• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • News
  • सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है

100 किलो बारूद और 50 किलो का गोला, इस तोप के गोले से बन गया तालाब / 100 किलो बारूद और 50 किलो का गोला, इस तोप के गोले से बन गया तालाब

जयगढ़ किले में रखी विश्व की सबसे बड़ी मानी जाने वाली तोप जिसके चलाने पर बन गया था तालाब।

dainikbhaskar.com

Nov 19, 2014, 12:39 AM IST
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
(जयगढ़ किले में रखी विश्व की सबसे बड़ी मानी जाने वाली तोप जिसके चलाने पर बन गया था तालाब।)
जयपुर. राजा-रजवाड़े के लिए पूरी दुनिया में फेमस जयपुर में एक ऐसी तोप रखी हुई है, जिसके गोले से शहर से 35 किलोमीटर दूर एक गांव में तालाब बन गया। आज भी यह तालाब मौजूद है और गांव के लोगों की प्यास बुझा रहा है। अरावली की पहाड़ियों पर बना जयगढ़ दुर्ग 1726 ई. में निर्मित इस किले में विश्व की सबसे बड़ी तोप रखी हुई है। जयगढ़ दुर्ग को जीत का किला भी कहा जाता है।
सबसे ताकतवर और भारी तोप

विश्व की सबसे बड़ी यह तोप जयगढ़ किले के डूंगर दरवाजे पर रखी है। तोप की नली से लेकर अंतिम छोर की लंबाई 31 फीट 3 इंच है। जब जयबाण तोप को पहली बार टेस्ट-फायरिंग के लिए चलाया गया था तो जयपुर से करीब 35 किमी दूर स्थित चाकसू नामक कस्बे में गोला गिरने से एक तालाब बन गया था।

35 किलोमीटर तक मार करने वाले इस तोप को एक बार फायर करने के लिए 100 किलो गन पाउडर की जरूरत होती थी। अधिक वजन के कारण इसे किले से बाहर नहीं ले जाया गया और न ही कभी युद्ध में इसका इस्तेमाल किया गया था। इस तोप को सिर्फ एक बार टेस्ट के लिए चलाया गया था। ऐसा कहा जाता है कि किले से दक्षिण की ओर 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित तालाब उसी टेस्ट फायर के गोले के गिरने से बना था।
19 नवंबर से लेकर 25 नवंबर तक वर्ल्ड हेरिटेज वीक मनाया जा रहा है। इस मौके पर dainikbhaskar.com उन धरोहरों के बारें में बता रहा है जिनकी महत्वता ने उनका नाम इतिहास में दर्ज करा दिया। भारत में ऐसे कई किले, उद्यान और जगह हैं जिन्हें विश्व विरासत में जगह मिली है। वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो इस सूची में शामिल होने की क्षमता रखते हैं। आज की कड़ी में हम एक ऐसे किले के बारे में बता रहे हैं जिसके अंदर रखा तोप दुनिया का सबसे बड़ा तोप माना जाता है।

आगे की स्लाइड्स में देखें जयगढ़ किले की अन्य खूबसूरत तस्वीरें
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
दुनिया की सबसे लंबी बंदूक

बंदूक के आविष्कार के साथ ही गोली को ज्यादा से ज्यादा दूरी तक सटीक मार करने लायक बनाना चुनौती थी। शुरुआत में लोगों ने जाना कि गन के बैरल की लंबाई अधिक होने पर गोली ज्यादा दूरी तक सटीक मार करती है। इसके बाद लंबी बैरल वाली बंदूकें सामने आईं। जयगढ़ के किले में रखी गई बंदूक उसी समय की है। इस बंदूक को दुनिया की सबसे लंबी बंदूकों में गिना जाता है।
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
(फोटो- जयगढ़ के इस किले की दीवार पर रखकर चलाई गई थी तोप।)
 
ऊंट की पीठ पर बांधी जाने वाली तोप

किले की रक्षा में तैनात ताकतवर और भारी तोपों का तभी इस्तेमाल होता था, जब कोई दुश्मन हमला करे। दूसरे राज्य पर हमला करने  के लिए इन भारी-भरकम तोपों को युद्ध भूमि तक ले जाना काफी कठिन था। इसी दौर में छोटे और हल्की तोपें बनाई गईं। इन तोपों को हाथी या ऊंट की पीठ पर बांधा जा सकता था। जयगढ़ के किले में रखी गई इस छोटी तोप को भी ऊंट की पीठ पर बांध कर चलाया जाता था। 
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
(फोटो- जयगढ़ की 100 साल पुरानी तस्वीर।)
 
