--Advertisement--

ब्लास्ट वाली बिल्डिंग से 10 मी. दूरी पर हॉस्टल, दावा: 5 मी. दूरी पर कांच भी नहीं टूटने दूंगा

8125 वर्गमीटर भूमि पर चार ब्लॉक में ब्लास्ट के लिए 100 किलो बारूद काम आएगी

Danik Bhaskar | Nov 17, 2017, 09:01 AM IST

जयपुर/चंदवाजी. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर जेडीए ने 30 नवंबर तक निम्स यूनिवर्सिटी में कार्रवाई प्लान कर ली है। गुरुवार को डिमॉलिश एक्सपर्ट बी. सरवटे जेडीए के एनफोर्समेंट अधिकारियों के साथ निम्स यूनिवर्सिटी पहुंचे, जहां प्रभावित 4 बड़े ब्लॉक वाली 4-4 माले की बिल्डिंगों का विजिट कर ब्लास्ट की कार्रवाई फाइनल की। जेडीए 7 दिन में चारों भवनों के भीतर की ग्राउंड और प्रथम फ्लोर की सपोर्टिंग दीवारें तोड़ेगा। इसके बाद ब्लास्ट कर बिल्डिंगों को गिराया जाएगा। इसमें 100 से 125 किलो बारूद लगेगा। विजिट के दौरान चीफ एनफोर्समेंट ऑफिसर राजेंद्र सिंह, एसीपी और उप नियंत्रक प्रवर्तन सीमा भारती मौजूद थे। कार्रवाई शुक्रवार 9 बजे से शुरू होगी। गौरतलब है कि 2013 में भी जेडीए यहां ध्वस्तीकरण की कार्रवाई करने वाला था, लेकिन कोर्ट स्टे से मामला रुक गया था।

सरवटे का 230वां ब्लॉस्ट होगा, जयपुर में एरा के बाद निम्स में दूसरी कार्रवाई

भास्कर ने डिमॉलिश एक्सपर्ट सरवटे से मौके पर की सीधी बातचीत

Q. जो बिल्डिंगें ध्वस्त होनी है, उनका आपने विजिट कर लिया तो अब किस तरह कार्रवाई प्लान की है?

बिल्डिंगें 4 मंजिला है, जिनको ग्राउंड और पहले माले के भीतर सभी सपोर्टिंग दीवारें हटानी है। इसके बाद कॉलम में बारूद रखकर ब्लॉस्ट करेंगे।


Q. ऐसा ही करने की क्या खास वजह?
सर्पोट नहीं हटाएंगे तो ऊपर का माला बीच में अटक जाता है और फिर उसको हटाना बेहद मुश्किल काम है। पहले एक बार ऐसा वाकया सामने आया था।


Q. जो बिल्डिंगें तोड़ेंगे, उनके 10 मीटर की दूरी पर दूसरे हॉस्टल आदि भवन हैं, कहीं...?
(पूरे भरोसे के साथ कहा..) इसीलिए तो हम हैं। मैंने घनी बस्तियों के पास बिल्डिंगें गिराई है। पांच मीटर दूरी पर कांच की बिल्डिंग भी हो तो उसको भी कोई नुकसान नहीं होने देंगे।


Q. ब्लास्ट की कार्रवाई कब और कितने दिन होगी?
लम्बी चौड़ी बिल्डिंगों की सपोर्टिंग हटाने में करीब 7 दिन लगेंगे। इसके बाद हमको दो दिन लगेंगे। इस बीच जैसे-जैसे काम आगे बढ़ेगा प्लानिंग सटीक होती जाएगी।

9 बजे से हमारी कार्रवाई शुरू हो जाएगी
जेडीए: चीफ एनफोर्समेंट ऑफिसर राजेंद्र सिंह और उप नियंत्रक प्रवर्तन सीमा भारती के अनुसार, शुक्रवार सुबह 9 बजे से हमारी कार्रवाई शुरू हो जाएगी। बिल्डिंगों में भीतर से दीवारें हटाने के अलावा बाहर एरिया में कुछ दुकानें और दो भवनों में थोड़ा निर्माण आ रहा है, उसको हटाएंगे।

निम्स: वाइस चांसलर डॉ. बीआर मीणा (पूर्व हैल्थ डायरेक्टर) हम कार्रवाई में सहयोग कर रहे हैं। जेडीए को खुद के स्तर पर बिल्डिंगें हटाने के लिए समय मांगा था, लेकिन अब वो ही कार्रवाई कर रहे हैं। हमने सामान खाली कर लिया।

कार्रवाई के बाद क्या मिलेगा?

8125 वर्गमीटर (करीब साढ़े तीन बीघा) जमीन खाली होगी। इस जगह पर 4 बड़े-बड़े ब्लॉक में 4 मंजिला बिल्डिंगें बनी हुई है। जिनमें करीब 600 से ज्यादा कमरे रहवास के लिए बने थे। इसके साथ ही खाली जगह और कुछ दुकानें भी हैं। दो अन्य बिल्डिंगों का चार मंजिल तक कॉर्नर भी टूटेगा। जिसके लिए निम्स ने खुद के स्तर पर कार्रवाई की मांग की।

कार्रवाई के लिए आगे क्या?
ब्लास्ट की कार्रवाई के लिए नियमानुसार कलेक्टर से स्वीकृति ली जाएगी। कार्रवाई करने वाली फर्म के महेश लोकंडा जेडीए को एस्टीमेट देंगे। संभवतया 50 लाख और 100 से 125 किलो बारूद काम में आएगी।