--Advertisement--

एग्जाम डॉल्फिन स्कूल में, 5 रुपए लाख लेकर पेपर भिवानी में हल कर रहे थे

पहली बार नकलविहीन ऑनलाइन कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का दावा, 4 दिन में दूसरी बार सेंध से सामने आई हकीकत

Dainik Bhaskar

Mar 15, 2018, 01:48 AM IST

जयपुर. कांस्टेबल भर्ती के लिए ऑनलाइन परीक्षा में सेंटर संचालकों की मिलीभगत से हरियाणा के हाईटेक गिरोह पुलिस की नाक में दम किए हैं। मालवीयनगर के सरस्वती इंफोटेक के बाद अब हरमाड़ा स्थित डॉल्फिन किड्स इंटरनेशनल स्कूल में गिरोह ने कम्प्यूटर सिस्टम को रिमोट एक्सेस के माध्यम से हैक कर 300 किलोमीटर दूर हरियाणा के भिवानी से ऑपरेट कर पेपर हल कर दिए। गिरफ्तार हो चुके आरोपियों से पूछताछ के बाद एसओजी की टीम ने मंगलवार देर रात दबिश देकर स्कूल संचालक समेत चार आरोपियों को और गिरफ्तार कर लिया।

स्कूल संचालक रामनिवास जाट नागौर के आसलपुर डीडवाना का, मुकेश कुमार जाट चौमूं में गोविंदगढ़ नागल कलां का, रामरतन शर्मा बरना आमेर का और राजू उर्फ राजेन्द्र जाट सीकर का रहने वाला है। एसओजी आरोपियों से पूछताछ कर रही है। आरोपी रामनिवास का टैगोर आईटीआई कॉलेज भी है। भिवानी में बैठा आरोपी प्रमोद फोगाट व उसके साथी एसओजी की टीम के पहुंचने से पहले फरार हो गए। एसअोजी की प्रारंभिक जांच में एप्टेक कंपनी की भी लापरवाही सामने आई है। गैंग ने अभ्यर्थियों से 5-5 लाख रुपए की डील की थी।


यूं पकड़ में आए

एसओजी के आईजी दिनेश एमएन ने बताया कि सरस्वती इंफोटेक से गिरफ्तार आठ आरोपियों में से एक संजय ने पूछताछ में बताया कि उसका रिश्तेदार प्रमोद व उसके साथियों द्वारा भी डाॅल्फिन किड्स इंटरनेशनल स्कूल सेंटर पर आने वाले अभ्यर्थियों के परीक्षा पेपर भिवानी में बैठकर हल करने का खुलासा किया। इसके बाद वहां के सीसीटीवी कैमरे खंगाले तो मामला खुला।

हैकिंग कनेक्शन
- स्कूल के परीक्षा कक्ष के 100 कम्प्यूटर पास वाले कमरे के कम्प्यूटरों से 7 मार्च से पहले ही जोड़ दिए थे।
- सभी कम्प्यूटरों को ट्रांसमीटर लगाकर वाई-फाई से जोड़ा गया था तािक इंटरनेट से भिवानी में हैक हो सकंे।
- कम्प्यूटरों में डार्क कॉम्बैट सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर एक्सेस किया गया। 7 से 9 मार्च तक 5 अभ्यर्थियों केे पेपर हल किए। सरस्वती इंफोटेक में छापे के बाद रामनिवास ने रामरतन शर्मा के साथ स्कूल में डाउनलोड सॉफ्टवेयर व सिस्टम फॉरमेट कर दिए।

आगे क्या?

एसओजी ने चिह्नित किए 17 अभ्यर्थी अब गिरफ्तार होंगे। अफसरों को शक है कि अभी और भी सेंटरों पर गड़बड़ियां मिल सकती हैं। डीजीपी ने बैठक कर कड़ी निगरानी को कहा है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..