--Advertisement--

शेरनी 'तेजिका' ने 10 मिनट बाद दम तोड़ा, पता सुबह 9 बजे चला

दो साल पहले जूनागढ़ से आई शेरनी ने मई में 3 बच्चों को जन्म दिया, अचानक मौत से मॉनिटरिंग पर सवाल

Danik Bhaskar | Jan 17, 2018, 03:32 AM IST

जयपुर. दो साल पहले जूनागढ़ से जयपुर लाई गई और मई 2017 में नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में 3 बच्चों को जन्म देकर खुशियां बिखेरने वाली शेरनी ‘तेजिका’ की रहस्यमयी हालात में मौत हो गई। मंगलवार सुबह रुटीन के लिहाज से केयरटेकर ने जैसे ही पिंजरे की साफ-सफाई के लिए तेजिका के पिंजरे में नजर दौड़ाई तो उसकी मृत बॉडी मिली। पिंजरे में लगे कैमरा फुटेज को देखा तो पता लगा कि सोमवार रात कोई 8:19 बजे तेजिका असहज दिखी.. दो-तीन बार बैठी-खड़ी हुई... लड़खड़ाकर बैठी... पांव स्ट्रेच किए...निढाल हुई और फिर नहीं उठी। 10 मिनट के अंतराल में उसकी मौत हो गई। मंगलवार दोपहर को पोस्टमार्टम में मौत का कारण दिल का दौरा पड़ना बताया जा रहा है। अचानक शेरनी की मौत ने मॉनिटरिंग आदि को लेकर सवाल खड़े कर दिए हैं। क्योंकि जनवरी 2016 में लाई गई तेजिका की मार्च में गंभीर हालत बिगड़ गई थी, वहीं अक्टूबर 2016 में एक बार फिर उसकी तबियत पेरालिसिस (पिछले पांव) के चलते नाजुक हो गई। देखभाल, समय-समय पर सैंपलिंग और रुटीन चैकअप पर ध्यान देने की जरूरत थी। सामने आया है कि सर्दी के मौसम में कोटा स्टोन के फर्श पर बगैर पराल आदि के रखा जा रहा था। हालांकि वन विभाग इनको मौत की वजह नहीं मान रहा। सूक्ष्म अध्ययन बरेली आईवीआरआई और एफएसएल को भेजी रिपोर्ट में सामने आएंगे। अचानक हुई मौत की खबर ने वन्यजीव प्रेमियों को दुखी करने सहित कई सवाल भी पैदा कर रही है।