--Advertisement--

गुड़ापोल के पावर ग्रिड में आग से अफरा-तफरी, परिसर की फूस खाक

भास्कर न्यूज | हिंडौन ग्रामीण/देवलेन/रेवई गुड़ापोल स्थित 440 केवी के पावर ग्रिड परिसर में रविवार दोपहर 500 मीटर...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:25 AM IST
गुड़ापोल के पावर ग्रिड में आग से अफरा-तफरी, परिसर की फूस खाक
भास्कर न्यूज | हिंडौन ग्रामीण/देवलेन/रेवई

गुड़ापोल स्थित 440 केवी के पावर ग्रिड परिसर में रविवार दोपहर 500 मीटर क्षेत्र में आग लग गई जिससे घासफूस जलकर राख हो गया। प्रथम दृष्टया आग लगने का कारण गुड़ापोल से जा रही 220 केवी लाइन के इंसुलेटर में हुई स्पार्किंग की चिंगारी माना जा रहा है।

रविवार दोपहर करीब सवा 12 बजे बिजली पावर ग्रिड की फैंसिंग के पास जंगल की घासफूस में आग लग गई। आग लगती देख निगमकर्मियों में अफरातफरी मच गई और वे आग पर काबू पाते उससे पहले आग काफी दूर तक बढ़ती चली गई और करीब चारों ओर से 500 मीटर क्षेत्र को अपनी चपेट में ले लिया। चारों ओर से आग की लपटें उठती देख आसपास के गांवों के लोग मौके पर पहुंचे।

अधिकारी सकते में, मौके पर पहुंचे

पावर ग्रिड में आग लगने की सूचना पर जहां निगमकर्मियों व ग्रामीणों में हड़कंप मच गया वहीं सूचना मिलने पर निगम अधिकारी भी सकते में आ गए। आनन फानन में हिंडौन 220 केवी बिजली ग्रिड के 50 से अधिक कार्मिक, ग्रिड के अधिशासी अभियंता पीडी कोली, उत्पादन शाखा के अधिशासी अभियंता विशंभर दयाल, सहायक अभियंता राजेश कुमार, राजेश गोस्वामी, वाहनों से गुड़ापोल पहुंचे।

उपकरणों से आग पर पाया काबू

गुड़ापोल के 440 केवी पावर ग्रिड के अधिशासी अभियंता पीडी कोली व विशंभर दयाल ने बताया कि पावर ग्रिड में रखे पांच अग्निशमन सिलेंडर व वाटर टैंक से पाइप लाइन बिछाकर तीन गांवों के ग्रामीणों की सहायता से दोपहर करीब सवा चार बजे आग पर काबू पाया अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था।

ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

पावर ग्रिड में आग लगने की सूचना पर गुडापाल, करई, चंदीला के ग्रामीण मौके पर पहुंचे और ग्रिड के नुकसान को बचाने के लिए मिटटी व पानी डालकर आग पर काबू पाया। बाद में निगम कर्मचारियों द्वारा घास फूस की सफाई व सुरक्षा नहीं करने से नाराज ग्रामीण अमरसिंह, पुरुषोत्तम, विश्वेंद्र, भीकमसिंह चौधरी, प्रहलाद सिंह, कन्हैयालाल, सतीश चंद्र, भूरा, रघुवीर आदि ने पावर ग्रिड के अभियंताओं के खिलाफ ग्रिड का मुख्य द्वार बंद कर नारेबाजी व प्रदर्शन किया।


हिंडौन ग्रामीण. गुडापोल पावर ग्रिड में प्रदर्शन करते ग्रामीण।

हिंडौन ग्रामीण. आग और बुझाने का प्रयास करते ग्रामीण व निगमकर्मी।

भास्कर न्यूज | हिंडौन ग्रामीण/देवलेन/रेवई

गुड़ापोल स्थित 440 केवी के पावर ग्रिड परिसर में रविवार दोपहर 500 मीटर क्षेत्र में आग लग गई जिससे घासफूस जलकर राख हो गया। प्रथम दृष्टया आग लगने का कारण गुड़ापोल से जा रही 220 केवी लाइन के इंसुलेटर में हुई स्पार्किंग की चिंगारी माना जा रहा है।

रविवार दोपहर करीब सवा 12 बजे बिजली पावर ग्रिड की फैंसिंग के पास जंगल की घासफूस में आग लग गई। आग लगती देख निगमकर्मियों में अफरातफरी मच गई और वे आग पर काबू पाते उससे पहले आग काफी दूर तक बढ़ती चली गई और करीब चारों ओर से 500 मीटर क्षेत्र को अपनी चपेट में ले लिया। चारों ओर से आग की लपटें उठती देख आसपास के गांवों के लोग मौके पर पहुंचे।

