--Advertisement--

7 साल में 200 करोड़ का तेल चोरी, दीपावली और कोहरे के समय सबसे ज्यादा चोरियां

बदमाश 20 मिनट में दो टैंकर भर लेते हैं पेट्रो उत्पाद

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 08:18 AM IST
Petrochemical product theft from pipelines near bharatpur

भरतपुर. बीते 7 साल में भरतपुर और आसपास के क्षेत्र में पेट्रो उत्पाद बनाने वाली कंपनियों की पाइप लाइन से करीब 200 करोड़ रुपए का तेल चुराया गया है। बीते वर्ष मथुरा में हुई चोरी में ही 100 करोड़ रुपए से अधिक का तेल चुरा लिया था। तीनों कंपनियों की लाइन में प्रदेश व यूपी के बदमाशों ने 10 बार सेंध लगाई। इससे कंपनियों के साथ ही पुलिस को चिंता सताने लगी है।

जिले के 13 थाना क्षेत्रों से बीपीसीएल, आईओसी और एचपीसीएल कंपनियों की तेल पाइपलाइन गुजरती है। हर साल करीब तीन से चार मामले में पाइपलाइन में सेंध लगाकर चोरी के सामने आते हैं। इसमें बड़ा गैंग उत्तरप्रदेश का ही होता है।


20 मिनट में ही कम से कम दो टैंकर भरने की क्षमता से पाइपलाइन में तेल का बहाव होता है। कुछ ही मिनट में तेल चुराकर आरोपी मौके से भाग जाते हैं। चुराए तेल को बेचकर फिर से तेल निकाल लेते हैं। पाइपलाइन के पास कुछ मिनट का ही ठहराव होता है इसलिए पुलिस समय रहते पकड़ नहीं पाती है। बीते 7 सालों में पुलिस पूरे गैंग को कभी भी नहीं पकउ़ पाई है।

100 करोड़ की तेल चोरी में एटा के गैंग ने लगया था वाॅल्व

तीनों पेट्रो कंपनियों के अधिकारियों ने बुधवार को आईजी आलोक वशिष्ठ व एसपी अनिल कुमार टांक की अध्यक्षता में तेल पाइपलाइन की सुरक्षा पर बैठक की। बैठक में बताया कि कुम्हेर व फरवरी 2017 में मथुरा रिफाइनरी की पाइपलाइन से 100 करोड़ के तेल चोरी की घटना पर गहनता से विचार किया गया।

- इसमें बताया कि एटा की गैंग सिर्फ पाइपलाइनों में वॉल्व लगाती है। इसके लिए 5 लाख रुपए लेती है। जबकि दूसरी गैंग को उस स्थान पर तेल चोरी करने के लिए बेच देती है। इसमें स्थानीय गैंग भी शामिल हो जाते हैं।

- बैठक में एचपीसीएल के लोकेशन प्रभारी धर्मपाल, महाप्रबंधक मनोज कुमार शर्मा, आइओसी के महाप्रबंधक हेमेंद्र गोयल, वरिष्ठ प्रबंधक राजेश खन्ना, उपमहाप्रबंधक सीलक्ष्मीकांत मौजूद थे।

आधे से कम कीमत में बेचते हैं तेल
पाइपलाइन में वॉल्व लगाकर तेल चोरी करने के बाद आरोपी इसे आधी कीमत में बेच देते हैं। अब तक हुई पुलिस जांचों में पता चला है कि निजी पंपों को तेल 35 से 40 रुपए में कर देते हैं। बीते वर्ष फरवरी में करीब 100 करोड़ रुपए का तेल चुराया गया था।

इन कानूनों में होती है कार्रवाई

1. सरकारी कंपनी की तेल लाइन को क्षति पहुंचाने के कानून में, चोरी की धाराओं में
2. राष्ट्र की संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के
3. आयुध व आवश्यक सेवा अधिनियम में

जिले के इन थानों से होकर गुजरती है बीपीसीएल की तेल पाइप लाइन

बीपीसीएल की लाइन बयाना थाना क्षेत्र में करीब 25 किलोमीटर, रुदावल 7, उच्चैन 12, सेवर 14, उद्योग नगर 15, चिकसाना 4 किमी क्षेत्र से गुजरती है। वहीं एचपीसीएल की लाइन सीकरी थाना क्षेत्र में करीब 12 किलोमीटर, नगर 10, डीग 14, उद्योग नगर 11 और चिकसाना से 7 किमी लाइन गुजरती है। आईओसी की लाइन भुसावर, हलैना, नदबई, कुम्हेर और उद्योग नगर थाना क्षेत्र से निकलती है।

यहां कर सकते हैं शिकायत

1. किसी भी पुलिस अधिकारी और पुलिस कंट्रोल रूम व थाने पर शिकायत करें

2. कंट्रोल रूम नंबर 7230024701 व 9414039527 पर कॉल करें

3. मदद के लिए पुलिस के टोल फ्री 18001801276 पर शिकायत करें

कब कहां हुई तेल चोरी

- 13 दिसंबर 2011पथैना में

- 09 नवंबर 2012 मारौली

- 25 मार्च 2013 महंगाया

- 06 अगस्त 2014 बैलारा

- 20 जुलाई 2015 सहना

- 07 नवंबर 2016 दुुंदावल

- 25 दिसंबर, 2016 कूम्हां

- 13 जनवरी, 2017 सिरथली, फरवरी-मथुरा

- 16 अक्टूबर बिलौठी

Petrochemical product theft from pipelines near bharatpur
Petrochemical product theft from pipelines near bharatpur
X
Petrochemical product theft from pipelines near bharatpur
Petrochemical product theft from pipelines near bharatpur
Petrochemical product theft from pipelines near bharatpur
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..