--Advertisement--

विवादों में घिरा आरयू: एबीवीपी अधिवेशन के लिए यूनिवर्सिटी स्थगित की परीक्षाएं

पीजी सेमेस्टर की 22 से 27 दिसंबर की परीक्षाएं स्थगित कीं, 24 से 26 दिसंबर तक जयपुर में है एबीवीपी का अधिवेशन

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 05:13 AM IST

जयपुर. राजस्थान विश्वविद्यालय ने पीजी की सेमेस्टर परीक्षाएं 15 दिसंबर से शुरू तो कर दीं, मगर शनिवार को अचानक ही 22 से 27 दिसंबर तक होने वाली परीक्षाओं का शेड्यूल स्थगित कर दिया गया। विवि प्रशासन तो इसके कारण स्पष्ट नहीं बता रहा, लेकिन हकीकत ये है कि इन परीक्षाओं को 24 से 26 दिसंबर के बीच होने वाले अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के प्रदेश स्तरीय अधिवेशन की वजह से स्थगित किया गया है। एबीवीपी के पदाधिकारियों ने वीसी से मिलकर परीक्षाओं की तिथि आगे बढ़ाने का अनुरोध किया था ताकि छात्र इस अधिवेशन में भाग ले सकें। इस मुलाकात के बाद ही परीक्षा का शेड्यूल स्थगित किया गया है। विवि प्रशासन ने अभी तक स्थगित की गई परीक्षाओं की नई तिथियों की घोषणा नहीं की है।

एबीवीपी ने पहले कहा-वीसी से मिलकर किया था तिथियां बदलने का अनुरोध

एबीवीपी के विवि इकाई अध्यक्ष होशियार सिंह, संजय माचेड़ी समेत कई पदाधिकारी व कार्यकर्ता कुलपति प्रो. आर.के. कोठारी से मिले थे। उन्होंने कुलपति से अनुरोध किया था कि पीजी की सेमेस्टर परीक्षाओं का शेड्यूल बदला जाए ताकि छात्र एबीवीपी के प्रदेश स्तरीय अधिवेशन में शामिल सकें।

विवाद बढ़ा तो पलटे, कहा-नहीं हुई कोई मुलाकात
हालांकि बाद में विवाद बढ़ता देख एबीवीपी नेताओं ने मामले से पल्ला झाड़ते हुए
कहा कि कुलपति से उनकी परीक्षाओं की तिथि के संबंध में कोई बात ही नहीं हुई।

विवि प्रशासन ने कहा-अन्य परीक्षाओं के कारण शेड्यूल बदला गया
विवि प्रशासन का कहना है कि जेएनयू के एंट्रेंस व अन्य परीक्षाओं से पीजी सेमेस्टर परीक्षाओं की तिथियां क्लैश कर रहीं थीं, इसी वजह से शेड्यूल में बदलाव किया जा रहा है।

मगर गले नहीं उतरता ये तर्क
विवि में पीजी सेमेस्टर परीक्षाएं 15 से तो एमएड व साइंस की परीक्षाएं 20 दिसंबर से शुरू होनी थीं। विवि प्रशासन का कहना है कि 27 दिसंबर को जेएनयू के एंट्रेंस की वजह से परीक्षा शेड्यूल बदला जा रहा है, जबकि 28 दिसंबर को भी जेएनयू का एंट्रेंस है, मगर इस तिथि की पीजी सेमेस्टर परीक्षा यथावत होगी।

दबाव में हैं कुलपति : एनएसयूआई
राजस्थान एनएसयूआई के प्रदेशाध्यक्ष अभिमन्यु पूनिया ने आरोप लगाया कि कुलपति एक संगठन को बढ़ावा देने के लिए आरएसएस और राज्य सरकार के दबाव में काम कर रहे हैं। विद्यार्थियों की परीक्षाएं जारी हैं, ऐसे में अचानक मनमाने तरीके से डेट बढ़ाना विद्यार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है। शिक्षा नीति में सरकार का दखल विद्यार्थियों के हित में नहीं है।

यही एक कारण नहीं, परीक्षा शेड्यूल बदलने के कई कारण हैं
शेड्यूल बदलने का यही कारण नहीं, मल्टीपल कारण हैं। परीक्षा संबंधी फैसला सीई का है, उनसे बात करो।
- प्रो. आरके कोठारी, कुलपति

मेरा अकेले का फैसला नहीं : परीक्षा नियंत्रक
यह फैसला मेरा अकेले का नहीं है। जेएनयू एंट्रेंस सहित अन्य परीक्षाओं के साथ पीजी सेमेस्टर क्लैश होने के कारण शेड्यूल स्थगित किया गया है।
- वीके गुप्ता, परीक्षा नियंत्रक