• Home
  • Rajasthan News
  • Jaipur News
  • News
  • अज्ञात जानवर बना रहा है निशाना, पशुपालकों में दहशत का माहौल
--Advertisement--

अज्ञात जानवर बना रहा है निशाना, पशुपालकों में दहशत का माहौल

कस्बे क्षेत्र में अज्ञात जानवर के हमले से पशुओं की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। करीब 25 दिनों के अंदर...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 03:55 AM IST
कस्बे क्षेत्र में अज्ञात जानवर के हमले से पशुओं की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। करीब 25 दिनों के अंदर रीको औद्योगिक क्षेत्र व रेनवाल रोड पर अज्ञात जानवर के हमले से कई भेड़, बकरी व अन्य पशुओं की मौत हो चुकी है। शुक्रवार की रात्रि में भी कस्बे के रीको औद्योगिक क्षेत्र में अज्ञात जानवर ने हमला कर रामकिशोर खटीक के बाड़े में बंधी तीन भेडों को मौत के घाट उतार दिया, तो बाड़े में बंधी करीब 6 भेडों को गंभीर घायल कर दिया। सवेरे जब परिजन उठे और अपनी भेड़-बकरियों को संभालने गए, तो उन्हें घटना की जानकारी मिली। परिजनों की सूचना पर मौके पर आसपास के लोग भी एकत्रित हो गए व परिजनों ने घटना की सूचना पुलिस, वन विभाग व चिकित्सकों को दी। सूचना मिलने पर पंहुचे चिकित्सक ने घायल भेडों का उपचार किया। पशुपालकों ने बताया कि लगातार हो रही ऐसी घटनाओं से सभी लोगों में भय व्याप्त है।

20 दिन पहले 19 भेड़-बकरियां, गुरूवार को दो पशुओं की हो चुकी है अज्ञात जानवर के हमले में मौत, सभी घटनाओं में हमले का तरीका एक ही शनिवार को अज्ञात जानवर के हमले की घटना क्षेत्र में तीसरी बार हो रही है। इससे पूर्व करीब 20 दिन पहले कस्बे के रीको औद्योगिक क्षेत्र में ही गिरधारी व तेजपाल खटीक के बाड़े में बंधी करीब 19 भेड़-बकरियों की अज्ञात जानवर के हमले में मौत हो गई थी। रेनवाल रोड पर भी इसी प्रकार के हमले की घटना गुरूवार को हुई है। यहां रहने वाले जगदीश हिराण्या ने बताया कि गुरूवार की रात्रि में अज्ञात जानवर के हमले से उनकी एक बछड़ी एवं छोटी भैंस की मौत हो गई तथा एक पाड़े काे गंभीर घायल कर दिया। इन सभी घटनाओं में अज्ञात जानवर द्वारा किया जाने वाला हमला एवं चोट के निशान एक जैसे ही है। खटीक समाज चौमू देहात अध्यक्ष सीताराम सामरिया ने बताया कि वन-विभाग को अज्ञात जानवर की पहचान कर इसे पकड़ना चाहिए। जिससे पशुपालकों का नुकसान नहीं हो। उन्होंने बताया कि इस संबंध में उच्चाधिकारियों को शीघ्र ज्ञापन दिया जाएगा और पीड़ित परिवारों के लिए मुआवजे की मांग की जाएगी।

पदचिन्ह नहीं मिलने पर खाली हाथ लौटी टीम

ग्रामीणों की सूचना पर शनिवार को वन-विभाग की एक टीम भी मौके पर पहुंची और घटना की जानकारी ली। इस दौरान टीम ने घटना स्थल एवं जानवरों के चोट के निशान का निरीक्षण किया। टीम में आए चौमू रेंज वन रक्षक किशन लाल वर्मा ने बताया कि यह किस जानवर द्वारा किया जा रहा है, इसकी पुष्टि अभी नहीं कर सकते। उन्होंने सियार या लकड़ बग्घा होने की आशंका जाहिर की।