--Advertisement--

अय्याशी करने फ्लाइट से दिल्ली-मुंबई जाता और रुपए खत्म होते ही फिर चोरी करता

कहानी बनी हकीकत; दादी, पिता, बहन के रुपए चुराते-चुराते बना सुपर चोर

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 04:07 AM IST

जयपुर. यह कहानी उस युवक की है जो बचपन में अपनी जरूरतें पूरी करने को पिता की जेब व दादी के बटुए से रुपए चुराता। दादी और पिता उसे डांटने के बजाय लाड़-प्यार करते रहे। डांटते भी तो आसपास के लोग बिना मां का बच्चा कहकर सहानुभूति जताते और बच्चे का ही पक्ष लेते। दस साल बाद आज वह ऐसा सुपर चोर बन चुका है जो दुकानों के ताले तोड़कर चोरी करता है और अय्याशी के लिए फ्लाइट से दिल्ली और मुंबई जाता है। रुपए खत्म होते ही फिर जयपुर आता और चोरी करता। कैब से वह दुकानों और बंद मकानों की रैकी करता। शाहरुख नामक यह युवक अब खो नागोरियान पुलिस के हत्थे चढ़ा है। उसने 25 दुकानों के ताले तोड़ने की बात कबूल की है।

खोह नागोरियान थाना प्रभारी इंद्राज मरोडिया ने बताया कि आरोपी शाहरुख (24) मोती डूंगरी रोड स्थित कसाइयों के मोहल्ले का है और मूलत: टोंक का है। पूछताछ में शाहरुख ने टोंक सहित जयपुर के कई इलाकों में मकानों, थड़ियों व दुकानों के ताले तोड़ने की वारदात कबूल की है। किसी को शक नहीं हो इसके लिए वह आसपास रहने वालों को दुकानदार बताता था। कांस्टेबल सुभाष व रविन्द्र को आरोपी शाहरुख के बारे में सूचना लगी। जिस पर दोनों ने थाने लाकर पूछताछ की।


एसीपी मालवीय नगर कावेन्द्र सिंह सागर ने बताया कि शाहरुख चोरी के रुपयों से अय्याशी के लिए जयपुर से मुंबई फ्लाइट से जाता और वहां शौक पूरे करता था। रुपए खत्म होने के बाद वापस जयपुर आकर रैकी कर वारदात करता। अय्याशी के लिए अजमेर, दिल्ली, मुंबई जाने की बात कबूल की है। पूछताछ में बताया कि कैब बुक कर वह रैकी करता। इसके बाद दूसरी कैब से रैकी किए मकान पर पहुंचता और वारदात कर कैब से ही फरार हो जाता।

स्कूल से ही बन गया चोर
पूछताछ में पता चला कि शाहरुख स्कूल से घर लौटते समय ही ऐसे मकान देखता जहां ताला लगा हो। रात को वहां ताले तोड़कर चोरी करता। अय्याशी और चोरी की लत में उसने स्कूल भी छोड़ दिया। धीरे-धीरे अय्याशी बढ़ने लगी। वह फ्लाइट से दिल्ली, मुंबई जाता।


शौक ने पहुंचाया सींखचों में
कुछ दिन पहले खोह नागोरियान थाना पुलिस को इस युवक के फ्लाइट से यात्राएं करने के बारे में जानकारी लगी थी। पुलिस ने थाने लाकर पूछताछ की तो शाहरुख ने सबकुछ बयां कर दिया। उसे खुद को याद नहीं है कि उसने कितनी दुकानों के ताले तोड़े हैं। जब उसे उन मकानों की डिटेल बताई जहां गत 4-5 माह में चोरियां हुई हैं तो वह वहां वारदात करना कबूल करता गया। पूछताछ के दौरान ही वह रोते हुए बोला-अगर बचपन में ही मुझे पिता के जेब से रुपए चुराने पर लाड प्यार की जगह डांट-फटकार मिलती तो आज मैं यहां नहीं होता।