 2017, 05:28 AM IST

शराब पीकर आने पर भगा दिया था, परिचित के बेटे-बेटी की हत्या की; उम्रकैद

जयपुर. महानगर की एडीजे कोर्ट-2 ने आपसी रंजिश के चलते परिचित के नाबालिग बेटे-बेटी की चाकू घोंपकर हत्या करने वाले बिहार निवासी विजय सिंह को शुक्रवार को उम्रकैद और 2 लाख रु. जुर्माने की सजा दी है।

- मामले के अनुसार, मंजीत सिंह ने नाहरगढ़ थाने में 14 अगस्त 2012 को रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि वह पत्नी के साथ सुबह काम पर गए थे। दोपहर करीब ढाई बजे घर लौटे तो उनका परिचित व अभियुक्त विजय उनके घर से निकल कर भाग रहा था।

- घर जाकर देखा तो 13 साल का बेटा शुभम और 11 साल की बेटी दीपशिखा को मृत पाया। दोनों बच्चों की चाकू घोंपकर हत्या की थी।

- पुलिस ने रिपोर्ट पर कार्रवाई करते हुए विजय सिंह को गिरफ्तार किया और हत्या के अपराध में कोर्ट में चालान पेश किया। कोर्ट में अभियोजन की ओर से अपर लोक अभियोजक मुकेश जोशी ने 17 गवाहों के बयान कराए और 46 दस्तावेज पेश किए।

- इनसे साबित हुआ कि अभियुक्त की परिवादी से रंजिश थी और इस कारण ही उसने बच्चों की हत्या की थी। कोर्ट ने अपराध साबित होने पर सजा सुनाई।

भाई को बचाने आई बहन को भी चाकू घोंपा
- परिवादी मंजीत सिंह व आरोपी विजय सिंह बिहार का रहने वाला है। मंजीत सिंह किराए का मकान लेकर नाहरगढ़ इलाके में रहता था और ऑटो चलाता था।

- मंजीत के पास ही विजय सिंह रहता था और मजदूरी करता था। विजय सिंह शराब पीने लगा तो मंजीत के परिवार के लोगों ने आपत्ति की। जिस पर मंजीत ने विजय को घर से बाहर निकाल दिया।

- इसको लेकर विजय रंजिश रखने लगा। 14 अगस्त 2012 को मौका देखकर विजय चाकू लेकर मंजीत के मकान में घुस गया। जहां शुभम व दीपशिखा थे।

- विजय ने शुभम पर ताबड़तोड़ चाकू से हमला कर दिया। भाई पर हमला होते देख दीपशिखा पहले तो चिल्लाई फिर भाई को बचाने के लिए विजय का हाथ पकड़ लिया।

- इस दौरान विजय ने दीपशिखा पर भी चाकू से हमला कर दिया। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। बाद में मंजीत की रिपोर्ट पर पुलिस ने विजय को गिरफ्तार कर उसके कपड़ों की एफएसएल जांच करवाई तो दोनों भाई बहन का खून मिला। साथ ही चाकू पर विजय के हाथ के निशान मिले।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jaipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: shraab pikar aane par bhgaaa diyaa thaa, parichit ke bete-beti ki Hatya ki; umrkaid
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×