--Advertisement--

बैंक गार्ड राउंड ले रहा था, तभी घुसे बदमाश, टोका तो पीटा फिर हाथ-पैर बांधे

2 मिनट की बात है... मुझे बांधने लगे, सीताराम ने फायर िकया तो बदमाशों ने कहा-भागो यहां से

Dainik Bhaskar

Feb 07, 2018, 04:33 AM IST
over all story of jaipur axis bank robbery attempt

जयपुर. बैंक डकैती के प्रयास के दौरान बंधक बनाए गए गार्ड प्रमोद ने बताया- ''रात 2:30 बजे के करीब मैं बैंक के बाहरी हिस्से में राउंड ले रहा था। पीछे चेकिंग करने गया था। इस दौरान बैंक के आगे वाले हिस्से के गेट से किसी के कूदने की आवाज आई। मैं मेनगेट की तरफ आ गया। दो युवकों ने मुंह पर नकाब पहना हुआ था और उनके हाथ में पिस्तौल थी। मैं उन्हें रोक ही रहा था कि तीन और जने मेनगेट से बैंक परिसर में आ गए। सभी मेरी ओर भागे और मुझे पकड़ कर नीचे गिरा दिया। इसके बाद एक ने मेरे मुंह को बंद कर लिया और दो जने मेरे ऊपर बैठ गए। आरोपियों ने मेरे हाथ बांध दिए और पैर बांध ही रहे थे कि इस दौरान बैंक के अंदर से सीताराम चिल्लाया। उसने फायरिंग कर दी। गोली चलने की आवाज सुनकर सभी बदमाश बैंक के गेट की दीवार फांदकर बाहर भाग गए। यह पूरा घटनाक्रम करीब दो मिनट का था। जो बदमाश बैंक परिसर घुसे थे, उन्होंने आपस में कोई बात भी नहीं की थी। फायरिंग की आवाज सुनकर सिर्फ इतना कहा था- भागो यहां से। इसके बाद सीताराम ने मेरे पास आया। मुझे संभाला और पुलिस को सूचना दी।''

- अशोक नगर थाना प्रभारी धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि कांस्टेबल सीताराम की रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

सामने वाले मकान की खिड़की पर लगी कांस्टेबल की गोली
- कांस्टेबल सीताराम ने बदमाशों को ललकारते हुए जो गोली चलाई वह बैंक के सामने बायीं ओर के मकान की खिड़की में लगी। गोली से खिड़की का कांच टूटा तो मकान मालिक महेंद्र और उनके परिवार की नींद खुल गई।

- महेंद्र ने बताया की कांच टूटने की आवाज से हम जागे और बाहर आए तो घटनाक्रम मालूम पड़ा। फिर कुछ ही देर में वहां पुलिस का जमावड़ा लग गया।

आरबीआई ने पूछा-लिमिट से 300 करोड़ रुपए ज्यादा कैश कैसे रखा था बैंक में

एक्सिस बैंक की चेस्ट ब्रांच जहां सोमवार देर रात लूट का प्रयास किया गया, वहां तय लिमिट से करीब 300 करोड़ रुपये ज्यादा रखे हुए थे। नियमानुसार बैंक को ये अतिरिक्त राशि रिजर्व बैंक में जमा करवा देनी चाहिए थी, ऐसा नहीं किया। रिजर्व बैंक के निगरानी तंत्र पर भी सवाल खड़े किए हैं। रिजर्व बैंक ने मामले में एक्सिस बैंक से रिपोर्ट मांगी है।


करेंसी चेस्ट में रखा पैसा रिजर्व बैंक का
रिजर्व बैंक अधिकारियों का कहना है कि करेंसी चेस्ट में रखा पैसा आरबीआई का होता है। हर करेंसी चेस्ट की कैश रिटेंशन लिमिट यानी नकदी रखने की सीमा होती है। करेंसी चेस्ट में नकदी के मूवमेंट की डेली रिपोर्ट रिजर्व बैंक को भेजनी होती है। रिजर्व बैंक ऑनलाइन निगरानी रखता है।


एक्सिस बैंक से रिपोर्ट मांगी
करेंसी चेस्ट में सुरक्षा मापदंडों को लेकर चूक व तय सीमा से कैश को लेकर रिजर्व बैंक के महाप्रबंधक करेंसी पी. के जैन ने एक्सिस बैंक से रिपोर्ट मांगी है। जैन का कहना है कि रिपोर्ट मिलने के बाद ही कार्रवाई की जाएगी। पुलिस कमिश्नर भी घटना स्थल पहुंचे और बैंक के सुरक्षा इंतजाम देखे। उन्होंने सभी चेस्ट ब्रांचेज और आरबीआई अधिकारियों के साथ मीटिंग ली।


एक्सिस बैंक अफसर सवालों से बचते रहे
ब्रांच में सुरक्षा मानकों उठे सवालों पर एक्सिस बैंक के अफसरों का कहना था कि हमने सारे नियमों का पालन किया है। जबकि शाखा में लिमिट से ज्यादा कैश के सवाल पर उन्होंने साफ कह दिया कि वे इस विषय में कोई भी जवाब देने के लिए अधिकृत नहीं हैं।

over all story of jaipur axis bank robbery attempt
over all story of jaipur axis bank robbery attempt
over all story of jaipur axis bank robbery attempt
over all story of jaipur axis bank robbery attempt
X
over all story of jaipur axis bank robbery attempt
over all story of jaipur axis bank robbery attempt
over all story of jaipur axis bank robbery attempt
over all story of jaipur axis bank robbery attempt
over all story of jaipur axis bank robbery attempt
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..