Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» रोकना होगा आईसीयू में तेजी से बढ़ता इन्फेक्शन

रोकना होगा आईसीयू में तेजी से बढ़ता इन्फेक्शन

सिटी रिपोर्टर | जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी में रविवार से शुरू हुई दो दिवसीय वर्कशॉप में देशभर से आए चिकित्सा...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:40 AM IST

रोकना होगा आईसीयू में तेजी से बढ़ता इन्फेक्शन
सिटी रिपोर्टर | जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी में रविवार से शुरू हुई दो दिवसीय वर्कशॉप में देशभर से आए चिकित्सा विशेषज्ञों ने क्रिटिकल केयर सपोर्ट मेडिसन की विभिन्न विधाओं पर गहन चर्चा की। दी सोसायटी आॅफ क्रिटिकल केयर मेडिसन यूएसए और जेएनयू हॉस्पिटल के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस वर्कशॉप का उद्घाटन जेएनयू हॉस्पिटल एंड मेडिकल कॉलेज के चेयरपर्सन डाॅ. संदीप बक्शी ने किया।

डाॅ. बक्शी ने कहा कि हमारे यहां बेंगलुरू, चंडीगढ़, दिल्ली, लखनऊ के क्रिटिकल केयर चिकित्सा विशेषज्ञ सीसीएस के प्रशिक्षण और चिकित्सा उपचार के क्षेत्र मेें ज्ञान बढ़ाने में मददगार साबित हो रहे हैं। भारत में 200 एफसीसीएस कोर्स हैं। जेएनयू हॉस्पिटल एंड मेडिकल कॉलेज इस क्रिटिकल केयर सपोर्ट की दिशा में मरीजों को बेहतरीन और समुचित उपचार उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। प्रिंसिपल एंड कंट्रोलर जेएनयू मेडिकल कॉलेज, डाॅ. अमीलाल भट्ट ने क्रिटिकल केयर सपोर्ट की महत्ता बताते हुए कहा कि भारत में आईसीयू में इन्फेक्शन सामान्य केस है। इसे हमें रोकना होगा। इस वर्कशॉप में सर्वाधिक ध्यान इन्फेक्शन केयर पर दिया जाएगा और इसके लक्षण और बचने के उपाय भी साझा किए जाएंगे।

: डाॅ. पीजीआई रोहतक के डाॅ.प्रशांत कुमार ने एसेसमेंट आॅफ क्रिटिकल सिक पर व्याख्यान दिया।

: डाॅ. राजेश पांडे ने डाइग्नोसिस एंड मैनेजमेंट आॅफ रिस्पेरेटरी फैल्यर पर चर्चा की।

: मैक्स हॉस्पिटल नई दिल्ली डाॅ. वाईपी सिंह ने न्यूरोलॉजिकल सपोर्ट एंड एयरवे मैनेजमेंट पर बात की।

: डाॅ. पीजीआई रोहतक के डाॅ. कुंदन मित्तल ने क्रिटिकल केयर एंड प्रेग्नेंसी पर विचार व्यक्त किए।

इस नेशनल वर्कशॉप में जोधपुर एम्स के डाॅ. सादिक मोहम्मद सहित डाॅ. राजेश मिश्रा, डाॅ. बीएल माथुर ने भी लिया।

मेडिकल एक्सपर्ट बोले

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×