• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Jaipur News
  • News
  • 60 खाद्य सुरक्षा अधिकारियों में अकेले जयपुर में 14, सात जिलों में नमूने लेने वाला ही नहीं
--Advertisement--

60 खाद्य सुरक्षा अधिकारियों में अकेले जयपुर में 14, सात जिलों में नमूने लेने वाला ही नहीं

श्रीगंगानगर, राजसमंद, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, बीकानेर व करौली में पद खाली सुरेन्द्र स्वामी | जयपुर ...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 04:40 AM IST
श्रीगंगानगर, राजसमंद, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, बीकानेर व करौली में पद खाली

सुरेन्द्र स्वामी | जयपुर

मिलावट रोककर लोगों की सेहत सुधारने का दावा करने वाला महकमा खुद बीमार है। अकेले जयपुर में जहां 14 खाद्य सुरक्षा अधिकारी तैनात हैं वहीं राज्य के सात जिले ऐसे हैं जिनमें एक भी खाद्य सुरक्षा अधिकारी काम नहीं कर रहा। इन जिलों में न तो खाद्य पदार्थों के सैंपल लिए जा रहे हैं और न ही निरीक्षण हो रहे हैं।

प्रदेश में खाद्य सुरक्षा को लेकर आज तक कोई नीति नहीं बन पाई। इसी का नतीजा है कि जयपुर में अधिकारियों की भरमार है और सात जिलों में खाद्य सुरक्षा का नामो-निशान नहीं। पॉलिसी ही नहीं प्रदेश में खाद्य सुरक्षा अधिकारियों के सेवा नियम नहीं भी नहीं बने। इसी के चलते नई भर्ती अटकी हुईं है और खाद्य पदार्थों में मिलावट का सिलसिला जारी है। हाईकोर्ट ने दो साल पहले मिलावटी दूध पर रोशन लाल गुर्जर सहित अन्य की याचिकाओं की सुनवाई करते हुए 12 अप्रैल 2016 को राज्य सरकार को आदेश दिया था कि वह तीन महीने में फूड सेफ्टी ऑफिसर की भर्ती के सेवा नियम बनाए। इस पर तत्कालीन मुख्य सचिव ने भी अदालत में शपथ पत्र पेश कर आश्वस्त किया था कि सेवा नियम बना दिए जाएंगे, लेकिन न तो सेवा नियम बने और न ही भर्ती हुई है।

लैब असिस्टेंट कर रहे हैं खाद्य सुरक्षा का काम

राज्य में फूड सेफ्टी ऑफिसर के पद पर एमपीडब्ल्यू, लैब असिस्टेंट, नर्सेज, असिस्टेंट रेडियोग्राफर, हैल्थ इंस्पेक्टर, एलडीसी, यूडीसी व आफ्थेलमिक असिस्टेंट काम कर रहे हैं। सेवा नियम और भर्ती नहीं होने के कारण इन पदों पर योग्यता धारक फूड सेफ्टी ऑफिसरों की नियुक्ति नहीं हो पा रही है।

इन जिलों में लंबे समय से नहीं लिए जा रहे सैंपल

राज्य के श्रीगंगानगर, राजसमंद, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, बीकानेर व करौली में काफी समय से नमूने लेने वाला कोई अधिकारी नहीं है। मुख्यमंत्री के गृह जिले झालावाड़ में भी सिर्फ एक एफएसओ काम कर रहा है, जबकि अलवर में 3 की बजाय 4 लगे हुए हैं। दूसरी तरफ प्रदेश में 60 खाद्य सुरक्षा अधिकारियों में से 25 फीसदी अकेले जयपुर में लगे हुए है।



X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..