--Advertisement--

मकान में हिस्सा िमलेगा और सुरक्षा के लिए कैमरे भी लगेंगे

सिटी रिपोर्टर. जयपुर | इकलौते बेटे-बहू से परेशान वृद्ध पिता को आखिरकार न्याय मिल गया। वरिष्ठ नागरिक अधिकार...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 04:05 AM IST
सिटी रिपोर्टर. जयपुर | इकलौते बेटे-बहू से परेशान वृद्ध पिता को आखिरकार न्याय मिल गया। वरिष्ठ नागरिक अधिकार भरण-पोषण के तहत कलेक्टर की शरण में गए वृद्ध को उपखंड मजिस्ट्रेट के न्यायालय ने न केवल मकान का आधा हिस्सा दिया। बल्कि सुरक्षा की दृष्टि से सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में रखने का निर्णय सुनाया। साथ ही पुलिस थाना सोडाला को भी फैसले की सख्ती से पालना करने के निर्देश दिए हैं।

माता पिता एवं वरिष्ठ नागरिक भरण-पोषण अधिनियम के तहत 89 वर्षीय पिता जयकिशन ने जयपुर शहर उपखण्ड अधिकारी आशीष कुमार के समक्ष न्यायालय में पुत्र से भरण-पोषण एवं स्वयं की सुरक्षा की गुहार लगाई। परिवादी ने बताया कि उसने अपनी 5 पुत्रियों पर अपने पुत्र को ही वरीयता दी, उसे उच्च शिक्षा दिलाई यहां तक कि पुत्र के तीन बच्चों की फीस तक वहन की, लेकिन इकलौते पुत्र ने परिवादी एवं उसकी बीमार प|ी को इतना प्रताड़ित किया कि प्रताड़ना से उनकी प|ी की दिसम्बर 2017 में मृत्यु हो गई। परिवादी अपने पुत्र एवं पुत्रवधू से इतना आतंकित है कि वे अपनी जान बचाने के लिए पिछले एक वर्ष से विभिन्न शहरों में रह रही अपनी पुत्रियों के घर जाकर रहने को मजबूर है।

मजिस्ट्रेट ने गंभीर माना, बहू-बेटे को किया पाबंद

उपखण्ड मजिस्ट्रेट ने इस वाद को गंभीरता से लेते हुए फैसला सुनाया कि पुत्र द्वारा पिता को तत्काल मकान का आधा हिस्सा एवं पूरे मकान को सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में रखने के निर्देश दिए साथ ही बहू-बेटे को पाबंद किया कि पिता, बहनों के साथ किसी प्रकार का दुर्व्यवहार नहीं करे और उनके शांतिपूर्ण जीवन में किसी भी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न नहीं करे।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..