Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Rajasthan Culture Department Will See Padmavati Film Before Release

पद्मावती फिल्म विवाद: संस्कृति विभाग देखेगा फिल्म, जांचेगा तथ्य; कानून व्यवस्था बिगड़ने की नौबत आई तो रोक पर विचार

बजंरग दल का प्रदर्शन, राजपूत महिलाओं की प्रेस कॉन्फ्रेस और सरकार की बैठकें

Bhaskar News | Last Modified - Nov 11, 2017, 04:32 AM IST

  • पद्मावती फिल्म विवाद: संस्कृति विभाग देखेगा फिल्म, जांचेगा तथ्य; कानून व्यवस्था बिगड़ने की नौबत आई तो रोक पर विचार
    +3और स्लाइड देखें
    जयपुर. संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती पर रिलीज से पहले ही घमासान मच गया है। सुप्रीम कोर्ट ने यह कहते हुए फिल्म पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है कि फिल्म को अभी सेंसर बोर्ड ने ही प्रमाण-पत्र जारी नहीं किया है। भंसाली की सफाई के बावजूद राजपूत समाज एवं संगठनों ने फिल्म के कथानक पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। सरकार भी सांसत में फंसी है। संस्कृति विभाग से कहा गया है कि फिल्म रिलीज से पहले वह तथ्यों की पड़ताल करे और कहीं कोई आपत्ति है तो उसे हटवाने के बाद फिल्म को सिनेमाघरों तक पहुंचने दे।
    गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया का कहना है कि कानून-व्यवस्था की स्थिति को किसी भी हालत में बिगड़ने नहीं देंगे। सरकार फिल्म पर रोक लगा सकती है या नहीं, इसके कानूनी पहलुओं का अध्ययन कर रहे हैं। गृहमंत्री ने शुक्रवार को दोपहर 1 बजे से 5 बजे के बीच तीन बैठकें कीं। पहली बैठक विधि विभाग के प्रमुख सचिव मनोज कुमार व्यास, राज्य के महाधिवक्ता नरपत मल लोढ़ा और गृह सचिव मनीष चौहान के साथ, दूसरी प्रमुख सचिव दीपक उप्रेती व डीजीपी अजीत सिंह शेखावत के साथ की। दोनों बैठकों में कानूनी मसलों और शांति व्यवस्था पर फोकस रहा। तीसरी बैठक में उप्रेती के साथ सुप्रीम कोर्ट के ताजा आदेश पर चर्चा की।
    #सरकार ने उठाए 3 कदम
    1. संस्कृति विभाग फिल्म की आपत्तियों को देखे
    फिलहाल डिस्ट्रीब्यूटर्स ने फिल्म के राइट्स लेने से इनकार किया है। सरकार ऐसा लिखित में लेने का प्रयास कर रही है ताकि, विवाद आगे बढ़े ही नहीं। फिल्म रिलीज की नौबत ही नहीं आएगी। दूसरा- फिल्म प्रदर्शन से पहले संस्कृति विभाग फिल्म को देखे और इतिहास के साथ गड़बड़ की गई है तो उसे हटवाए।
    2. कानून-व्यवस्था नहीं बिगड़ने देंगे
    विवादित दृश्यों को नहीं हटाया जाता है तो फिर सरकार प्रदेश की कानून-व्यवस्था की स्थिति के अनुसार आगे कदम उठाएगी। कटारिया ने कहा कि कानूनन सरकार जो भी कार्रवाई कर सकती है, दायरे में रखकर कार्रवाई करेगी। फिल्म पर बैन लगाने संबंधी सवाल पर कहा कि यह अभी नहीं कहा जा सकता।
    3. सु्प्रीम कोर्ट के आदेश- याचिकाकर्ता की मांग पर चर्चा हो...फिल्म देखने को कमेटी संभव
    सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा है कि फिल्म सेंसर बोर्ड से पास नहीं हुई है। इसलिए, रोक लगाने से इनकार कर दिया। सरकार कोर्ट के आदेश का अध्ययन कर रही है। राजपूत समाज की ओर से प्रस्तुत आपत्तियों का भी अध्ययन करा रही है। फिल्म में जो आपत्तियां है इसके लिए सरकार कमेटी बनाकर फिल्म दिखवा भी सकती है।
    क्षत्राणी संकल्प राजपूत महिलाओं ने फिल्म के विरोध में बनाया संघर्ष मोर्चा
    पद्मावती फिल्म के विरोध में राजपूत महिलाओं ने क्षत्राणी संकल्प का गठन किया है। इसी के बैनर तले शुक्रवार को राजपूत सभा भवन में प्रेस वार्ता की। हेमेन्द्र कुमारी दूदू और सुमन कंवर ने बताया कि फिल्म के घूमर गाने में जो नृत्य पेश किया गया है यह हमारी परंपरा के अनुरूप नहीं है। भंसाली पहले राजपूतों की कमेटी को फिल्म दिखाएं, आपत्तिजनक दृश्यों को हटाएंगे। नहीं हटाए तो फिल्म चलने नहीं देंगे।
    पोस्टर फाड़ प्रदर्शन बजरंग दल ने कहा- पद्मावती फिल्म को रिलीज नहीं होने देंगे
    जयपुर में शुक्रवार को विहिप और बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने शहर में फिल्म के पोस्टर फाड़े। कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन दिया। दल के प्रांत संयोजक अशोक सिंह राजावत ने कहा कि राजस्थान वीर-वीरांगनाओं की धरती है, यहां पर वीर महिलाओं ने सतीत्व की रक्षा के लिए जौहर किए हैं, लेकिन संजय लीला भंसाली अपनी फिल्म में इतिहास के साथ छेड़छाड़ कर रहे हैं। इससे भावनाएं आहत हुई है। इस फिल्म का प्रदर्शन रोका जाए।
    ...और विवाद के बीच बयानों की बौछार
    महलों में शूटिंग नहीं होने दे : राठौड़
    श्रीगंगानगर से पूर्व विधायक एवं राजपूत नेता सुरेंद्र सिंह राठौड़ ने कहा है- पद्मावती विवाद को पूर्व राजपरिवारों से मेरा निवेदन है कि इतिहास को तोड़-मरोड़कर और विवादित फिल्में बनाने वाले फिल्मकारों को महल, किलों और होटलों में फिल्मांकन की इजाजत ही नहीं दें। जो पूर्व राजा-महाराजा पद्मावती को लेकर बोल रहे हैं लगता है उन्होंने पद्मावती के बारे में पढ़ा ही नहीं है।
    भंसाली पर देशद्रोह का केस हो : विश्वेंद्र
    पूर्व राज परिवार सदस्य एवं डीग-कुम्हेर विधायक विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि पद्मावती के इतिहास से छेड़छाड़ करने वाले संजय लीला भंसाली के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करवाने की मांग राज्य एवं केंद्र सरकार से की है। प्रदेश में जाट समाज इस फिल्म का विरोध करेगा। फिल्म से पद्मावती एवं मेवाड़ का इतिहास धूमिल होगा।
    पदमावती 36 कौम की आन, बान : धीरज
    कांग्रेस विधायक धीरज गुर्जर ने कहा है- पद्मावती केवल राजपूत समाज की ही नहीं बल्कि 36 कौम की आन, बान और शान की प्रतीक हैं। उनके शौर्य, त्याग काे राजस्थान ही नहीं बल्कि पूरे देश में जाना जाता है। फिल्म को लेकर जो भ्रांतियां है, उसे राज्य सरकार के स्तर पर दूर कराया जाए नहीं तो प्रदेश भर में आंदोलन चलाया जाएगा।
    गलत सीन से तकलीफ सरकार को : किरोड़ी
    राजपा के प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. किरोड़ीलाल मीणा ने कहा है- पद्मावती फिल्म से गलत सीन नहीं हटे तो इतना बड़ा आंदालेन खड़ा कर देंगे, जिससे सरकार और फिल्म मेकर्स की तकलीफें बढ़ जाएंगी। पद्मावती के वर्णन से हम हमारी जेनरेशन तैयार करते हंै। ऐसे में रुपए कमाने के लिए लोग हमारे इतिहास के साथ छेड़छाड़ करके खराब कर रहे हैं।
    किसी को ठेस नहीं पहुंचे : देवनानी
    शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा है- इतिहास के साथ छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं की जा सकती। राजपूत समाज ही नहीं बल्कि किसी समाज की भावनाएं आहत नहीं होनी चाहिए।
    सरकारी वेबसाइट में ही गलती : तिवाड़ी
    सांगानेर विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने कहा है- राजस्थान सरकार की वेबसाइट पर तथ्य डाला गया है कि पद्मावती अलाउद्दीन खिलजी की प्रेमिका थीं। सरकार को अपना स्टेंड स्पष्ट करना चाहिए।
  • पद्मावती फिल्म विवाद: संस्कृति विभाग देखेगा फिल्म, जांचेगा तथ्य; कानून व्यवस्था बिगड़ने की नौबत आई तो रोक पर विचार
    +3और स्लाइड देखें
  • पद्मावती फिल्म विवाद: संस्कृति विभाग देखेगा फिल्म, जांचेगा तथ्य; कानून व्यवस्था बिगड़ने की नौबत आई तो रोक पर विचार
    +3और स्लाइड देखें
  • पद्मावती फिल्म विवाद: संस्कृति विभाग देखेगा फिल्म, जांचेगा तथ्य; कानून व्यवस्था बिगड़ने की नौबत आई तो रोक पर विचार
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×