जयपुर / बहन ने ओढ़नी फाड़कर शहीद को राखी बांधी; 10 साल के बेटे ने मुखाग्नि दी

राजकीय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया गया। राजकीय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया गया।
शहीद की पार्थिव देह काे सम्मान के साथ गांव लाया गया। शहीद की पार्थिव देह काे सम्मान के साथ गांव लाया गया।
लुहाकना खुर्द निवासी नायक राजीव सिंह। -फाइल लुहाकना खुर्द निवासी नायक राजीव सिंह। -फाइल
शहीद के बेटे को हिम्मत बंधाते मंत्री प्रताप सिंह चचरियावास और सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौड़। शहीद के बेटे को हिम्मत बंधाते मंत्री प्रताप सिंह चचरियावास और सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौड़।
शहीद की पार्थिव देह गांव पहुंची तो श्रद्धांजलि देने उमड़ पड़ा गांव। शहीद की पार्थिव देह गांव पहुंची तो श्रद्धांजलि देने उमड़ पड़ा गांव।
अंत्येष्टि स्थ्ल पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। अंत्येष्टि स्थ्ल पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।
India Army Jawan; Army Jawan cremated with full state honor In Jaipur
X
राजकीय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया गया।राजकीय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया गया।
शहीद की पार्थिव देह काे सम्मान के साथ गांव लाया गया।शहीद की पार्थिव देह काे सम्मान के साथ गांव लाया गया।
लुहाकना खुर्द निवासी नायक राजीव सिंह। -फाइललुहाकना खुर्द निवासी नायक राजीव सिंह। -फाइल
शहीद के बेटे को हिम्मत बंधाते मंत्री प्रताप सिंह चचरियावास और सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौड़।शहीद के बेटे को हिम्मत बंधाते मंत्री प्रताप सिंह चचरियावास और सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौड़।
शहीद की पार्थिव देह गांव पहुंची तो श्रद्धांजलि देने उमड़ पड़ा गांव।शहीद की पार्थिव देह गांव पहुंची तो श्रद्धांजलि देने उमड़ पड़ा गांव।
अंत्येष्टि स्थ्ल पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।अंत्येष्टि स्थ्ल पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।
India Army Jawan; Army Jawan cremated with full state honor In Jaipur

  • जयपुर के लुहाकना खुर्द गांव के रहने वाले थे राजीव सिंह, राजकीय सम्मान से पैतृक गांव में हुई अंत्येष्टि
  • वे 8 फरवरी को कश्मीर में पाक सेना द्वारा संघर्ष विराम उल्लंघन में की गई गोलीबारी में शहीद हुए

दैनिक भास्कर

Feb 10, 2020, 07:32 PM IST

भाभरू (जयपुर). जम्मू-कश्मीर के पुंछ में पाकिस्तानी गोलीबारी में शहीद हुए नायक राजीव सिंह का रविवार को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। शहीद की बहन सीमा कंवर ने अपनी ओढ़नी फाड़कर भाई को राखी बांधी और अंतिम सफर पर विदा किया। शहीद के 10 साल के बेटे अधिराज सिंह ने मुखाग्नि दी। उसने कहा- सेना में भर्ती होकर पाकिस्तान को सबक सिखाऊंगा। मेरे दादा भी सेना में थे। पिताजी ने देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए।

दरअसल, इससे पहले शहीद राजीव की पार्थिव देह रात को दिल्ली से प्रागपुरा लाया गया था। वहां से रविवार सुबह शहीद के पार्थिव देह को लुहाकना खुर्द स्थित घर ले जाया गया। प्रागपुरा से लुहाकना खुर्द तक 15 किमी तक के सफर में लोग मौजूद रहे। इस दौरान लोग राजीव सिंह अमर रहे, भारत माता की जय, वन्देमातरम के नारे लगाते रहे।

नियंत्रण रेखा पर अग्रिम चौकी पर तैनात थे

जयपुर ग्रामीण सांसद कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ भी शहीद की शवयात्रा में शामिल हुए। जिस सैन्य वाहन में शहीद की पार्थिव देह रखी थी, उसी में मौजूद थे। राजीव सिंह कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर अग्रिम चौकी पर तैनात थे। 8 फरवरी को पाकिस्तानी सेना ने संघर्ष विराम का उल्लंघन किया। इस दौरान हुई गोलीबारी में राजीव सिंह शहीद हो गए थे।

2002 में हुए थे भर्ती, अगले साल था रिटायरमेंट
36 साल के राजीव सिंह 2002 में सेना में भर्ती हुए थे। वर्तमान में सेना के 5 राजपूत ग्रुप में नायक के पद पर तैनात थे। ग्रामीणों ने बताया कि राजीव सिंह दिसम्बर माह में छुट्टी पर घर आए थे। आठ जनवरी को ड्यूटी पर लौटे थे। ठीक एक महीने बाद उनकी शहादत की खबर मिली। राजीव सिंह जनवरी में ही श्रीगंगानगर से जम्मू कश्मीर में पदस्थापित हुए थे। शहीद के परिवार में पिता शंकर सिंह, मां पुष्पा कंवर, पत्नी उषा कंवर और 10 साल का बेटा अधिराज है।

रिपोर्ट और फोटो: मुकेश प्रजापत, विपिन कुमार कौशिक

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना