--Advertisement--

नागालैंड में फर्जी रिश्तेदार बनाकर हासिल कर लिए हथियार लाइसेंस

जिन्होंने लाइसेंस बनाए उनका रिकॉर्ड ही नहीं

Danik Bhaskar | Jan 09, 2018, 03:48 AM IST

बीकानेर. नागालैंड में 80 और 90 के दशक में जिनके हथियार लाइसेंस बने, बीकानेर के लोगों ने उनमें से अधिकांश का फर्जी ‘रिटेनर’ बनकर हथियार लाइसेंस अपने नाम ट्रांसफर करवा लिए। इन लोगों ने महंगे हथियार भी खरीद लिए जिसकी कलेक्टर ऑफिस और पुलिस थानों में कोई सूचना नहीं दी।

- राज्य के लोगों ने धोखाधड़ी कर बड़ी संख्या में नागालैंड के दीमापुर, वोखा और जुमोबोटो से हथियार लाइसेंस बनवा रखे हैं। इनमें सबसे ज्यादा संख्या बीकानेर के लोगों की हैं। जिला पुलिस ने ऐसे 84 लोगों को सूचीबद्घ भी कर रखा है।

- छानबीन करने पर उजागर हुआ कि इनमें से ज्यादातर ने खुद को नागालैंड में रहने वालों का ‘रिटेनर’ (रिश्तेदार) बताकर हथियार लाइसेंस अपने नाम ट्रांसफर करवाए हैं।

- नागालैंड में 80 और 90 के दशकों में जिन लोगों के लाइसेंस बने थे, उनका अब रिकॉर्ड में अता-पता ही नहीं है। लाइसेंस अपने नाम ट्रांसफर करवाने वालों ने खुद को नागालैंड का निवासी बताया और ‘रिटेनर’ बनकर फर्जी कागजात पेश किए।

- दलाल और बिचौलियों के जरिये लाइसेंस हासिल किए और फिर हथियार भी खरीद लिए। ऐसे लोगों ने अपने लाइसेंस और हथियार के बारे में जिला कलेक्टर और पुलिस थानों में कोई जानकारी भी नहीं दी है।