Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Winter Days Gone Bye Cold Day

बिना सर्दी बीते साल के सबसे सर्द दिन, 6.1 से नीचे नहीं गया पारा

पिछले 8 साल में 7 साल जनवरी के पहले पखवाड़े में ही पड़ी साल की सबसे तेज सर्दी, जबकि इस बार अब तक नहीं छूटी धूजणी

तनवीर | Last Modified - Jan 21, 2018, 05:41 AM IST

बिना सर्दी बीते साल के सबसे सर्द दिन, 6.1 से नीचे नहीं गया पारा

जयपुर. जनवरी के पहले पखवाड़े व शुरू के 20 दिन में साल की सबसे तेज सर्दी पड़ने की परंपरा इस बार टूट गई। आधे से ज्यादा जनवरी बीत चुका है, लेकिन अभी तक कंपकंपाने वाली स्थिति नहीं हुई। जयपुर में आम तौर पर इन 20 दिन में ही तापमान सबसे नीचे आता है, लेकिन इस बार पूरे सीजन में सबसे कम तापमान 6.1 रहा, जो 3 जनवरी को दर्ज किया गया। जबकि 2010 से अब तक सबसे कम तापमान 4 डिग्री से नीचे तक गया। हालांकि इस बार गर्मी ज्यादा नहीं रही और इस माह के 20 में से 12 दिन रात का तापमान 7 से 10 डिग्री के बीच रहा।


तापमान में ज्यादा गिरावट नहीं होने का कारण इस बार उत्तर भारत में कम बर्फबारी होना माना जा रहा है। हिमाचल में जहां इस साल जनवरी में केवल 0.2 सेमी बर्फबारी हुई है, वहीं 2015 में 67, 2016 व 2017 में 18-18 सेमी बर्फबारी हुई थी। उधर जम्मू-कश्मीर में भी सामान्य से 40% कम बर्फबारी हुई है। जबकि उत्तर भारत में इस बार चक्रवातों में भी कमी आई है, जिससे उत्तर से आने वाली हवाओं में ठंडक कम रही।

2 दिन में चढ़ा 5 डिग्री, अब गिरा
16 से 18 जनवरी तक पारे का उछाल तेजी से हुआ है। 16 जनवरी को जहां रात का पारा 7.5 डिग्री था, वह 17 को बढ़कर 10.8 और 18 जनवरी को 12.8 डिग्री तक उछल गया। जबकि शुक्रवार को तापमान 1.6 डिग्री गिरकर 11.2 डिग्री दर्ज हुआ, जबकि शनिवार को न्यूनतम तापमान में गिरावट जारी रही और रात का पारा 10.7 डिग्री दर्ज किया गया।
पूर्वानुमान
मौसम के अगले पूर्वानुमान के अनुसार इस बार सर्दी का सीजन लंबा जरूरत होगा लेकिन तापमान में ज्यादा गिरावट नहीं होगी।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jaipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: binaa srdi bite saal ke sabse srd din, 6.1 se niche nahi gaya paaraa
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×