Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» होली : लो फैट सोया क्रीम ठंडाई केक व स्पाइसी रसगुल्ला

होली : लो फैट सोया क्रीम ठंडाई केक व स्पाइसी रसगुल्ला

होली के मौके पर शहर की फूड आंत्रप्रिन्योर और शेफ ने नेचुरल फूल, पत्तियों, गुलाब, केसर और चार मगज से विभिन्न वैरायटी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 03:35 AM IST

होली : लो फैट सोया क्रीम ठंडाई केक व स्पाइसी रसगुल्ला
होली के मौके पर शहर की फूड आंत्रप्रिन्योर और शेफ ने नेचुरल फूल, पत्तियों, गुलाब, केसर और चार मगज से विभिन्न वैरायटी की स्वीट्स, ठंडाई और ड्राय केक बनाए हैं। वहीं गरम मसालों से तैयार ठंडाई कतली और ठंडाई रसमलाई खास है। इसमें डोडा, बड़ी इलायची, सौंफ और काली मिर्च का इस्तेमाल किया है। इन मसालों से बॉडी का मेटाबॉलिज्म अच्छा रहता है। होली पर स्वीट्स, केक और ठंडाई में जानें नए फ्लेवर के बारे में।

भांग की जलेबी

ठंडाई की रसमलाई होली पर ही बनाई जाती है। इसके बेस में ठंडाई फ्लेवर रहता है। इसी तरह ठंडाई की काजू कतली बनाई जाती है। इसमें गरम मसालों का इस्तेमाल किया जाता है। फूड आंत्रप्रिन्योर दिव्या अरोड़ा ने बताया कि भांग के पत्तों को पीसकर ग्रीन जलेबी तैयार की जाती है। पिस्ता चंद्रकला बंगाली स्पेशिएलिटी है इसमें पिस्ता, केसर, इलायची, बादाम आदि का इस्तेमाल कर राउंड शेप में तैयार किया जाता है।

मिर्ची के रसगुल्ले

होटल हिल्टन के शेफ जयवीर ने बताया कि होली पर मिर्ची के रसगुल्ले सबसे स्पेशल होगे इसमें छैने के रसगुल्लों को हरी मिर्च की चाशनी में तैयार किया जाता है। गर्म चाशनी में हरी मिर्च को डालकर मीठा और लाइट तीखा फ्लेवर तैयार किया जाता है। वहीं फूड आंत्रप्रिन्योर रतिका भार्गव और रिचा खेतान ने बताया कि होली के अवसर पर ठंडाई ड्राय केक, जार केक और फ्रीक केक तैयार किए हैं। इन केक को बनाने में लो फैट सोया क्रीम का यूज किया है। जहां ड्राय केक काे करीब 1 हफ्ते तक मेहमानों को सर्व किया जा सकता है वहीं जार केक और फ्रीक केक को 12 से 24 घंटे में ही कंज्यूम करना होता है। इन कस्टमाइज केक में जगह सौंफ, गुलाब, केसर और पिस्ता फ्लेवर खास रहेगा।

बादाम लोटस ठंडाई

होली को देखते हुए रंग-बिरंगी स्वीट्स में पेठा रंगाेली, ठंडाई कलाकंद, ठंडाई संदेश, ठंडाई रसमलाई, ठंडाई बादाम काजू आदि तैयार की है। नेचुरल इंग्रीडिएंट्स से तैयार लोटस बादाम में गुलाब फ्लेवर के साथ केसर, पिस्ता, बादाम आदि का इस्तेमाल किया गया है। गणगौर स्वीट्स के शेफ अनूप ग्रीवा ने बताया कि होली पर बनने वाली ऑर्गेनिक ठंडाई की खास बात ये है कि इसे 24 घंटे में ही कंज्यूम करना होता है। इसमें ऑर्गेनिक मसाले, हरी इलायची, गुलाब की कलियां, वाइट पेपर और सौंफ का इस्तेमाल किया जाता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jaipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: होली : लो फैट सोया क्रीम ठंडाई केक व स्पाइसी रसगुल्ला
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×