--Advertisement--

इंडियन पुलिसवालों का वो चेहरा, जो कभी-कभी देखने को मिल जाता है

पुलिस की ऐसी दरियादिली को देखकर कोई भी तारीफ किए बिना नहीं रह सकता।

Dainik Bhaskar

Jan 08, 2018, 01:29 AM IST
दो दिन बाद मिला मासूम तो खिल उठे चेहरे, यूं खेलने लगा SP की कैप से। दो दिन बाद मिला मासूम तो खिल उठे चेहरे, यूं खेलने लगा SP की कैप से।

जयपुर. आमतौर पर अपने क्रूर, बर्बर और अमानवीय करतूतों की वजह से चर्चा में रहने वाले पुलिसवालों का कई बार मानवीय और संवदेनशील चेहरा भी नजर आता रहता है। पुलिस की ऐसी दरियादिली को देखकर कोई भी तारीफ किए बिना नहीं रह सकता। DainikBhaskar.com आपको खाकी वर्दी के अच्छे कामों से जुड़ीं कहानियां बता रहा है...

केस-1

- राजस्थान के उदयपुरवाटी से अगवा किए गए मासूम को पुलिस ने महज दो दिनों के भीतर सकुशल छुड़ा लिया।

- दरअसल, 22 दिसंबर 2017 की शाम को उदयपुरवाटी के वार्ड-23 में किशोर मेघवाल का बेटा युवराज (3) घर के बाहर खेल रहा था। इस दौरान उसका अपहरण कर लिया था।

- मामला दर्ज होते ही उद्योगनगर, सदर, दादिया, उदयपुरवाटी, मंडावा और उदयपुरवाटी की पुलिस टीम एक्टिव हुई और दो दिनों के भीतर मासूम को ढूंढ निकाला। साथ ही आरोपी प्रकाश बावरियां को धर दबोचा।

यह फोटो हैदराबाद की एडिशनल एसपी स्वाति लकरा ने ट्वीट की थी। यह फोटो हैदराबाद की एडिशनल एसपी स्वाति लकरा ने ट्वीट की थी।

केस-2 


- कुछ दिन पहले एक पुलिस अफसर की गोद में खिलखिलाते मासूम बच्चे की तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी।

- इस फोटो को हैदराबाद की एडिशनल एसपी स्वाति लकरा ने ट्वीट की थी जिसके बाद से अब तक इस तस्वीर को लाखों लाइक मिल चुके हैं और इसे हजारों बार री-ट्वीट किया जा चुका है।

- यह मुस्कुराती तस्वीर पुलिस की चुस्ती की कहानी कहती है। 
-  दरअसल, हैदराबाद के नेमपल्ली में 4 माह का बच्चा फैजान खान अपनी मां के साथ फुटपाथ पर सो रहा था।

- इसी बीच एक दिन रात तीन बजे दो लोगों ने उसे अगवा कर लिया। मां ने पुलिस के पास जाकर रिपोर्ट दर्ज कराई।
- इसके तुरंत बाद पुलिस ने फुर्ती दिखाई और महज 16 घंटे के अंदर मासूम को बरामद कर मां के हाथों में सौंप दिया।
- केस सुलझाने के बाद जैसे ही इंस्पेक्टर आर. संजय कुमार ने मासूम को गोद में लिया, बच्चा खिलखिलाकर हंस पड़ा।
- उस मासूम हंसी को देख पुलिस इंस्पेक्टर समेत वहां खड़े सभी लोग अपनी मुस्कान रोक नहीं पाए।
 - दोनों अपहरणकर्ताओं मोहम्मद मुश्‍ताक और मोहम्मद युसूफ को भी गिरफ्तार कर लिया गया। ये हैवान बच्चे को बेचने की तैयारी कर रहे थे।

several times indian police show humanity face instead to Inhuman

केस-3

 

- पिछले साल उत्तराखंड के हल्द्वानी की गल्ला मंडी इलाके से 3 माह के बच्चे का अपहरण हो गया था।

- सूचना मिलते ही पुलिस ने आसपास के सीसीटीवी फुटेज खंगालने शुरू कर दिए और लगभग 10 घंटे की मशक्कत के बाद बच्चे को ढूंढ निकाला।

- आरोपी महिला का कहना था कि वह बच्चे को पालने के लिए ले जा रही थी।

- दरअसल, इलाके की सुभाष कालोनी में रहने वाले सोनू रंधावा के घर से एक महिला ने बच्चे को अगवा कर लिया गया। महिला दूर की रिश्तेदार बताई जा रही थी। उसका पहले भी इस घर में आना जाना था।

- सीसीटीवी की मदद से पुलिस ने प्रीत विहार कॉलोनी में रहने वाली लाड़ी पुत्र जीत सिंह के घर से बच्चे को बरामद कर लिया था।  

