• Home
  • Rajasthan News
  • Jaipur News
  • News
  • बालाजी के जयकारे लगाते हुए भक्तों ने निकाली शोभायात्रा
--Advertisement--

बालाजी के जयकारे लगाते हुए भक्तों ने निकाली शोभायात्रा

कस्बाशहर |कस्बा शहर के खेड़ापति बालाजी पर हनुमान जन्मोत्सव पर यहां शनिवार के दिन 5 बजे शाम को मंदिर परिसर से सजीव...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:00 AM IST
कस्बाशहर |कस्बा शहर के खेड़ापति बालाजी पर हनुमान जन्मोत्सव पर यहां शनिवार के दिन 5 बजे शाम को मंदिर परिसर से सजीव झांकी की शोभायात्रा निकाली गई। बालाजी की शोभायात्रा में भक्तों ने भाग लिया एवं बालाजी के जयकारे लगाते हुए चल रहे थे। कीर्तन पार्टी के गायकों के द्वारा भजन कीर्तन गाते हुए बालाजी मंदिर पहुंचे। इस दौरान राम,लक्ष्मण,सीता व हनुमानजी की मनमोहक सजीव झांकी के लोगों ने दर्शन किए। मुनीम जी के रास्ते वाले दोहड़े बालाजी के अखंड रामचरित मानस पठन का आयोजन हुआ, जिसमें अखंड रामायण का वाचन किया गया, बालाजी की मनमोहक फूल बंगला झांकी सजाई गई, रामायण के समापन पर हवन वेदी यज्ञ का आयोजन हुआ। इस अवसर पर पंगत लगाकर सैकड़ों लोगो ने प्रसादी पाई

रात्रि जागरण में झूमे श्रोतागण

कंजौली |कंजौली गांव स्थित हनुमान मंदिर पर युवा भक्त मंडल द्वारा शुक्रवार रात हनुमान जयंती के अवसर पर रात्रि जागरण कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें कलाकारों ने भजन प्रस्तुत कर श्रोताओं को मंत्र मुग्ध कर दिया। “नयन में श्याम समायो मोय प्रेम को रोग लगाय गयो..”, दौसा की रजनी पांचाल ने राम भक्त हनुमान कलयुग में तेरी महिमा बड़ी अपार व राम मिले न हनुमान के बीना भजन सुनाया उपस्थित श्रोतागण नाचने को मजबूर हो गए। महवा के कृष्ण गुर्जर ने सतयुग कलयुग में लोगों की भावनाओं में आए अंतर आहे भावनाओं की कथा सुनाई।

आर्मी टैंक आकर्षण का केंद्र

महू इब्राहिमपुर |हनुमान जयंती के अवसर पर कस्बे के सीतारामजी व महूखास के राधारमण मंदिर पर फूलबंगला व छप्पनभोग की झांकी सजाई गई। इस मौके पर सीताराम मंदिर से शोभायात्रा निकाली गई, जिसमें कई सजीव झांकियां भी शामिल थी। शोभायात्रा में आर्मी टैंक आकर्षण का केंद्र रहा। रात्रि करीब 9 बजे से जागरण शुरू हुआ जिसमें बाहर से आए कलाकार बंटी डांगी, बीएल पांचाल, अमित शर्मा, रितु जोशी आदि ने भजनों की प्रस्तुति दी। बाद में छप्पनभोग की प्रसादी वितरित की गई। इसी प्रकार घोंसला गांव में शोभायात्रा निकाली गई, जिसमें हनुमानजी, राधाकृष्ण, शंकर-पार्वती, रामदरबार, नृसिंह अवतार, झांसी की रानी, शेरा वाली आदि की सजीव झांकियां आकर्षण का केंद्र रही। शोभायात्रा लक्ष्मण मंदिर से शुरू हुई और प्रमुख मार्गों से होती हुई पुन: मंदिर पहुंची।

कस्बाशहर. दोहड़े बालाजी की सजी झांकी ।

महू इब्राहिमपुर. फूलबंगला व छप्पनभोग झांकी।