• Home
  • Rajasthan News
  • Jaipur News
  • News
  • बजरी के अवैध खनन से हाड़ौती में रोष, बंद रहे बाजार, रानेटा-सवाई माधोपुर मार्ग 18 घंटे जाम
--Advertisement--

बजरी के अवैध खनन से हाड़ौती में रोष, बंद रहे बाजार, रानेटा-सवाई माधोपुर मार्ग 18 घंटे जाम

सपोटरा. बजरी के अवैध खनन व ओवरलोड वाहनों के संचालन के विरोध में बुधवार को बंद हाड़ौती के बाजार व रानेटा-सवाई माधोपुर...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 06:20 AM IST
सपोटरा. बजरी के अवैध खनन व ओवरलोड वाहनों के संचालन के विरोध में बुधवार को बंद हाड़ौती के बाजार व रानेटा-सवाई माधोपुर मार्ग पर जाम लगा रहे ग्रामीण।

भास्कर न्यूज | सपोटरा/सपोटरा ग्रामीण

हाइकोर्ट की रोक के बावजूद बनास में खनिज, परिवहन, पुलिस, राजस्व व वन विभाग की उदासीनता से बजरी का अवैध खनन व कारोबार के साथ ओवरलोड वाहनों के संचालन से होने वाली दुर्घटनाओं से आक्रोशित हाड़ौती वासियों ने मंगलवार शाम 7 बजे रानेटा-सवाई माधोपुर मार्ग पर जाम कर दिया तथा दलित वर्ग का एक परिवार ट्रैक्टर ट्रॉली से एक सूअर के मर जाने पर बीच सड़क धरने पर बैठ गया। लेकिन पुलिस प्रशासन द्वारा 12 घंटे बाद कोई कार्रवाई नहीं करने से बुधवार सुबह 7 बजे से व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखकर विरोध जताया। वहीं लालाराम हरिजन के परिवार के सदस्य ट्रैक्टर से सूअर की मौत होने पर सड़क के बीच धरने पर बैठ गए। आला अफसरों के दबाव के बाद बुधवार दोपहर 1 बजे पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे तथा समझाइश कर जाम खुलवाया गया।

दिन-रात वाहनों की रेलमपेल से कीचड़ व आए दिन जाम की स्थिति

ब्लॉक कांग्रेस महासचिव नबाब खां, पूर्व सरपंच रामखिलाड़ी व कैलाश मीणा, सरपंच मुनीराज मीणा, जगदीश गुप्ता, रामप्रसाद, मुकेश मीणा, नमो, रामलखन, संतोष, बंटी, बाबू मीणा आदि ने बताया कि राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल जोनल भोपाल के एलओआई क्षेत्र खंडार व हाड़ौती (सपोटरा) में बजरी खनन, निर्गमन एवं ओवरलोड पर चार साल से रोक तथा सुप्रीम कोर्ट द्वारा खनिज कार्यानुमति आदेश वापस लेने से बजरी खनन पर पूर्णतया रोक लगाने के बावजूद बनास के हाड़ौती भूरी पहाड़ी, बड़ पीपल, श्यामोली घाटा (बौंली), काठड़ा घाटा (सपोटरा) से खनन बदस्तूर जारी है। इसके कारण हाड़ौती कस्बे में दिन-रात चलने वाले गीली बजरी के वाहनों से पानी टपकने से जहां कोली पाड़ा घाटे से फतेहपुर चौराहे तक कीचड़ तथा वाहनों की रेलमपेल से हर दिन घंटों जाम की स्थिति बनी रहने से विशेषकर दुकानदार बदहाल है। दूसरी ओर ओवरलोड ट्रैक्टर ट्रॉलियों से आए दिन दुर्घटनाएं हो रही है।

बजरी माफिया की दबंगई के आगे खनन व परिवहन विभाग पंगु

बजरी माफिया की दबंगई से क्षेत्र में खनिज व परिवहन विभाग पंगु बना हुआ है। खनिज व परिवहन विभाग के अधिकारी बजरी निकासी क्षेत्र सरकारी वाहनों से सैर सपाटा कर माफिया की दबंगई के तमाशाई बनकर बिना किसी कार्रवाई के बैरंग लौट जाते हंै। इधर,हाड़ौती पुलिस चौकी पर इंचार्ज सहित दो पुलिसकर्मियों का अपर्याप्त स्टाफ होने के कारण बेबस है। इसके कारण एलओआई क्षेत्र हाड़ौती बनास नदी से 700 से 1000 ट्रैक्टर ट्रॉली रोजाना बेखौफ दौड़ने से जहां सड़कों का कचूमर निकाल दिया।

बाइपास के लिए अड़े ग्रामीण, समझाइश के बाद 18 घंटे में बनी सहमति

हाड़ौती में जाम की प्रशासन को सूचना के बावजूद बेपरवाह बना रहा। रात्रि को दो-तीन दफा पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे तथा जाम हटाने का प्रयास किया गया,लेकिन ग्रामीण बनास नदी के पुल से हाड़ौती के तिराहे तक बाइपास के निर्माण, आम बाजार में ओवरलोड बजरी के ट्रैक्टर ट्रॉलियों के संचालन पर अंकुश, बोर्ड परीक्षा के मद्देनजर रात्रि को पर्याप्त बिजली देने, पुलिस चौकी हाड़ौती पर एसआई के साथ सात जवानों की तैनातगी तथा हाड़ौती बनास नदी से अवैध बजरी खनन बंद करने की जिद पर अड़े रहे। तत्पश्चात आला अफसरों के दबाव के बाद एएसआई राजेन्द्र सिंह के नेतृत्व में पुलिस दल मौके पर पहुंचा तथा आम बाजार में ओवरलोड वाहनों के संचालन बंद करने का आश्वासन देने तथा सरपंच मुनीराज मीणा द्वारा दलित परिवार के पीड़ित व्यक्तियों को 5 हजार की सहायता राशि देने पर लोगों ने बुधवार दोपहर 1 बजे आंदोलन वापस लिया गया। दूसरी ओर बजरी से भरे ओवरलोड वाहनों के संचालन होने पर पुन: आंदोलन की चेतावनी दी गई।