बच्चे ने थाने में की पापा की शिकायत, पुलिस ने घुमाया मेला घुमाकर पूरी की नुमाइश बच्चे ने थाने में की पापा की शिकायत, पुलिस ने घुमाया मेला घुमाकर पूरी की नुमाइश

केस-5

 

- उत्तरप्रदेश के इटावा में मेला घुमाने न ले जाने पर एक बच्चा अपने पिता की शिकायत दर्ज करवाने थाने जा पहुंचा। जहां न केवल पुलिसवालों ने उसकी समस्या को सुना बल्कि उसका कुछ ही देर में बेहतरीन ढंग से समाधान भी कर दिया।

- थाने के स्टाफ ने अनोखी पहल करते हुए मासूम ओम नारायण गुप्ता को अपने साथ गाड़ी में बैठाया और उसे ले पहुंचे मेले में।

- वहां पुलिसवालों ने बच्चे को जमकर मेले की सैर कराई, सॉफ्टी खिलाई, झूला-झुलवाया और खूब मौज मस्ती करवाई। 

चोटिल राहगीर का प्राथमिक इलाज करता ट्रैफिककर्मी। चोटिल राहगीर का प्राथमिक इलाज करता ट्रैफिककर्मी।

केस-6

 

- इसी तरह एक बार झारखंड की राजधानी रांची की सड़क पर एक्सीडेंट में जख्मी होकर तड़प रहे शख्स को ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने सहारा दिया। 
- दरअसल, एक मोटरसाइकिल सवार शख्स सिरम टोली चौक के पास बाइक से गिर पड़ा। 
- इसी दौरान वहां ड्यूटी पर तैनात ट्रैफिककर्मी वासुदेव उरांव ने चोटिल शख्स को उठाया और उसकी पैर के मोच को ठीक करने की कोशिश की। 
- ट्रैफिक एसपी संजय रंजन सिंह ने उरावं की सराहना की और उन्हें सम्मान देने के लिए घोषणा भी की।

एसपी ने चार साल के बच्चे को दिखाई पिस्टल। एसपी ने चार साल के बच्चे को दिखाई पिस्टल।

केस-7

 

 

- मध्य प्रदेश के रतलाम में भी एक ऐसा मामला सामने आया था। यहां लक्ष्मणपुरा इलाके में एक केस को लेकर पुलिसिया कार्रवाई के दौरान कलेक्टर के साथ कार में बैठे एसपी की नजर मासूम बच्चे पर पड़ी।
-  पिता की गोद में बैठा वह बच्चा पुलिस जैसी वर्दी पहना हुआ था। उसके पास में पहुंचकर एसपी अमित सिंह ने उसे दुलारा और उससे इशारों में खूब बातें करते रहे।
- एसपी के सवालों को सुनकर बच्चा तोतली आवाज में जवाब देता, यह सुनकर सभी हंसने लगते। 
- पुलिस कप्तान ने बच्चे से पूछा कि वर्दी अच्छी लगती है ? तो उसने सिर हिलाकर हां में जवाब दिया। यह देख अमित सिंह ने अपना कैप निकाल मासूम को पहना दिया। 

पिस्टल भी दिखाई
- इसी वार्तालान के दौरान बच्चा एकटक निगाहों से एसपी के गनर को देख रहा था। तो उन्होंने पिस्टल मांगकर बच्चे के आगे कर। हालांकि, उसे हाथ नहीं लगाने दिया। वहीं, इससे पहले गनर ने पिस्टल से मैगजीन निकाल ली थी। 

X
दो दिन बाद मिला मासूम तो खिल उठे चेहरे, यूं खेलने लगा SP की कैप से।दो दिन बाद मिला मासूम तो खिल उठे चेहरे, यूं खेलने लगा SP की कैप से।
यह फोटो हैदराबाद की एडिशनल एसपी स्वाति लकरा ने ट्वीट की थी।यह फोटो हैदराबाद की एडिशनल एसपी स्वाति लकरा ने ट्वीट की थी।
several times indian police show humanity face instead to Inhuman
बच्चे ने थाने में की पापा की शिकायत, पुलिस ने घुमाया मेला घुमाकर पूरी की नुमाइशबच्चे ने थाने में की पापा की शिकायत, पुलिस ने घुमाया मेला घुमाकर पूरी की नुमाइश
चोटिल राहगीर का प्राथमिक इलाज करता ट्रैफिककर्मी।चोटिल राहगीर का प्राथमिक इलाज करता ट्रैफिककर्मी।
एसपी ने चार साल के बच्चे को दिखाई पिस्टल।एसपी ने चार साल के बच्चे को दिखाई पिस्टल।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..