--Advertisement--

फाइव स्टार होटल से कम नहीं है ये शाही ट्रेन, जिसमें है जिम और बार की भी फैसिलिटी

23 कोच की इस शाही रेलगाड़ी में 14 सैलून, एक स्पा कोच, दो महाराजा एवं महारानी रेस्टोरेंट एवं एक रिसेप्शन कम बार कोच हैं।

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:51 AM IST
पैलेस ऑन व्हील्स (पीओडब्ल्यू) पैलेस ऑन व्हील्स (पीओडब्ल्यू)

जयपुर. पैलेस ऑन व्हील्स (पीओडब्ल्यू) की अपार सफलता के बाद सुपर लग्जरियस ट्रेन के नाम से 1982 में शुरू हुई राजस्थान पर्यटन विकास निगम की शाही रेल पैलेस ऑन व्हील्स(आरआरओडब्ल्यू) का बेस्ट ट्यूरिस्ट ट्रेन ऑफ द ईयर इंटरनेशनल अवार्ड के लिए चयन हुआ है। यह अवार्ड 9 मार्च को बर्लिन में इंटरनेशनल ट्रेवल्स बुर्ज (आईटीबी) की ओर से आयोजित होने वाले ट्रेवल मार्ट के समारोह में दिया जाएगा। बता दें कि इस ट्रेन को वर्ल्ड की टॉप 10 लग्जरी ट्रेन्स में रखा गया है। इस ट्रेन के अंदर जिम, बार, फूड कोर्ट के अलावा कई सुविधाएं लोगों को दी जाती हैं।

ये सुविधाएं मिलती हैं इस ट्रेन में

- इसके केबिन के नाम हवा महल, पद्मिनी महल, किशोरी महल, शीश महल, फूल महल और सुपर डीलक्स कोच ताज महल हैं। इन सैलूनों में नाम के अनुसार डिजाइन की गई है। इन डीलक्स केबिनों में वाई फाई इंटरनेट, सैटेलाइट टीवी, म्यूजिक सिस्टम और व्यक्तिगत तापमान नियंत्रण की सुविधाएं उपलब्ध है।
- इसके प्रत्येक कोच में चार केबिन हैं (जिन्हें कंपनी द्वारा सैलून या चैम्बर का नाम दिया गया है) जो विलासिता और ठाठ की सुविधाओं से परिपूर्ण हैं। इसके शीश महल कोच में लगभग सभी चीजों को कांच से बनाया गया है।
- ट्रेन में भारतीय और अंतरराष्ट्रीय ब्रांडों के स्प्राइट्स और वाइन की सुविधा है जो इसे लग्जरी बनाने मे सहायक है।
- इस शाही सवारी के द्वारा आप ताज महल, हवा महल, मोती महल, शीश महल, रंणथंभौर नेशनल पार्क चितौड़गढ़ किला और आगरे के किले का आनंद ले सकते हैं।
- इसमें खाने के तौर पर यात्रियों को भारतीय के साथ-साथ यूरोपीय, चीनी एवं कॉण्टिनेण्टल खाना भी परोसा जाता है।

इतना है किराया (2017)

सितंबर व अप्रैल में
- एक अकेला व्यक्ति-575 डॉलर यानी 34,787.50 रुपए।
- दो व्यक्ति एक साथ-430 डॉलर यानी 26,015 रुपए प्रति व्यक्ति।
- तीन व्यक्ति एक साथ-390 डॉलर यानी 23,595 रुपए प्रति व्यक्ति।

अक्टूबर से मार्च तक
- एक अकेला व्यक्ति-770 डॉलर यानी 46,585 रुपए।
- दो व्यक्ति एक साथ-575 डॉलर यानी 34,787.50 रुपए प्रति व्यक्ति।
- तीन व्यक्ति एक साथ-520 डॉलर यानी 31,460 रुपए प्रति व्यक्ति।

कोच के नाम हैं रजवाड़ों के नाम पर

- अवार्ड के लिए इस ट्रेन का चयन ट्रेवल राइटर्स की इंटरनेशनल संस्था द पेसिफिक एरिया ट्रेवल राइटर्स एसोसिएशन (पीएटीडब्ल्यूए) ने किया है।

- राजस्थान सरकार के दो अधिकारी डायरेक्टर (टूरिज्म) प्रदीप बोरड़ और वित्तीय सलाहकार मनीष माथुर अवार्ड लेने के लिए बर्लिन जाएंगे। इस ट्रेन की शुरूआत 1982 में हुई थी।

