Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Pachpadra Refinery S Foundation Stone Will Be On January 16

43 हजार करोड़ के इन्वेस्ट वाली रिफाइनरी, लाएगी एक लाख रोजगार

पीएम मोदी 16 जनवरी कोे पचपदरा में करेंगे शिलान्यास

Bhaskar News | Last Modified - Jan 08, 2018, 04:20 AM IST

  • 43 हजार करोड़ के इन्वेस्ट वाली रिफाइनरी, लाएगी एक लाख रोजगार
    +1और स्लाइड देखें

    जयपुर. राजस्थान में अब तक के सबसे बड़े 43 हजार करोड़ रुपए के निवेश वाली रिफाइनरी का शिलान्यास 16 जनवरी को होगा। बाड़मेर जिले के पचपदरा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसका शिलान्यास करेंगे। रिफाइनरी प्रदेश के एक लाख लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार भी उपलब्ध कराएगी। शिलान्यास होते ही रोजगार के ये नए अवसर शुरू हो जाएंगे। रिफाइनरी 2022 से पहले बनकर तैयार हो जाएगी। इससे रिफाइंड होने वाला ईंधन पर्यावरण के अनुकूल होगा। इसके अलावा रिफाइनरी की खासियत यह होगी कि यह बीएस-6 मानक और पेट्रो केमिकल काम्पलेक्स के साथ बनने वाली देश की पहली रिफाइनरी होगी। 9 मिलियन टन क्षमता की रिफाइनरी और पेट्रो केमिकल काम्पलेक्स बनाने में 43 हजार करोड़ रु. लगेंगे।

    #नौ मिलियन टन होगी क्षमता, ईंधन पर्यावरण के अनुकूल होगा

    रोजगार : कई फैक्ट्रियां लगेंगी

    खान एवं पेट्रोलियम विभाग की प्रमुख सचिव अपर्णा अरोरा के अनुसार रिफाइनरी के निर्माण के दौरान 20 हजार प्रत्यक्ष कामगारों की जरूरत पड़ेगी। इसके अलावा 80 हजार से एक लाख लोग अप्रत्यक्ष तौर से रोजगार से जुड़ेंगे। पांच साल तक इतने लोग कार्य करते रहेंगे। इसके बाद रिफाइनरी जब 2022 में काम करना शुरू करेगी तो एक हजार लोगों को प्रत्यक्ष तौर और रोजगार मिलेगा। रिफाइनरी लगने से नायलोन, प्लास्टिक बेस उद्योग, पीबीसी पाइप, कीटनाशक बनाने वाले उद्योग, फर्टिलाइजर उद्योग, कास्टमेटिक, दवा बनाने वाले कवर सहित अन्य कई तरह के उद्योग आसपास लगेंगे, जिससे एक लाख से अधिक हर तरह के लोगों को प्रत्यक्ष तौर पर रोजगार मिलेगा। इसके अलावा परिवहन और होटल उद्योग अलग से विकसित होंगे, जिससे स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा।

    गुणवत्ता : बीएस 6 की पहली रिफाइनरी
    यह रिफाइनरी बीएस-6 मानकों का तेल उत्पादन करेगी। यह उच्च गुणवत्ता के साथ सबसे रिफाइंड तेल होगा। अभी तक देश में बीएस-3 मानक के वाहनों का उत्पादन हो रहा है। इन वाहनों से प्रदूषण फैल रहा है। इनसे निकलते पर्टिकुलेट मैटर जैसे खतरनाक कण निकलते हैं। इससे अस्थमा, ब्रांकाइटिस, हृदय रोग और कैंसर जैसी बीमारियां होने की आशंका बनी रहती है। इस खतरे के लिए मूल रूप से डीजल इंजन ही सबसे अधिक जिम्मेदार हैं। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने 2020 से लाए जा रहे यूरो 6 नॉर्म यानी बीएस-6 लागू करने का आदेश दिया है। इसको ध्यान में रखकर राजस्थान में बीएस-6 मानक की रिफाइनरी लगाई जा रही है। फिलहाल चौपहिया वाहनों पर बीएस-4 मानक लागू हैं। जहां बीएस-4 ईंधन में 50 पीपीएम (पार्ट्स पर मिलियन) जहरीला सल्फर होता है। वहीं बीएस-5 व बीएस-6 दोनों तरह के ईंधनों में सल्फर की मात्रा 10 पीपीएम ही होती है।

    खासियत : अत्याधुनिक और ग्रीन रिफाइनरी

    रिफाइनरी के आसपास बड़े पैमाने पर ग्रीनरी विकसित की जाएगी, जिससे बिल्कुल पर्यावरण का किसी प्रकार क्षति न होने पाए। इस रिफाइनरी से बाहर के साथ ही राजस्थान के क्रूड आॅयल को भी रिफाइंड किया जाएगा। इसकी पहचान ग्रीन रिफाइनरी के तौर पर होगा। यह देश की सबसे अत्याधुनिक रिफाइनरी होगी।

    सालाना 2514 करोड़ रु. ब्याज मुक्त कर्ज कम देना होगा
    कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार में रिफाइनरी लगाने के लिए जो एमओयू किया था, उसके अनुसार राज्य सरकार की ओर से रिफाइनरी कंपनी को सालाना 15 साल तक 3637 करोड़ रु. ब्याज मुक्त ऋण देना था। जबकि मौजूदा सरकार और एचपीसीएल के बीच हुए करार के अनुसार प्रदेश को अब 1123 करोड़ रु. ही प्रतिवर्ष ब्याज मुक्त ऋण देना पड़ेगा। ऐसे में राज्य सरकार को 2514 करोड़ रु. की सालाना बचत होगी। हालांकि गहलोत सरकार में जहां रिफाइनरी और पेट्रो केमिकल काम्पलेक्स 37320 करोड़ में बनकर तैयार हो रहा था, वहीं अब इसकी लागत 43 हजार करोड़ पहुंच गई है। लेकिन लागत बढ़ने का एक कारण एक प्रोसेसिंग यूनिट एक्सट्रा लगना भी रहेगा।

  • 43 हजार करोड़ के इन्वेस्ट वाली रिफाइनरी, लाएगी एक लाख रोजगार
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×