--Advertisement--

पद्मावती विरोध: दीपिका को नाक काटने की धमकी, गर्दन काटने पर 5 Cr. इनाम

शाही ट्रेन के पर्यटकों को चित्तौड़ लाने की बजाय उदयपुर ले जाने का फैसला।

Danik Bhaskar | Nov 17, 2017, 03:55 AM IST
चित्तौड़ में राजपूत समाज की महि चित्तौड़ में राजपूत समाज की महि

नई दिल्ली/जयपुर. फिल्म ‘पद्मावती’ पर बवाल थम नहीं रहा। अब तक इस फिल्म पर रोक की मांग को लेकर चल रहे विरोध-प्रदर्शन के बीच अब बयान भी हिंसक हो गए हैं। कोटा में गुरुवार को करणी सेना ने रैली निकाली। इस दौरान प्रदेशाध्यक्ष महिपाल मकराना ने धमकी दी है कि फिल्म रिलीज की तो शूर्पणखा की तरह अभिनेत्री दीपिका पादुकोण की नाक काट देंगे। मेरठ के एक राजपूत नेता ने फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली और दीपिका की गर्दन काटकर लाने वाले को पांच करोड़ रु. देने का ऐलान किया है।

- इस बीच लालसोट एमएलए किरोड़ीलाल मीणा ने फिल्म निर्माता भंसाली और एकट्रेस दीपिका के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए परिवाद पेश किया।

- करणी सेना के अध्यक्ष लोकेंद्र सिंह कालवी ने दावा किया कि दाऊद इब्राहिम ने फिल्म की फंडिंग की है। हिंदू वीरांगनाओं को बदनाम करने के लिए दाऊद के इशारे पर आपत्तिजनक दृश्य डाले गए हैं।

- सर्वसमाज की ओर से 17 नवंबर को चित्तौड़गढ़ किला बंद रखने का एलान किया गया है। इस दौरान पर्यटकों को भी प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

- उधर, केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने दीपिका का समर्थन करते हुए कहा कि अभिनेत्री या अभिनेताओं पर टिप्पणी उचित नहीं है। पद्मावती के सम्मान की बात करते हैं तो सभी महिलाओं के सम्मान का ध्यान रखना होगा।

हिंसा करने वालों की निशुल्क पैरवी जैसे बयान, पद्मिनी कहां की-इस पर भी विवाद
- भीलवाड़ा में भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष उम्मेदसिंह राठौड़ ने फिल्म प्रदर्शन के दिन 1 दिसंबर को हिंसा करने वालों के मुकदमे में निशुल्क पैरवी कराने की घोषणा की है।

- चित्तौड़गढ़ दुर्ग के पाडनपोल पर भंसाली के पुतले के बाद अब अभिनेत्री दीपिका के अलावा सलमान खान का पुतला भी लटकाया गया है।

शाही ट्रेन के पर्यटकों को चित्तौड़ लाने की बजाय उदयपुर ले जाने का निर्णय

- पद्मावती पर रोक की मांग को लेकर किले के पहले प्रवेशद्वार पाडनपोल पर गुरुवार को 8वें दिन भी धरना जारी रहा। सर्वसमाज संगठन से जुड़े जौहर स्मृति संस्थान के अध्यक्ष उम्मेदसिंह धौली के मुताबिक शुक्रवार को किला पर्यटकों के लिए बंद कराया जाएगा।

- बंद के एेलान को देखते हुए आईआरसीटीसी ने शाही ट्रेन पैलेस ऑन व्हील्स के पर्यटकों को चित्तौड़ दुर्ग दिखाए बगैर सीधे उदयपुर ले जाने का निर्णय लिया है। पुलिस व प्रशासन ने भी सुरक्षा के इंतजाम किए हैं।

- गौरतलब है कि यह किला अगर शुक्रवार को बंद रहता है तो ऐसा पहली बार होगा कि किसी आंदोलन को लेकर दुर्ग पर पर्यटकों के प्रवेश को बंद रखा जाएगा।

मुस्लिम भी राजपूतों का साथ दें : दरगाह दीवान

फिल्म के विरोध में अजमेर दरगाह दीवान भी उतर आए हैं। दरगाह दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन अली खान ने कहा कि भंसाली का आचरण विवादित लेखक सलमान रुश्दी, तसलीमा नसरीन और तारिक फतह की तरह धार्मिक भावनाएं भड़काने वाला है। इसमें राजपूत समुदाय की धार्मिक भावनाएं आहत की गई हैं और इसका विरोध जायज है। मुसलमानों को भी राजपूतों का समर्थन करना चाहिए।

फिल्म पर रोक के आदेश से पहले अदालतों को धीमा होना चाहिए : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने कहा कि बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता अटल है। सामान्य तौर पर इसमें हस्तक्षेप नहीं किया जा सकता।

चीफ जस्टिस ने कहा कि फिल्म, नॉवल, किताब, ड्रामा और डाॅक्यूमेंट्री पर किसी भी तरह की रोक का आदेश देने से पूर्व अदालतों को बहुत धीमा होना चाहिए, ताकि कलाकार, लेखक और निर्माता अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का आनंद ले सकें। डाक्यूमेंट्री फिल्म ‘द इनसिग्निफिकेंट मैन’ के प्रदर्शन पर रोक लगाने से जुड़ी याचिका खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह टिप्पणी की। याचिका में दावा किया गया था कि यह फिल्म दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के जीवन पर बनी है। यह फिल्म शुक्रवार को रिलीज हो रही है।

आगे की स्लाइड्स में देखें देशभर से सामने आईं विरोध की तस्वीरें...