- भारतीय रेलवे के सहयोग से संचालित इस ट्रेन में 14 एसी कोच है। कोच के नाम राजस्थान रियासत के प्रमुख रजवाड़ों के नाम पर है।

- ट्रेन में विशेष भोजन के लिए अलग व्यवस्था है। ट्रेन प्रत्येक बुधवार को नई दिल्ली से रवाना होकर जयपुर, सवाई माधोपुर, चित्तौडगढ, उदयपुर, जैसलमेर, जोधपुर, भरतपुर, आगरा होते हुए वापस नई दिल्ली जाती है।

पैलेस ऑन व्हील्स के अंदर स्थित जिम पैलेस ऑन व्हील्स के अंदर स्थित जिम
पैलेस ऑन व्हील्स ट्रेन का इंटीरियर पैलेस ऑन व्हील्स ट्रेन का इंटीरियर
इसके केबिन के नाम हवा महल, पद्मिनी महल, किशोरी महल, शीश महल, फूल महल और सुपर डीलक्स कोच ताज महल हैं। इसके केबिन के नाम हवा महल, पद्मिनी महल, किशोरी महल, शीश महल, फूल महल और सुपर डीलक्स कोच ताज महल हैं।
पैलेस ऑन व्हील्स ट्रेन में खाने की जगह। पैलेस ऑन व्हील्स ट्रेन में खाने की जगह।
सैलूनों में नाम के अनुसार डिजाइन की गई है। सैलूनों में नाम के अनुसार डिजाइन की गई है।
डीलक्स केबिनों में वाई फाई इंटरनेट, सैटेलाइट टीवी, म्यूजिक सिस्टम और व्यक्तिगत तापमान नियंत्रण की सुविधाएं उपलब्ध है। डीलक्स केबिनों में वाई फाई इंटरनेट, सैटेलाइट टीवी, म्यूजिक सिस्टम और व्यक्तिगत तापमान नियंत्रण की सुविधाएं उपलब्ध है।
इसके प्रत्येक कोच में चार केबिन हैं इसके प्रत्येक कोच में चार केबिन हैं
शीश महल कोच में लगभग सभी चीजों को कांच से बनाया गया है। शीश महल कोच में लगभग सभी चीजों को कांच से बनाया गया है।
ट्रेन में भारतीय और अंतरराष्ट्रीय ब्रांडों के स्प्राइट्स और वाइन की सुविधा है जो इसे लग्जरी बनाने मे सहायक है। ट्रेन में भारतीय और अंतरराष्ट्रीय ब्रांडों के स्प्राइट्स और वाइन की सुविधा है जो इसे लग्जरी बनाने मे सहायक है।
इस शाही सवारी के द्वारा आप ताज महल, हवा महल, मोती महल, शीश महल, रंणथंभौर नेशनल पार्क चितौड़गढ़ किला और आगरे के किले का आनंद ले सकते हैं। इस शाही सवारी के द्वारा आप ताज महल, हवा महल, मोती महल, शीश महल, रंणथंभौर नेशनल पार्क चितौड़गढ़ किला और आगरे के किले का आनंद ले सकते हैं।
इसमें खाने के तौर पर यात्रियों को भारतीय के साथ-साथ यूरोपीय, चीनी एवं कॉण्टिनेण्टल खाना भी परोसा जाता है। इसमें खाने के तौर पर यात्रियों को भारतीय के साथ-साथ यूरोपीय, चीनी एवं कॉण्टिनेण्टल खाना भी परोसा जाता है।
अवार्ड के लिए इस ट्रेन का चयन ट्रेवल राइटर्स की इंटरनेशनल संस्था द पेसिफिक एरिया ट्रेवल राइटर्स एसोसिएशन (पीएटीडब्ल्यूए) ने किया है। अवार्ड के लिए इस ट्रेन का चयन ट्रेवल राइटर्स की इंटरनेशनल संस्था द पेसिफिक एरिया ट्रेवल राइटर्स एसोसिएशन (पीएटीडब्ल्यूए) ने किया है।
राजस्थान सरकार के दो अधिकारी डायरेक्टर (टूरिज्म) प्रदीप बोरड़ और वित्तीय सलाहकार मनीष माथुर अवार्ड लेने के लिए बर्लिन जाएंगे। इस ट्रेन की शुरूआत 1982 में हुई थी। राजस्थान सरकार के दो अधिकारी डायरेक्टर (टूरिज्म) प्रदीप बोरड़ और वित्तीय सलाहकार मनीष माथुर अवार्ड लेने के लिए बर्लिन जाएंगे। इस ट्रेन की शुरूआत 1982 में हुई थी।
