--Advertisement--

छत से गिरा तो दायां हाथ कटा, फिर भी हिम्मत नहीं हारी; अब बना RAS अफसर

मुकेश ने आरएएस की तैयारी की और आखिरकार राजस्थान प्रशासनिक सेवा में कामयाबी हासिल कर ली।

Danik Bhaskar | Jan 29, 2018, 04:45 AM IST

कुचामन ग्रामीण/नागौर. राजस्थान के गांव गौगोर निवासी मुकेश बाजिया ने एक हाथ नहीं होने का कभी अफसोस जाहिर नहीं किया। बल्कि जीवन में आने वाली हर चुनौती को स्वीकार करते हुए उसका डटकर मुकाबला किया। मुकेश ने गांव में रहकर पढ़ाई की। फिर एक के बाद एक सरकारी सेवाओं में चयन होने के बाद प्रशासनिक सेवाओं तक पहुंचने में कामयाबी हासिल कर ली।

- आरएएस में चयनित मुकेश के पिता नेमाराम बाजिया साधारण किसान है।

- बचपन में एक बार खेलते समय मुकेश घर की छत से नीचे गिर गया और दाएं हाथ में ऐसे फ्रैक्चर आए कि आखिर में हाथ काटने का विकल्प बचा।

- शारीरिक कमी के बाद भी उन्होंने हार नहीं मानी। दृढ़ संकल्प के साथ लक्ष्य की ओर बढ़े।
- सबसे पहले 2009 में पोस्ट ऑफिस में नौकरी हासिल की। इसके बाद 2014 में वरिष्ठ लेखा परीक्षक के रूप में चयन हुआ, लेकिन मुकेश का मुकाम था प्रशासनिक सेवा।
- नौकरी करते हुए मुकेश ने आरएएस की तैयारी की और आखिरकार राजस्थान प्रशासनिक सेवा में कामयाबी हासिल कर ली।

- मुकेश बताते हैं कि उन्होंने कभी भी अपने मन में एक हाथ नहीं होने के चलते निराशा का भाव नहीं आने दिया। उन्होंने अपना लक्ष्य केंद्रित रखते हुए हमेशा उसी अनुरूप तैयारी की।

गांव पहुंचने पर ग्रामीणों ने किया स्वागत
आरएएस बनने के बाद गौगोर पहुंचने पर मुकेश बाजिया का ग्रामीणों व परिजनों ने स्वागत किया। इस दौरान लादूराम सुन्दरिया, भागुराम सुन्दरिया, भंवरलाल जाखड़, नानूराम कुल्डिया, श्रवणराम, केसाराम आदि ने मुकेश का साफा व माला पहनाकर स्वागत किया।