जयपुर

  • Home
  • Rajasthan News
  • Jaipur News
  • News
  • 75 सिलेंडर एक साथ लगा पकाए जा रहे थे क्रॉकरी के आइटम, आग बुझाने के यंत्र नहीं, फैक्ट्री सील
--Advertisement--

75 सिलेंडर एक साथ लगा पकाए जा रहे थे क्रॉकरी के आइटम, आग बुझाने के यंत्र नहीं, फैक्ट्री सील

इंफ्रा रिपोर्टर. जयपुर | नगर निगम की अग्निशमन शाखा ने बुधवार को पर्याप्त अग्निशमन उपकरण नहीं पाए जाने पर...

Danik Bhaskar

Mar 01, 2018, 03:05 AM IST
इंफ्रा रिपोर्टर. जयपुर | नगर निगम की अग्निशमन शाखा ने बुधवार को पर्याप्त अग्निशमन उपकरण नहीं पाए जाने पर दुर्गापुरा में रघुवर इंडिया लिमिटेड परिसर में चल रही क्रॉकरी फैक्ट्री को सील कर दिया गया। फैक्ट्री में 75 सिलेंडर एक साथ लगा कर क्रॉकरी आइटम को पकाया जा रहा था। फैक्ट्री से 50 मीटर की दूरी पर जयपुर-सवाई माधोपुर रेलवे लाइन गुजर रही है। हादसा हो तो रेलवे ट्रैक को भी खतरा हो सकता है। फैक्ट्री में सिलेंडर का उपयोग होने के चलते सुरक्षा कारणों से मेयर अशोक लाहोटी व आयुक्त रवि जैन ने कार्रवाई के निर्देश दिए। इस पर फायर उपायुक्त शिप्रा शर्मा टीम के साथ फैक्ट्री में कार्रवाई करने पहुंची।

फायर उपायुक्त शिप्रा शर्मा ने बताया कि फैक्ट्री में नियमानुसार अग्निशमन उपकरण नहीं थे। प्रावधानों का उल्लंघन पाए जाने पर क्रॉकरी फैक्ट्री को 30 दिन के लिए सील कर दिया। फैक्ट्री में एलपीजी सिलेंडरों का उपयोग होने के बावजूद अग्नि से सुरक्षा में कोताही बरती जा रही थी। फैक्ट्री में कप प्लेट व क्रॉकरी आइटम की पैकिंग के लिए टनों गत्ते के कार्टून, थर्माकोल के डिब्बे, प्लास्टिक के रैपर रखे होने के बावजूद फैक्ट्री में आग बुझाने के संयंत्र पर्याप्त मात्रा में नहीं मिले। उन्होंने बताया कि फैक्ट्री में दो साै से ज्यादा मजदूर काम करते हैं। ऐसे में सिलेंडर लीकेज होने पर हादसा हो जाए तो फैक्ट्री के मजदूरों व स्टाफ के साथ आसपास के इलाके में जान-माल की हानि हो सकती है।

प्रावधानों का उल्लंघन पाए जाने पर क्रॉकरी फैक्ट्री को 30 दिन के लिए सील कर दिया।

दो माह पहले दिया था नोटिस

फैक्ट्री काे जनवरी में नोटिस देकर आग बुझाने के यंत्र पर्याप्त नहीं होने के चलते चेताया था। निरीक्षण करने गए टीम को होद में पानी नहीं मिल, होज रील गायब मिली, नोजल गायब थे, फैक्ट्री में 6 एविस्टग्यूशर मिले वे भी बंद पाए गए थे। फैक्ट्री में गैस डिटेक्टर नहीं लगा मिला। नोटिस में बताया था कि होज में पानी, होज रील का नहीं होना पाइप नहीं मिला, इसके बावजूद फैक्ट्री संचालकों ने अग्नि बुझाने के सयंत्र आवश्यकता अनुसार नहीं लगाए।

पहले जारी एनओसी के आधार पर ही फिर एनओसी दी

अगस्त 2015 में दी गई एनओसी के आधार पर ही 5 अगस्त 17 को मुख्य अग्निशमन अधिकारी जलज घसिया ने एनओसी जारी कर दी। एनओसी में लिखा था कि फैक्ट्री का अग्निशमन सुरक्षा की दृष्टि से मौका निरीक्षण करवाया गया। मौके पर स्थापित अग्निशमन यंत्र सही व कार्यशील अवस्था में पाए गए।

Click to listen..