--Advertisement--

महिला की आत्मा ले जाने हॉस्पिटल पहुंचे तांत्रिक और करने लगे तंत्र क्रिया, डिलीवरी से हुई थी महिला की मौत

आत्मा की ज्योत ले जाने के नाम पर भाले लेकर आधे घंटे तक रुके।

Danik Bhaskar | Mar 28, 2018, 05:20 AM IST
अस्पताल में हंगामे के बाद टूटे कांच। अस्पताल में हंगामे के बाद टूटे कांच।

चित्तौड़गढ़ (उदयपुर). तांत्रिक की धरपकड़ और जागरूकता के बावजूद लोग अपने अंधविश्वासी रवैयों से बाज नहीं आ रहे। ऐसा की एक वाक्या चित्तौड़गढ़ जिले के बेंगू कस्बे के अस्पताल (सीएचसी) में देखने मिला जिसमें ये तांत्रिक डिलीवरी के दौरान हुई एक महिला की मौत के बाद उसकी आत्मा लेने आ पहुंचे। वे करीब आधा घंटे तक अस्पताल में ढोल बजाते रहे। भाले घुमाते रहे, लेकिन उन्हें किसी ने नहीं रोका-टोका। अस्पताल स्टाफ भी चुप बना रहा। महिला तांत्रिक ने तोड़ दिया था कांच...

- एक महिला तांत्रिक किलकारियां करते हुए सीधे डिलीवरी रूम पहुंची और हाथ डाॅक्टर की टेबल पर पटका तो उसका कांच टूटकर नीचे गिर गया।

- अस्पताल में करीब आधे घंटे यह धमाल चलता रहा, साथ आए लोग भी सहम गए थे।

- एक महिला किलकारियां करते हुए सीधे डिलिवरी रूम पहुंच गई। स्टाफ भय और परंपरा के नाम से कुछ नहीं बोला।

पहली बार नहीं हुआ ऐसा

- इस अस्पताल में आत्मा को ले जाने के नाम पर ऐसा धमाल पहली बार नहीं हुआ।

- दबे स्वर स्टाफ खुद मानता है कि ऐसा कई बार होता है। साल के कुछ खास दिनों या महीनों में। आज तक इस ओर ध्यान नहीं दिया गया।

स्टाफ के विरुद्ध कार्रवाई होगी

- अस्पताल में तांत्रिकों का क्या काम। मैंने कर्मचारियों को ऐसा अंधविश्वास फैलाने वाले लोगों का प्रवेश बंद करने के आदेश दे रखे है। डयूटी स्टाफ के विरुद्ध कार्रवाई होगी।- डाॅ. जीआर भुकल, सीएचसी प्रभारी, बेगूं।

हॉस्पिटल में महिला तांत्रिक ढोल बजाते हुए। हॉस्पिटल में महिला तांत्रिक ढोल बजाते हुए।