--Advertisement--

हाथियों के गांव में बना है ये रेस्ट हाउस, थ्री-स्टार होटल से ज्यादा इसका किराया

प्रति रूम किराया 5 हजार रुपए तय किया था, लेकिन गांव में बने मॉडर्न रेस्ट हाउस की मेंटिनेंस बनाए रखने में दरें कम आंकी गई

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 01:57 AM IST
~70 लाख खर्च कर मॉडर्न रेस्ट हाउस तैयार किया। ~70 लाख खर्च कर मॉडर्न रेस्ट हाउस तैयार किया।

जयपुर. हाथी गांव में पुराने स्ट्रक्चर के बावजूद करीब 70 लाख रुपए खर्च करके जेडीए और वन विभाग ने मॉडर्न रेस्ट हाउस तैयार किया है। रेस्ट हाउस को चलाने की जिम्मेदारी वन विभाग के पास है। हाथियों के गांव जैसी लोकेशन पर रेस्ट हाउस में इतने खूबसूरत रंग भरे हैं कि होटल के कमरे भी फीके पड़ जाएं। यह अलग बात है कि गांव में मॉडर्न लुक और लग्जरी लाइफ वनमंत्री को नागवार गुजरा था। इन सबके बाद अब यहां टूरिस्ट को ठहराने की प्लानिंग की जा रही है।

किराया 5 हजार

- रेस्टहाउस में 4 एक्सक्लूसिव कमरे हैं, जिन्हें लग्जरी बैड, खूबसूरत इंटीरियर, पेंटिंग, बाथरूम के साथ सजाया गया है।

- इसके बाद इनका किराया पहले 5 हजार रुपए किया तय हुआ था, लेकिन मॉडर्न रेस्ट हाउस को व्यवस्थित बनाए रखने के लिहाज से दरों में और इजाफा करने के आदेश हैं।

- वन विभाग के संबंधित डीएफओ प्लान तैयार करने में जुटे हैं।

- बताया जा रहा है कि कीमतें 5 हजार से बढ़ाकर 7-8 हजार के आसपास की जा सकती है। यह दरें थ्री स्टार होटल के कमरों से कहीं ज्यादा रहने वाली है।

- वहीं, शहर में वन विभाग सहित दूसरे विभागों के रेस्ट हाउस से करीब तीन गुना।

वन विभाग के दूसरे रेस्ट हाउस का किराया बढ़ाने का प्रस्ताव नामंजूर
- वन विभाग के फॉरेस्ट ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट, सचिवालय के पीछे अशोक विहार और खातीपुरा में ग्रास फार्म नर्सरी में रेस्ट हाउस प्रति कमरा 1200 रुपए के आसपास है। विभाग दो साल से कीमतें बढ़ाने का प्रस्ताव भेज रहा है, जिसे मंजूरी नहीं मिल रही।

- सर्किट हाउस में सुइट रूम 2700 रुपए है तो बिजली आदि विभागों के रेस्ट हाउस की दरें भी इतनी ही हैं। और तो और राजस्थान पर्यटन विकास निगम की होटलों का प्रति रूप टैरिफ भी 2000 से 3500 के आसपास रहता है।

बुकिंग या पूरा मैनेजमेंट प्राइवेट होगा
- वन विभाग के लिए बड़ा सिरदर्द अब इस रेस्ट हाउस की व्यवस्थाओं को बनाए रखना है। पिछले दिनों विजिट करने आई सीएम और फिर उनके बाद एसीएस ने भी निर्देश दिए हैं।

- अब विभाग रेस्ट हाउस की बुकिंग या पूरा मैनेजमेंट ही निजी हाथों में देने की प्लानिंग कर रहा है।

#प्रस्ताव मांगा है

रेस्ट हाउस को व्यवस्थित बनाए रखने और टूरिस्ट बुकिंग आदि के लिए डीएफओ से प्रस्ताव मांगे हैं। जल्द ही इन्हें फाइनल किया जाएगा।
- जीवी रेड्डी, चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन


हाथी गांव रेस्ट हाउस जिस तरीके से बनाया गया है, उसकी व्यवस्थाओं आदि को देखते हुए प्रति कमरा किराया 5 हजार से ज्यादा ही रखा जाएगा। प्रस्ताव तैयार कर रहे हैं।
- सुदर्शन शर्मा, संबंधित डीएफओ