कैसे आया तोप का आइडिया
 
ईसा पूर्व से ही चीन के लोगों को बारूद की जानकारी थी। प्राचीन काल में बारूद का इस्तेमाल किसी जगह पर तेजी से आग फैलाने के लिए किया जाता था। 13वीं शताब्दी में लोगों को यह पता चला की बारूद के इस्तेमाल से किसी भारी चीज को दूर तक फेंका जा सकता है। इसके बाद दो तरह की तोपें बनाई गई। पहली भारी और लंबी नालवाली और दूसरी छोटी नालवाली। 15वीं शताब्दी में हाथ में लेकर चलाने वाली तोपें भी बनाई गई थी, बात में बंदूकों ने इनका स्थान ले लिया।
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
(फोटो- तोप का गोला जिसका वजन 50 किलो तक होता था।)
 
पहले तोप से फेंके जाते थे पत्थर
 
शुरुआत में तोपों का इस्तेमाल पत्थरों को फेंकने के लिए किया जाता था। ये तोपें पहले तांबे और कांसे की बनीं फिर लोहे की बनने लगीं। 15वीं शताब्दी में तोपें 30 इंच परिधि की होती थीं और 1,200 से 1,500 पाउंड भार के पत्थर के गोले चलाती थीं। लोहे की तोपें आने के बाद लोगों ने देखा की पत्थर की जगह लोहे के गोले से ज्यादा नुकसान पहुंचाया जा सकता है। इसके बाद तोपों में लोहे के गोलों का इस्तेमाल किया जाने लगा और बैरल का व्यास कम हो गया।
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
जयपुर का सबसे ऊंचा किला
 
जयगढ़ किला जयपुर का सबसे ऊंचा दुर्ग है। यह नाहरगढ की सबसे ऊंची पहाड़ी चीलटिब्बा पर स्थित है। इस किले से जयपुर के चारों ओर नजर रखी जा सकती थी। यहां रखी दुनिया की सबसे विशाल तोप भी लगभग 50 किमी तक वार करने में सक्षम थी। यह भी कहा जाता है कि महाराजा सवाई जयसिंह जब मुगल सेना के सेनापति थे तब उन्हें लूट का बड़ा हिस्सा मिलता था। उस धन को वे जयगढ़ में छुपाया करते थे। इस दुर्ग में धन गड़ा होने की संभावना के चलते कई बार इसे खोदा भी गया।
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
शहर की सुरक्षा के लिए बना किला
 
अरावली की पहाडियों में चील का टीला पर स्थित यह किला आमेर शहर की सुरक्षा को पुख्ता करने के लिए 1726 में महाराजा जयसिंह द्वितीय ने बनवाया था। बाद में उन्हीं के नाम पर इस किले का नाम जयगढ़ पड़ा। मराठों पर विजय के कारण भी यह किला जय के प्रतीक के रूप में बनाया गया। 
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
जयपुर की सबसे ऊंची पहाड़ी पर बना है यह किला
 
इस किले में ही महत्वपूर्ण बैठकों के लिए एक असेंबली हॉल भी था। जयगढ़ किला जयपुर की सबसे ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। जयगढ़ दुर्ग का रास्ता भी आमेर घाटी से होते हुए नाहरगढ़ जाने वाले रास्ते पर है। शोध और इतिहास छात्रों के लिए यह किला बेहद खास है।
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
जयगढ़ और आमेर महल के बीच सुरंग
 
हाल ही में आमेर महल के कुछ भागों का नवीनीकरण किया गया। इसमें सबसे खास था आमेर महल से जयगढ़ जाने वाली सुरंग का तलाश कर फिर से गमन करने योग्य बनाना। जयगढ किले तक इस सुरंग की लंबाई लगभग 600 मीटर है। इस सुरंग से आमेर महल से जयगढ़ जाना बहुत आसान हो गया है। 
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
दुश्मनों से बचने के लिए हुआ था सुरंग का निर्माण
 
पहले आमेर महल से जयगढ़ तक जाने के लिए लगभग 11 किमी का रास्ता तय करना पड़ता था। आमेर और जयगढ़ को जोड़ने वाली  सुरंग का भी ऐतिहासिक महत्व है। यह सुरंग एक गोपनीय रास्ता थी जिसका इस्तेमाल राजपरिवार के लोग एवं विश्वस्त कर्मचारी जयगढ़ तक पहुंचने में किया करते थे। ऐतिहासिक तथ्यों के मुताबिक आमेर रियासत को सबसे ज्यादा खतरा मराठों से था। राजपरिवार को संभावित खतरे से बचाने के लिए जयगढ़ तक यह सुरंग बनाई गई।
 
आगे की स्लाइड्स में देखें किले की भव्य तस्वीरें
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
X
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
सबसे शक्तिशाली तोप, जहां इसका गोला गिरा वहां आज तालाब है
COMMENT