अधिकारी सकते में, मौके पर पहुंचे

पावर ग्रिड में आग लगने की सूचना पर जहां निगमकर्मियों व ग्रामीणों में हड़कंप मच गया वहीं सूचना मिलने पर निगम अधिकारी भी सकते में आ गए। आनन फानन में हिंडौन 220 केवी बिजली ग्रिड के 50 से अधिक कार्मिक, ग्रिड के अधिशासी अभियंता पीडी कोली, उत्पादन शाखा के अधिशासी अभियंता विशंभर दयाल, सहायक अभियंता राजेश कुमार, राजेश गोस्वामी, वाहनों से गुड़ापोल पहुंचे।

उपकरणों से आग पर पाया काबू

गुड़ापोल के 440 केवी पावर ग्रिड के अधिशासी अभियंता पीडी कोली व विशंभर दयाल ने बताया कि पावर ग्रिड में रखे पांच अग्निशमन सिलेंडर व वाटर टैंक से पाइप लाइन बिछाकर तीन गांवों के ग्रामीणों की सहायता से दोपहर करीब सवा चार बजे आग पर काबू पाया अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था।

ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

पावर ग्रिड में आग लगने की सूचना पर गुडापाल, करई, चंदीला के ग्रामीण मौके पर पहुंचे और ग्रिड के नुकसान को बचाने के लिए मिटटी व पानी डालकर आग पर काबू पाया। बाद में निगम कर्मचारियों द्वारा घास फूस की सफाई व सुरक्षा नहीं करने से नाराज ग्रामीण अमरसिंह, पुरुषोत्तम, विश्वेंद्र, भीकमसिंह चौधरी, प्रहलाद सिंह, कन्हैयालाल, सतीश चंद्र, भूरा, रघुवीर आदि ने पावर ग्रिड के अभियंताओं के खिलाफ ग्रिड का मुख्य द्वार बंद कर नारेबाजी व प्रदर्शन किया।


भास्कर न्यूज | हिंडौन ग्रामीण/देवलेन/रेवई

गुड़ापोल स्थित 440 केवी के पावर ग्रिड परिसर में रविवार दोपहर 500 मीटर क्षेत्र में आग लग गई जिससे घासफूस जलकर राख हो गया। प्रथम दृष्टया आग लगने का कारण गुड़ापोल से जा रही 220 केवी लाइन के इंसुलेटर में हुई स्पार्किंग की चिंगारी माना जा रहा है।

रविवार दोपहर करीब सवा 12 बजे बिजली पावर ग्रिड की फैंसिंग के पास जंगल की घासफूस में आग लग गई। आग लगती देख निगमकर्मियों में अफरातफरी मच गई और वे आग पर काबू पाते उससे पहले आग काफी दूर तक बढ़ती चली गई और करीब चारों ओर से 500 मीटर क्षेत्र को अपनी चपेट में ले लिया। चारों ओर से आग की लपटें उठती देख आसपास के गांवों के लोग मौके पर पहुंचे।

अधिकारी सकते में, मौके पर पहुंचे

पावर ग्रिड में आग लगने की सूचना पर जहां निगमकर्मियों व ग्रामीणों में हड़कंप मच गया वहीं सूचना मिलने पर निगम अधिकारी भी सकते में आ गए। आनन फानन में हिंडौन 220 केवी बिजली ग्रिड के 50 से अधिक कार्मिक, ग्रिड के अधिशासी अभियंता पीडी कोली, उत्पादन शाखा के अधिशासी अभियंता विशंभर दयाल, सहायक अभियंता राजेश कुमार, राजेश गोस्वामी, वाहनों से गुड़ापोल पहुंचे।

उपकरणों से आग पर पाया काबू

गुड़ापोल के 440 केवी पावर ग्रिड के अधिशासी अभियंता पीडी कोली व विशंभर दयाल ने बताया कि पावर ग्रिड में रखे पांच अग्निशमन सिलेंडर व वाटर टैंक से पाइप लाइन बिछाकर तीन गांवों के ग्रामीणों की सहायता से दोपहर करीब सवा चार बजे आग पर काबू पाया अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था।

ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

पावर ग्रिड में आग लगने की सूचना पर गुडापाल, करई, चंदीला के ग्रामीण मौके पर पहुंचे और ग्रिड के नुकसान को बचाने के लिए मिटटी व पानी डालकर आग पर काबू पाया। बाद में निगम कर्मचारियों द्वारा घास फूस की सफाई व सुरक्षा नहीं करने से नाराज ग्रामीण अमरसिंह, पुरुषोत्तम, विश्वेंद्र, भीकमसिंह चौधरी, प्रहलाद सिंह, कन्हैयालाल, सतीश चंद्र, भूरा, रघुवीर आदि ने पावर ग्रिड के अभियंताओं के खिलाफ ग्रिड का मुख्य द्वार बंद कर नारेबाजी व प्रदर्शन किया।


X
गुड़ापोल के पावर ग्रिड में आग से अफरा-तफरी, परिसर की फूस खाक
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..