--Advertisement--

साइकोलॉजिकल टेस्ट पास कमांडो ही होंगे सीएम और गवर्नर सिक्योरिटी में

सीएम और राज्यपाल की सुरक्षा के प्रोटोकॉल में बड़ा बदलाव।

Danik Bhaskar | Dec 16, 2017, 05:12 AM IST

जयपुर. मुख्यमंत्री और राज्यपाल की सुरक्षा में तैनात कमांडो को भयंकर मानसिक और शारीरिक दबाव से गुजरना पड़ता है। अब हर साल इन्हें साइकोलॉजिकल और फिटनेस टेस्ट पास कर साबित करना होगा कि वे इस महत्वपूर्ण जिम्मेदारी के योग्य हैं। टेस्ट में राजस्थान यूनिवर्सिटी के साइकोलॉजी विभाग की मदद ली जाएगी। फिलहाल सीएम वसुंधरा राजे और राज्यपाल कल्याण सिंह की सुरक्षा में तैनात कमांडो टुकड़ी के टेस्ट की प्रक्रिया जारी है। टेस्ट में फेल कमांडो रिप्लेस किए जाएंगे।

- पुलिस मुख्यालय के इंटेलीजेंस ब्रांच के अधिकारियों के मुताबिक, राजस्थान यूनिवर्सिटी के प्रोफेसरों की मदद से प्रश्नपत्र तैयार किया गया है। इस आधार पर कमांडो का इंटरव्यू होगा।

सुरक्षा में हैं 48 कमांडो, टेस्ट जारी

- राजस्थान यूनिवर्सिटी के दो प्रोफेसर, आईजी सिक्योरिटी व डीआईजी सिक्योरिटी फिलहाल सीएम व राज्यपाल की सुरक्षा में तैनात 48 कमांडो का टेस्ट ले रहे हैं।

- टेस्ट में फेल होने पर इन्हंें हटाकर आरएसी व जिला पुलिस से दूसरे जवानों को तैनात किया जाएगा। उनकी तैनाती भी टेस्ट पास करने के बाद ही होगी।

- इंटेलीजेंस के अधिकारियों की माने तो सीएम वसुंधरा राजे व राज्यपाल कल्याण सिंह की सुरक्षा में वर्तमान में 48 कमांडो तैनात हैं।

- सभी कमांडो की अलग-अलग शिफ्ट में ड्यूटी लगती है। इसके लिए 3-3 ड्यूटी प्वाइंट बना रखे हैं।

- जयपुर से बाहर दौरे करने पर कमांडो को एक दिन पहले भेज दिया जाता है। जहां पर सीएम व राज्यपाल के पहुंचने से पहले कमांडो सुरक्षा के लिए तैनात हो जाते हैं।

इन बिंदुओं पर देंगे ध्यान

- ड्यूटी से कितना तनाव महसूस करता है। कैसे निपटता है।
- वीआईपी मूवमेंट की गोपनीय रखता है या नहीं।
- वीआईपी के पब्लिक इंटरेक्शन के दौरान बर्ताव कैसा है।
- बॉडी लैंग्वेज देखकर मानसिक स्थिति परखी जाएगी।
- इन सबके साथ ही उसका फिटनेस टेस्ट भी होगा।


वर्ष 2014 में सीएम व राज्यपाल की सुरक्षा कमांडो का बैच बनाया था। ड्यूटी में तनाव और पारिवारिक समस्याएं नहीं रहे और गोपनीयता रखे। इसके लिए साइकोलॉजिकल टेस्ट करेंगे। टेस्ट में कोई कमांडो फेल हो जाता है तो उसको रिप्लेस कर दिया जाएगा।

- यूआर साहू, एडीजी इंटेलीजेंस व सीएम सिक्योरिटी, पुलिस मुख्यालय