--Advertisement--

चोरी के आरोपी को पुलिस कोर्ट लाई थी, रिमांड मिला तो पहली मंजिल से कूद गया

घायल रामबाबू चिल्ला रहा था- पुलिस ने मुझे मार दिया

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2018, 06:41 AM IST
पुलिस अब आरोपी रामबाबू के खिला पुलिस अब आरोपी रामबाबू के खिला

जयपुर. ज्वैलरी दुकानदारों का ध्यान बंटाकर जेवर चोरी करने वाले आरोपी ने शुक्रवार शाम एसीएमएम-3 कोर्ट के बाहर पहली मंजिल से नीचे कूदकर जान देने का प्रयास किया। कोर्ट में जैसे ही उसकी जमानत अर्जी खारिज हुई, वह भागकर दीवार पर चढ़ा और पहली मंजिल से नीचे कूद गया।

फर्श पर गिरते ही लहूलुहान हो गया। अचानक हुई इस घटना के बाद कोर्ट में सनसनी मच गई। पुलिस ने घायल रामबाबू को एसएमएस ट्रोमा सेंटर पहुंचाया। घटना के बाद झोटवाड़ा थाना पुलिस अब आरोपी रामबाबू के खिलाफ पुलिस हिरासत से भागने और आत्महत्या का प्रयास करने का मुकदमा दर्ज कराएगी। रामबाबू के भाई लखनलाल खींची ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उसे दो दिन से अवैध हिरासत में ले रखा था। घटना के बाद हॉस्पिटल में रामबाबू की निगरानी के लिए चार पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

ज्वैलरी दुकानों में चोरी की 15 से ज्यादा वारदात कर चुका : एसीपी आश मोहम्मद ने बताया कि मार्च में झोटवाड़ा में ज्वैलरी कारोबारी महेन्द्र सोनी ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि उसकी दुकान में एक व्यक्ति आया और ज्वैलरी देखने के दौरान 55 ग्राम सोने के जेवर ले गया। घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। पुलिस आरोपी की तलाश कर ही थी। पांच माह बाद फिर आरोपी गुरुवार को महेन्द्र सोनी की दुकान पहुंचा। महेन्द्र साेनी ने उसे पहचान लिया। उसने पुलिस को सूचना दी। पुलिस पहुंची और फुटेज के आधार पर रामबाबू को गिरफ्तार कर लिया। जांच में सामने आया कि रामबाबू ने ज्वैलरी की दुकानों में चोरी की 15 से ज्यादा वारदात की है।

जमानत नहीं, रिमांड मिला तो कूद गया रामबाबू : जांच अधिकारी पदम सिंह, कांस्टेबल महावीर सिंह व एक अन्य पुलिसकर्मी शुक्रवार दाेपहर बाद 3.30 बजे सेशन कोर्ट में रामबाबू को लाए थे। रामबाबू की जमानत अर्जी खारिज हो गई थी और चोरी के माल की बरामदगी के लिए कोर्ट ने एक दिन के पुलिस रिमांड के आदेश दिए थे। तब तक वह कोर्ट के बाहर पहली मंजिल पर बरामदे में बैठा था। वहां पर रामबाबू के पास पुलिसकर्मी, वकील और उसके परिजन भी मौजूद थे। अचानक रामबाबू उठकर भागा और दीवार पर चढ़कर पहली मंजिल से नीचे कूद गया। पुलिसकर्मी घायल रामबाबू को उठाकर उपचार के लिए ट्रोमा सेंटर ले आए।

परिजन करने लगे ट्रोमा सेंटर के बाहर हंगामा: घटना की सूचना पर रामबाबू के परिजन ट्रोमा सेंटर पहुंच गए। जहां पर परिजन चीखने-चिल्लाने लगे। तब वहां पर पुलिस अधिकारी और अशोक नगर थाना पुलिस का जाप्ता मौके पर पहुंच गया। पुलिस ने परिजनों को शांत कराया और उन्हें आरोपी से मिलने दिया। तब परिजन शांत हुए। घायल रामबाबू बार-बार कह रहा था कि - पुलिस ने मुझे मार दिया।

X
पुलिस अब आरोपी रामबाबू के खिलापुलिस अब आरोपी रामबाबू के खिला
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..