X
पैलेस ऑन व्हील्स (पीओडब्ल्यू)पैलेस ऑन व्हील्स (पीओडब्ल्यू)
पैलेस ऑन व्हील्स के अंदर स्थित जिमपैलेस ऑन व्हील्स के अंदर स्थित जिम
पैलेस ऑन व्हील्स ट्रेन का इंटीरियरपैलेस ऑन व्हील्स ट्रेन का इंटीरियर
इसके केबिन के नाम हवा महल, पद्मिनी महल, किशोरी महल, शीश महल, फूल महल और सुपर डीलक्स कोच ताज महल हैं।इसके केबिन के नाम हवा महल, पद्मिनी महल, किशोरी महल, शीश महल, फूल महल और सुपर डीलक्स कोच ताज महल हैं।
पैलेस ऑन व्हील्स ट्रेन में खाने की जगह।पैलेस ऑन व्हील्स ट्रेन में खाने की जगह।
सैलूनों में नाम के अनुसार डिजाइन की गई है।सैलूनों में नाम के अनुसार डिजाइन की गई है।
डीलक्स केबिनों में वाई फाई इंटरनेट, सैटेलाइट टीवी, म्यूजिक सिस्टम और व्यक्तिगत तापमान नियंत्रण की सुविधाएं उपलब्ध है।डीलक्स केबिनों में वाई फाई इंटरनेट, सैटेलाइट टीवी, म्यूजिक सिस्टम और व्यक्तिगत तापमान नियंत्रण की सुविधाएं उपलब्ध है।
इसके प्रत्येक कोच में चार केबिन हैंइसके प्रत्येक कोच में चार केबिन हैं
शीश महल कोच में लगभग सभी चीजों को कांच से बनाया गया है।शीश महल कोच में लगभग सभी चीजों को कांच से बनाया गया है।
ट्रेन में भारतीय और अंतरराष्ट्रीय ब्रांडों के स्प्राइट्स और वाइन की सुविधा है जो इसे लग्जरी बनाने मे सहायक है।ट्रेन में भारतीय और अंतरराष्ट्रीय ब्रांडों के स्प्राइट्स और वाइन की सुविधा है जो इसे लग्जरी बनाने मे सहायक है।
इस शाही सवारी के द्वारा आप ताज महल, हवा महल, मोती महल, शीश महल, रंणथंभौर नेशनल पार्क चितौड़गढ़ किला और आगरे के किले का आनंद ले सकते हैं।इस शाही सवारी के द्वारा आप ताज महल, हवा महल, मोती महल, शीश महल, रंणथंभौर नेशनल पार्क चितौड़गढ़ किला और आगरे के किले का आनंद ले सकते हैं।
इसमें खाने के तौर पर यात्रियों को भारतीय के साथ-साथ यूरोपीय, चीनी एवं कॉण्टिनेण्टल खाना भी परोसा जाता है।इसमें खाने के तौर पर यात्रियों को भारतीय के साथ-साथ यूरोपीय, चीनी एवं कॉण्टिनेण्टल खाना भी परोसा जाता है।
अवार्ड के लिए इस ट्रेन का चयन ट्रेवल राइटर्स की इंटरनेशनल संस्था द पेसिफिक एरिया ट्रेवल राइटर्स एसोसिएशन (पीएटीडब्ल्यूए) ने किया है।अवार्ड के लिए इस ट्रेन का चयन ट्रेवल राइटर्स की इंटरनेशनल संस्था द पेसिफिक एरिया ट्रेवल राइटर्स एसोसिएशन (पीएटीडब्ल्यूए) ने किया है।
राजस्थान सरकार के दो अधिकारी डायरेक्टर (टूरिज्म) प्रदीप बोरड़ और वित्तीय सलाहकार मनीष माथुर अवार्ड लेने के लिए बर्लिन जाएंगे। इस ट्रेन की शुरूआत 1982 में हुई थी।राजस्थान सरकार के दो अधिकारी डायरेक्टर (टूरिज्म) प्रदीप बोरड़ और वित्तीय सलाहकार मनीष माथुर अवार्ड लेने के लिए बर्लिन जाएंगे। इस ट्रेन की शुरूआत 1982 में हुई थी।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..