--Advertisement--

बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा जिलाध्यक्ष निकला सट्‌टा किंग, करोड़ों का हिसाब मिला

उगाही कर ला रहा था पैसे, पुलिस को देख भागे परंतु दबोचे गए, अब एजेंटों की बारी

Danik Bhaskar | Jan 30, 2018, 05:49 AM IST

गंगापुर सिटी/जयपुर. सट्टे की खाई वाली के एक बड़े नेटवर्क का खुलासा करते हुए पुलिस ने गिरोह के सरगना और उसके दो साथियों को रविवार देर रात धर दबोचा। मुख्य आरोपी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे का करौली जिलाध्यक्ष अमीनुद्दीन (43) है। आरोपियों के कब्जे से 13 लाख रुपए नकद, सात मोबाइल, सट्टे के करोड़ों के कारोबार के हिसाब का चिट्ठा और एक कार जब्त की है।

- थानाधिकारी दीपक ओझा ने बताया कि सट्टे की खाई वाली के सरगना अमीनुद्दीन के आने की सूचना पर पुलिस दल उदेई मोड चौकी पहुंचा और स्कॉर्पियो कार नंबर आरजे 14 यू एफ 0255 को रुकवाया। पुलिस को देखकर गाड़ी में बैठे तीन जने भागने लगे लेकिन पुलिस ने उन्हें धर दबोचा। कार की तलाशी लेने पर नकदी व सट्टे के हिसाब का चिट्ठा मिला।
- आरोपियों में अमीनुद्दीन पुत्र मईनुद्दीन निवासी ढोली खार करौली, मासलपुर गेट करौली निवासी शाहिद खां पुत्र छोटे खां और इस्लामपुरा गंगापुर निवासी मोहम्मद शफीक शामिल हैं। तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

#काफी समय से मिल रही थी सूचना, देर रात दबोचा गया

- दीपक ओझा ने बताया कि सट्टे के कारोबार की काफी दिनों से पुलिस को सूचना मिल रही थी, लेकिन इस कारोबार की छोटी मछलियां ही पुलिस के हाथ लग रही थी जबकि पुलिस को मोटे मगरमच्छ की तलाश थी। वह आता और चला जाता इसके बाद ही पुलिस को इसकी सूचना मिल पाती थी।
- पुलिस ने अपने मुखबिर मुस्तैद किए और रविवार देर रात उसके बारे में पुख्ता सूचना मिली, सूचना पर पुलिस ने अपना जाल बिछाया और उसे धर दबोचा।

#हर शहर में एजेंट, रैकेट करता था मोटी कमाई
- सट्टा किंग अमीनुद्दीन ने करौली, गंगापुर, दौसा, लालसोट सहित आसपास के बड़े इलाके में अपना कारोबार फैला रखा था। उसने हर शहर में अपने एजेंट बना रखे थे जो लोगों से सट्टा लगवाते थे और नंबर उसे लिखवाते थे, वह उन नंबरों के पैसे को दिल्ली मुंबई के बड़े एजेंटों को लिखवा देता था, इसके एवज में पूरा रैकेट मोटी कमाई करता था।

#सट्‌टा कारोबारी का भाजपा कनेक्शन
- सट्टा किंग अमीनुद्दीन सत्ताधारी पार्टी भाजपा से जुड़ा है और फिलहाल करौली जिले में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे का जिलाध्यक्ष है। 31 दिसंबर को उसकी नियुक्ति की घोषणा की गई थी।
- इसके बाद 7 जनवरी को उसका अभिनंदन समारोह आयोजित किया गया, जिसमें करौली भाजपा जिलाध्यक्ष रमेश राजौरिया भी मौजूद रहे।
- हाल ही में वह अलवर में भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार करने गया था जहां उसकी भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी के साथ फोटो भी सोशल मीडिया पर खूब चली।


#इंटरनेशनल मैचों पर रहती थी नजर
- अमीनुद्दीन ने बताया कि दिल्ली और मुंबई से आने वाले नंबरों के आधार पर वह सट्टा लगाने और लगवाने का काम करता था।
- इसके अलावा क्रिकेट के बड़े और अंतर्राष्ट्रीय मैचों में भी सट्टा लगवाता था जिससे उसे मोटी राशि प्राप्त होती थी।
- इस राशि में से छोटे डीलरों और खुद का हिस्सा काटकर बाकी राशि दिल्ली और मुंबई में बैठे बड़े एजेंटों को दे देता था।


#दिल्ली-मुंबई नंबरों पर होती थी डीलिंग, क्रिकेट पर भी सट्‌टा
- भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलाध्यक्ष के लाखों रुपए के सट्टे के मामले में गिरफ्तार होने की सूचना जैसे ही फैली और प्रदेश नेतृत्व तक पहुंची तो पार्टी पदाधिकारी सकते में आ गए।
- मीडियाकर्मियों ने जब उनसे इस बारे में जानना चाहा तो वे पल पल बयान बदलते रहे। कभी वे अमीनुद्दीन के भाजपा का प्राथमिक सदस्य होने से मुकरे तो कभी उसे पूर्व जिलाध्यक्ष बताया तो कभी जिलाध्यक्ष के पैनल में शामिल उम्मीदवार के रूप में उसे बताया, लेकिन जब मीडिया ने पदाधिकारियों के सामने सबूत रखे तो उन्हें सच्चाई माननी पड़ी।

#मैंने की थी नियुक्ति
- प्रदेश नेतृत्व की सहमति से मैंने ही अमीनुद्दीन को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे का जिलाध्यक्ष नियुक्त किया था। पार्टी के किसी भी कार्यकर्ता से ऐसा कृत्य अपेक्षित नहीं है। मैं अभी अलवर में हूं। आने के बाद जांच करेंगे और कार्रवाई करेंगे।
-रमेश राजौरिया, जिलाध्यक्ष, भाजपा करौली

पद अभी खाली है
अमीनुद्दीन का नाम करौली से अल्पसंख्यक मोर्चे के जिलाध्यक्ष के रूप में पैनल में आया था, लेकिन अभी तक मैने नियुक्ति नहीं की है। पिछले अध्यक्ष को हटाने के बाद मोर्चा जिलाध्यक्ष का पद खाली है।
- मजीद मलिक कमांडो, प्रदेशाध्यक्ष, भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा