--Advertisement--

दिसंबर तक 1 घंटे में संचालित होंगी 16 फ्लाइटें, एयरपोर्ट के 65% हिस्से पर टैक्सी-वे

एयरपोर्ट पर यात्रियों की सुविधा के लिए एयरपोर्ट प्रशासन क्षमताओं को विकसित करेगा।

Danik Bhaskar | Nov 17, 2017, 09:07 AM IST

जयपुर. एयरपोर्ट पर यात्रियों की सुविधा के लिए एयरपोर्ट प्रशासन क्षमताओं को विकसित करेगा। विमानों के एकसाथ आवागमन के लिए टैक्सी ट्रैक का काम दिसंबर में काम पूरा हो जाएगा। इसके बाद एयरपोर्ट से 1 घंटे में 5 से 6 ज्यादा विमान संचालित किए जा सकेंगे। दरअसल अभी एयरपोर्ट से रोजाना 61 फ्लाइट संचालित हो रही हैं। अधिकतर एयरलाइंस का प्रयास है कि वे सुबह 7 से 9 बजे तक और शाम को 7 से शाम 9 बजे के बीच में फ्लाइट संचालित कर सकें।

जयपुर से वर्तमान में सुबह 2 घंटे की अवधि में 13 फ्लाइट और शाम को 2 घंटे की अवधि में 9 फ्लाइटें हैं। लेकिन जयपुर एयरपोर्ट पर इससे ज्यादा फ्लाइट्स को एक ही समय में ऑपरेट करने की क्षमता नहीं है। इसका कारण है कि 11500 फीट लम्बे इस रनवे पर बड़े जम्बो जेट विमानों का संचालन भी आसानी से हो सकता है लेकिन रनवे के समानांतर टैक्सी ट्रैक नहीं है। इस कारण फ्लाइट टेक ऑफ में देर होता है।

ये फायदा होगा टैक्सी-वे से
अभी जब कोई फ्लाइट लैंड करती है तो उसे लगभग 5-6 मिनट का समय लगता है। ऐसे में दूसरी फ्लाइट को पहली फ्लाइट के उतरने तक इंतजार करना पड़ता है। टैक्सी-वे से पार्किंग-वे में लगे हुए विमान जिन्हें टेक ऑफ करना है। वे सीधे टैक्सी-वे से रन-वे पर आकर उड़ान भर सकेंगे।

14 एकड़ जमीन अधिग्रहण के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजा
एयरपोर्ट निदेशक जेएस बलहारा ने बताया कि टैक्सी ट्रैक के बचे 35 फीसदी कार्य को पूरा करने के लिए 14 एकड़ जमीन चाहिए। इसके लिए एयरपोर्ट प्रशासन ने राज्य सरकार को अवगत करा दिया है। जमीन मिलने पर टैक्सी ट्रैक का निर्माण रनवे के जगतपुरा वाले अंतिम छोर तक पूरा कर लिया जाएगा। यह कार्य भी अगले साल के मध्य तक पूरा होने की उम्मीद है। गौरतलब है कि टैक्सी ट्रैक का निर्माण कार्य पूरा होने पर न केवल एक घंटे में अधिक विमान संचालित हो सकेंगे।